BREAKING NEWS

FB ने अपना नाम बदल कर किया Meta , फेसबुक के CEO मार्क जुकरबर्ग का ऐलान◾T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾

पाकिस्तान के बाद बांग्लादेश में सांप्रदायिकता की भेंट चढ़े 4 मंदिर, हिंदुओं के घरों और दुकानों में हुई लूट

दक्षिणी खुलना के रूपा उपजिला के शियाली गांव में चार मंदिरों, कई मूर्तियों, छह दुकानों और हिंदू लोगों के कुछ घरों में तोड़फोड़ के मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि यह घटना शनिवार दोपहर को हुई, जिसके बाद इलाके में तनाव की स्थिति पैदा हो गई और अधिकारियों को अतिरिक्त पुलिस बल तैनात करना पड़ा।

स्थानीय लोगों ने बताया कि महिला श्रद्धालुओं के एक समूह ने शुक्रवार रात करीब 9 बजे पुरबा पारा मंदिर से शियाली श्मशान घाट तक जुलूस निकाला। उन्होंने रास्ते में एक मस्जिद पार की थी, इस दौरान मस्जिद के उपदेशक इमाम ने चिल्लाते हुए जुलूस का विरोध किया। इससे हिंदू भक्तों और इस्लामी मौलवी के बीच तीखी बहस हुई। तय हुआ कि शनिवार को इस मामले को पुलिस के समक्ष उठाया जाएगा।

गिरफ्तारियां शनिवार रात दर्ज कराई गई शिकायत के बाद की गई हैं। हालांकि पुलिस ने यह नहीं बताया कि इस मामले में किसे आरोपित किया गया और किसे गिरफ्तार किया गया। पुलिस के मुताबिक शनिवार शाम करीब पांच बजकर 45 मिनट पर करीब सौ हमलावर गांव पहुंचे। हथियारों के साथ तोड़फोड़ शुरू कर दी। हिंसा के दौरान, चार मंदिरों को उजाड़ दिया गया और एक घर में तोड़फोड़ की गई। साथ ही शियाली गांव में हिंदू समुदाय के लोगों की छह दुकानों में तोड़फोड़ की गई।

स्थानीय पूजा उज्जैन परिषद के अध्यक्ष शक्तिपाद बसु ने कहा कि पुलिस ने हिंदुओं का पीछा किया जब वे शियाली कैंप पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराने गए थे। घाटभोग संघ के अध्यक्ष साधन अधिकारी ने भी गांव पहुंचकर बताया कि गांव में इस तरह की हिंसा और तोड़फोड़ पहले कभी नहीं हुई थी।  बसु ने बताया कि सौ से अधिक इस्लामवादियों ने हुकुम, दरांती से हमला किया और सामूहिक विनाश किया। 

उन्होंने बाजार में गणेश मलिक की दवा की दुकान, श्रीवास्तव मलिक की किराना दुकान, सौरव मल्लिक की चाय और किराने की दुकान, अनिर्बान हीरा और उनके पिता की दुकान में तोड़फोड़ की। हिंदुओं ने बीच-बचाव करने की कोशिश की तो बदमाशों ने मारपीट कर उन्हें बुरी तरह घायल कर दिया। इससे पहले कि ग्रामीण एकजुट होते और संघर्ष करते, आरोपी युवक मौके से फरार हो गए।

साथ ही शिबपद धार के आवास को भी बदमाशों ने लूट लिया। उनके घर में 'गोविंदा मंदिर' में भी तोड़फोड़ की गई। जिन अन्य मंदिरों को अपवित्र किया गया उनमें शियाली पुरबापारा का 'हरि मंदिर', दुर्गा मंदिर और शियाली महासंशन मंदिर शामिल हैं।

उपजिला निबार्ही अधिकारी (यूएनओ) रुबैया तसनीम ने कहा कि शनिवार की घटना के तुरंत बाद उन्होंने प्रशासन और पुलिस अधिकारियों के साथ स्थानीय हिंदू और मुस्लिम समुदाय के नेताओं से मुलाकात की थी। तसनीम ने कहा, हम, जिला प्रशासन और कानून प्रवर्तन अधिकारी, तुरंत वहां गए और संघर्ष को सुलझाने के लिए स्थानीय लोगों से मिले।

रूपशा थाना प्रभारी सरदार मुशर्रफ हुसैन ने कहा कि इलाके में स्थिति शांत है। रूपसा के यूएनओ और थाने के ओसी दोनों ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच इस आरोप को लेकर बहस हुई थी कि हिंदू समुदाय के सदस्य शुक्रवार शाम को मस्जिद में नमाज के दौरान 'गायन' कर रहे थे, जिसे उन्होंने 'गलतफहमी' बताया।'

हालांकि, रूपा उपजिला के यूएनओ ने कहा कि 'संघर्ष' को उसी दिन सुलझा लिया गया था और शनिवार के हमले का घटना से कोई लेना-देना नहीं था। नाम न छापने की मांग करने वाले स्थानीय लोगों ने पास के चांदपुर गांव के युवक पर हमले की साजिश रचने का आरोप लगाया।