BREAKING NEWS

कश्मीरी पंडित की हत्या पर उमर अब्दुल्ला सहित कई राजनेताओं ने जताया दुख, जानिए क्या कहा? ◾Amul Milk Price Hiked: देश में महंगाई का कहर! अमूल मिल्क के बढ़े दाम, इतने लीटर महंगा हुआ दूध◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने की मुलाकात ◾नीतीश को घेरने के लिए बीजेपी आलाकमान ने बुलाई बैठक, बिहार इकाई के प्रमुख नेता होंगे शामिल ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾मुम्बई में बारिश को लेकर मौसम विभाग का बड़ा अलर्ट, 24 घंटे के अंदर होगी झमाझम बारिश ◾गहलोत के अर्धसैनिक बलों के ट्रकों में 'अवैध धन' ले जानें वाले बयान पर बीजेपी का पलटवार, जानिए मामला◾J-K News: जम्मू कश्मीर के पहलगाम में दर्दनाक हादसा, 39 जवानों की बस खाई में गिरी, 6 की मौत, जानें स्थिति ◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों ने दो कश्मीरी पंडित भाइयों पर बरसाई गोलियां, एक की मौत, एक घायल◾बिहार : नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल के 31 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली, कांग्रेस नेता भी शामिल ◾कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने उठाई 3 दशकों से जेल में बंद सिख कैदियों की रिहाई की मांग ◾भारत में शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए केंद्र दिल्ली सरकार की विशेषज्ञता का उपयोग करें : CM केजरीवाल ◾भारतीय फुटबॉल प्रशंसकों को बड़ा झटका! फीफा ने महिला अंडर-17 विश्व कप की मेजबानी छीनी, AIFF पर लगाया प्रतिबंध ◾Gujarat News : आवारा पशुओं से बढ़ रहा हादसे का खतरा, सरकार के दावों की खुली पोल ◾CM योगी आदित्‍यनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर दी श्रद्धांजलि◾Covid-19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना वायरस के 8,813 केस दर्ज़, 29 मरीजों की मौत ◾अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि आज, राष्ट्रपति द्रौपदी और पीएम मोदी ने 'सदैव अटल' समाधि पर की पुष्पांजलि◾अमेरिका के राष्ट्रपति बाइडन ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पीएम मोदी और राष्ट्रपति मुर्मू को लिखा पत्र◾कांग्रेस का महंगाई पर हल्ला बोल: 28 अगस्त की रैली से पहले बुलाई पार्टी पदाधिकारियों की बैठक ◾

अफगानिस्तान : UN अधिकारी ने किया दावा, देश में 40 लाख बच्चे कर रहे हैं कुपोषण का सामना

अफगानिस्तान में चल रहे मानवीय संकट के बीच संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि देश में 40 लाख बच्चे कुपोषण का सामना कर रहे हैं। मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के संचालन और वकालत विभाग में निदेशक, रीना घेलानी, जिन्होंने हाल ही में अफगानिस्तान में मानवीय संकट का आकलन करने के लिए काबुल का दौरा करने वाले संयुक्त राष्ट्र प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। उन्होंने कहा कि कम से कम 40 लाख अफगान बच्चों के कुपोषण से प्रभावित होने की आशंका है, जिनमें से 2022 में 1,37,000 बच्चों की जान चली जाएगी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कई अफगान नागरिकों द्वारा संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों को दी जाने वाली सहायता के अनुचित वितरण के बारे में शिकायत करने के बाद प्रतिनिधिमंडल ने अफगानिस्तान का दौरा किया।

लोगों से ज्यादा बात करने और उनकी शिकायतों को सुनने की जरूरत है : घेलानी 

घेलानी ने एक विशेष साक्षात्कार में मीडिया को बताया कि, हमें वहां लोगों से ज्यादा बात करने और उनकी शिकायतों को सुनने की जरूरत है। हमें निश्चित रूप से यह सुनने की जरूरत है कि क्या वहां कोई समस्या है और यह उस मिशन का हिस्सा है जिस पर हम गए हैं। उन्होंने कहा, मैंने इसमें अपना अधिकांश समय बिताया है ताकि हम सभी अफगान लोगों से उन सटीक मुद्दों के बारे में बात करें और उनसे सीधे सुने, जिससे हम सुनिश्चित कर सकें कि हम सही तरीके से काम कर रहे हैं। अर्थशास्त्रियों का मानना है कि लोगों को सीधे नकद देने से अफगान आर्थिक व्यवस्था को मदद मिलेगी।

संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रदान की जाने वाली सहायता का आकलन करना चाहिए

विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अब्दुल नसीर रिश्तिया ने कहा, अगर सहायता नकद में दी जाती है, तो इससे अफगान मुद्रा के मूल्य में मदद मिलेगी और बाजारों में नकदी की समस्या हल हो जाएगी। मुजमिल शिनवारी ने कहा, सरकार को संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रदान की जाने वाली सहायता का आकलन करना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र संगठनों के अनुबंधों को (सरकार के साथ) साझा किया जाना चाहिए और सरकार को इसकी जांच करनी चाहिए कि क्या उन लोगों को सहायता प्रदान की जाए जो इसके लायक हैं। 

90 लाख को भोजन की सख्त जरूरत है : संयुक्त राष्ट्र 

संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधिमंडल ने चेतावनी दी है कि कम से कम 1.8 करोड़ अफगान खाद्य असुरक्षा का सामना कर रहे हैं और उनमें से 90 लाख को भोजन की सख्त जरूरत है। घेलानी ने कहा, अब समय आ गया है। हमारे पास इंतजार करने का समय नहीं है। हमें अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाना है और हमें लोगों को आज उम्मीद देनी है। पूर्व सरकार के पतन के बाद अफगानिस्तान में आए कई संकटों से पीड़ित लाखों अफगानों के साथ ब्रिटेन ने पहले घोषणा की है कि वह अफगान मानवीय स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन की सह-मेजबानी करेगा।