BREAKING NEWS

पाकिस्तान में बाढ़ से हाहाकार! नहीं थम रहा प्रकोप, मरने वालों की संख्या इतने हजारों तक पहुंची ◾ हरियाणा उपचुनाव : आदमपुर जीतने के लिए 'आप' ने झोंकी ताकत, प्रचार के लिए भारी संख्या में उतारेंगी विधायक ◾लद्दाख : भूस्खलन की चपेट में आए सेना के तीन वाहन, 6 जवानों की मौत◾एंटीलिया मामले में सचिन वाजे पर UAPA के तहत चलेगा केस, दिल्ली HC ने खारिज की याचिका ◾हिंदुओं पर हमलों करने वालों के खिलाफ संयुक्त होकर लड़ना होगा - सांसद स्टारर ◾क्या है कर्नाटक में कांग्रेस का 'प्लान 60'? 'भारत जोड़ो यात्रा' में सोनिया के शामिल होने का खुला राज◾BJP सांसद की याचिका पर JMM नेता शिबू सोरेन को दिल्ली हाई कोर्ट का नोटिस◾केजरीवाल के मंत्री पर बीजेपी ने लगाया बड़ा आरोप, कहा - राम और कृष्ण की पूजा ना करने की दिलाई शपथ◾दिल्ली : केंद्रीय विद्यालय में 11 साल की छात्रा के साथ गैंगरेप, आरोपियों के खिलाफ POCSO एक्ट के तहत केस दर्ज◾गहलोत गुट के मंत्रियों पर सोनिया गांधी ने दिखाई नरमी, फिर टूटेगा पायलट का सपना?◾दिल्ली में Anti Dust अभियान शुरू, 14 नियमों का पालन जरूरी, उल्लंघन करने पर पांच लाख का जुर्माना◾Karnataka : दशहरे पर भीड़ ने मदरसे में घुसकर की जबरन पूजा, मुस्लिम संगठनों ने दी चेतावनी ◾मुंबई से 120 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त, Air India के पूर्व पायलट समेत 2 गिरफ्तार◾झारखंड के दुमका में फिर लड़की के साथ हैवानियत की हदें पार, शादी से मना करने पर प्रेमी ने पेट्रोल डालकर जलाया ◾Rupee Value : नहीं संभल रहा रुपया, डॉलर के मुकाबले 82.33 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंचा◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 1,997 नए मामले दर्ज, 9 लोगों की मौत◾अमेरिका : 20 वर्षीय भारतीय-अमेरिकी स्टूडेंट की हत्या, आरोपी कोरियाई रूममेट गिरफ्तार◾उत्तराखंड हिमस्खलन : अब तक 19 शव बरामद, 80 घंटे बाद भी रेस्क्यू ऑपरेशन जारी◾असम के तीन दिवसीय दौरे पर अमित शाह-जेपी नड्डा, बीजेपी कार्यालय का करेंगे उद्घाटन◾'भारत जोड़ो यात्रा' में आज प्रियंका गांधी वाड्रा नहीं होंगी शामिल, जानिए वजह◾

US में जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद दुनियाभर में ऐतिहासिक स्मारकों पर हमला जारी

अमेरिका में काले व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के बाद कान्फेडरेट स्मारकों को हटाने के अभियान ने जोर पकड़ लिया है और अब यह क्रिस्टोफर कोलंबस, सेसिल रोड्स और बेल्जियम के राजा लियोपोल्ड द्वितीय की प्रतिमाएं हटाने समेत दुनियाभर में फैल गया है। सदियों से हो रहे नस्लीय अन्याय के खिलाफ बोस्टन, न्यूयॉर्क, पेरिस, ब्रसेल्स और ऑक्सफोर्ड, इंग्लैंड जैसे शहरों में प्रतिमाएं तोड़ने की घटनाएं सामने आयी हैं।

विद्वानों की राय इस बात को लेकर बंटी हुई है कि यह अभियान इतिहास को मिटाने के लिए है या उसमें सुधार करने के लिए। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में प्रदर्शनकारियों ने विक्टोरियाई साम्राज्यवादी रोड्स की प्रतिमा हटा दी जो दक्षिण अफ्रीका में केप कॉलोनी के प्रधानमंत्री रहे थे। उन्होंने सोने और हीरे की खदानों का जमकर दोहन किया जहां खनिकों से क्रूर परिस्थितियों में मजदूरी कराई गई।

हालांकि ऑक्सफोर्ड की कुलपति लुइस रिचर्डसन ने बीबीसी को दिए एक साक्षात्कार में इस पर ऐतराज जताया। उन्होंने कहा, ‘‘हमें इतिहास को चुनौती देने की जरूरत है। मेरी राय है कि इतिहास को छिपाना ज्ञानोदय का रास्ता नहीं है।’’ वहीं, इंग्लैंड के ब्रिस्टल में प्रदर्शनकारियों ने 17वीं सदी के व्यापारी एडवर्ड कोल्सटन की प्रतिमा उखाड़ दी। शहर के अधिकारियों ने बताया कि इसे एक संग्रहालय में लगाया जाएगा।

बेल्जियम में छह से अधिक शहरों में लियोपोल्ड द्वितीय की प्रतिमाओं को विरूपित किया गया। कांगो पर राजा के क्रूर शासन को याद करते हुए ऐस किया गया जहां एक सदी से अधिक समय पहले उन्होंने करोड़ों लोगों को अपने लाभ के लिए रबड़, हाथी दांत और अन्य संसाधनों के खनन के लिए दासता के लिए मजबूर किया। विशेषज्ञों का कहना है कि उनके अत्याचार के चलते एक करोड़ लोग मारे गए थे।

कांगो में एक कार्यकर्ता मिरेली रॉबर्ट ने कहा, ‘‘हमारी राय में लियोपोल्ड ने जनसंहार किया था।’’ अमेरिका में बुधवार रात को वर्जीनिया के प्रसिद्ध मॉन्यूमेंट ऐवेन्यू रिचमॉन्ड में प्रदर्शनकारियों ने जेफरसन डेविस की प्रतिमा तोड़ दी। परिसंघीय राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति रहे डेविस की प्रतिमा रात को लगभग 11 बजे गिरा दी गई और यह चौराहे पर बीचोंबीच मिली। इससे पहले मंगलवार को रिचमॉन्ड में क्रिस्टोफर कोलंबस की एक प्रतिमा को प्रदर्शनकारियों ने गिरा दिया था और आग लगाकर झील में डाल दिया।

पेट्रोल साढ़े चार महीने और डीजल 19 माह के उच्चतम स्तर पर, जानिए आज का भाव

कान्फेडरेट दक्षिणी अमेरिकी राज्यों का संघ था जिसने अमेरिकी गृह युद्ध में उत्तरी राज्यों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी और इसे 1865 में परास्त कर दिया गया था। ये स्मारक उसी काल के हैं । इस संघ की स्थापना 1861 में की गयी थी और यह दास प्रथा को जारी रखने के पक्ष में था। ये प्रतिमाएं ऐसे समय में तोड़ी जा रही हैं जब देशभर में काले व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के खिलाफ प्रदर्शन चल रहे हैं।

मिनियापोलिस में एक श्वेत पुलिस अधिकारी ने अपने घुटने से फ्लॉयड की गर्दन दबाई थी जिससे उसकी मौत हो गई थी।फ्लॉयड की मौत के बाद देशभर में कान्फेडरेट स्मारकों को तोड़ा गया है। कुछ लोगों का कहना है कि ये प्रतिमाएं अनुचित रूप से उन लोगों का महिमामंडन करती हैं जिन्होंने दास प्रथा को बनाए रखने के लिए विद्रोह का नेतृत्व किया।