BREAKING NEWS

पाकिस्तान में भुखमरी जैसे हालात: मुफ्त आटा लेना के प्रयास में 11 लोगों की मौत, 60 घायल◾AAP को तत्काल राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा दें, संजय सिंह की EC से मांग◾अखिलेश यादव बोले- किसानों को अपमानित और प्रताड़ित कर रही है भाजपा सरकार◾National Anthem Disrespect Case: ममता बनर्जी की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने पुलिस को दिए जांच के निर्देश◾हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, फसल बीमा न कराने वाले किसानों को भी मिलेगा हर्जाना ◾30 मार्च को उत्तराखंड का दौरा करेंगे गृहमंत्री अमित शाह, इन कार्यक्रमों में होंगे शामिल ◾CM केजरावाल ने कहा- PM मोदी जब प्रधानमंत्री नहीं रहेंगे तब पूरा देश होगा भष्ट्राचार मुक्त◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कहा- स्वस्थ लोकतंत्र के लिए सही जानकारी आक्सीजन के समान◾कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. शमा मोहम्मद ने केंद्र पर बोला हमला, कहा- मोदी ने 'परम मित्र' अडानी को बचाने के लिए लोकतंत्र को पहुंचाया नुकसान ◾कुरान जलाने पर हुआ हंगामा, इस्लामिक देशों में दिखा गुस्सा, जानिए पूरा मामला ◾‘जिस क्षण राजनीति और धर्म...’ , हेट स्पीच पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कही ये बड़ी बात ◾सावरकर विवाद पर मतभेदों को खत्म के लिए राहुल और संजय राउत बीच हुई बैठक◾नीतीश कुमार ने किया PM मोदी पर कटाक्ष, कहा- कोई काम नहीं हो रहा, केवल प्रचार हो रहा◾ओडिशा के झारसुगुडा विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव के लिए 10 मई को डाले जाएंगे वोट◾आदिपुरुष फिल्म पर सैफ अली खान और कृति सेनन सहित 10 के खिलाफ कोर्ट का नोटिस◾प्रह्लाद जोशी ने किया दावा, कर्नाटक विधानसभा चुनाव में BJP की दूसरी बार बहुमत के साथ बनेगी सरकार◾Google vs CCI: गूगल को बड़ा झटका, NCLAT ने 1337.76 करोड़ रुपये के जुर्माने को बरकरार रखा◾CM योगी ने कहा- गरीबी और कमजोरों को उजाड़ने वाले नहीं जाए बख्शे◾जब अतीक कोर्ट में बोला- जेल में बंद आदमी से पिस्टल क्यों मंगवाऊंगा, मेरे पास उससे अच्छी पिस्टल थी◾भाजपा के दिग्गज नेता गिरीश बापट का निधन, पुणे लोकसभा सीट से थे सांसद ◾

पाकिस्तान को धमकी के बाद अफगानिस्तान ने भारत संग बढ़ाई नजदीकी, जानिये क्या है कूटनीतिक दांव

अफगानिस्तान के शहरी विकास और आवास मंत्रालय ने कहा हैं कि काबुल में भारतीय प्रभारी राजदूत, भरत कुमार ने दोनों देशों के बीच के संबंधों को सुधारने और दिल्‍ली की परियोजनाओं को फिर से शुरू करने में भारत की रुचि व्यक्त की है भरत कुमार ने शहरी विकास और आवास मंत्री हमदुल्ला नोमानी के साथ एक बैठक में यह टिप्पणी की।

 देश में विकास को बढ़ावा मिलेगा

आपको बता दें कि शहरी विकास और आवास मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद कमाल अफगान ने कहा, "ये परियोजनाएं पूर्ववर्ती सरकार के दौरान लागू की गई थीं, लेकिन राजनीतिक परिवर्तन या अन्य मुद्दों के कारण उसमें देरी हुई। वे अब इनपरियोजनाओं को फिर सेशुरू करने में रुचि दिखा रहे हैं।" टोलो न्यूज़ ने बताया कि अर्थशास्त्रियों ने कहा है कि उनका मानना है कि भारतीय परियोजनाओं के कार्यान्वयन से अफगानिस्तान में नौकरी के अवसर बढ़ेंगे और देश में विकास को बढ़ावा मिलेगा।

बेरोजगारी होगी कम 

नुमानी ने आगे कहा, "भारत ने पूर्व में अफगानिस्तान में कुछ परियोजनाओं को लागू किया था, जबकि भुगतान न होने के कारण उनमें से कुछ अधूरी रह गई थीं।"उन्होंने भारत सरकार से अधूरी परियोजनाओं के बारे में भी अपना रुख स्पष्ट किया।स्थानीय लोगों का मानना है कि परियोजनाओं को लागू करने से नौकरी के अवसर बढ़ेंगे, गरीबी और बेरोजगारी कम होगी और देश में विकास को बढ़ावा मिलेगा। इसके अलावा, अफगान इंजीनियरों की क्षमता को और बढ़ाने के लिए भारतीरसे नागरिक और शहरी विकास क्षेत्र में मास्टर और पीएचडी डिग्री के लिए अफगान नागरिकों को छात्रवृत्ति प्रदान करने का अनुरोध किया गया है।