BREAKING NEWS

देश में एक्टिव केस में कमी दर्ज, कोरोना मामले साढ़े 77 लाख के पार◾BJP के फ्री कोरोना वैक्सीन पर बोली शिवसेना-तुम मुझे वोट दो, हम तुम्हें वैक्सीन देंगे◾राहुल का पीएम मोदी पर तंज- तुम्हारे दावों में बिहार का मौसम गुलाबी है, मगर आंकड़े झूठे हैं और दावा किताबी है◾TOP 5 NEWS 23 OCTOBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾बिहार में आज से सियासी तापमान बढ़ने की उम्मीद, चुनाव प्रचार में पीएम मोदी और राहुल गांधी की एंट्री◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 4 करोड़ 15 लाख के पार, 11 लाख 35 हजार से अधिक की मौत◾कांग्रेस ने विकास नहीं, भ्रष्टाचार की खींची लकीरें : सिंधिया◾MP विधानसभा उपचुनाव लड़ रहे तुलसीराम सिलावट एवं गोविन्द सिंह राजपूत ने मंत्री पद से दिया इस्तीफा◾आज का राशिफल ( 23 अक्टूबर 2020 )◾बिहार : विपक्ष को पसंद नहीं BJP का घोषणापत्र, कोरोना वायरस के मुफ्त टीकाकरण पर उठाए सवाल◾PAK की ओर से आतंकी संगठनों को सुरक्षित वातावरण मुहैया कराना जाना जारी : विदेश मंत्रालय ◾SRH vs RR ( IPL 2020 ) : पांडे की आकर्षक पारी, सनराइजर्स हैदराबाद की राजस्थान रॉयल्स पर आसान जीत ◾सीएम नीतीश ने लालू की बहु ऐश्वर्या से हुए 'अनुचित व्यवहार' का मुद्दा उठाकर कसा तीखा तंज ◾पीएम मोदी 24 अक्टूबर को गुजरात में तीन अहम परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾कल से बिहार के चुनावी रण में उतरेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी, करेंगे ताबड़तोड़ रैलियां ◾जेडीयू का आरजेडी से सवाल - बड़े बड़े वादे तो कर रहे हो पर इन्हें पूरा करने के लिए पैसा कहां से लाओगे ?◾मोदी सरकार द्वारा सीमाओं को सुरक्षित किये जाने से बौखलाया - घबराया हुआ है चीन : जेपी नड्डा◾BJP के वादे पर राहुल का तंज: 'अपने राज्य के चुनाव की तारीख से जानिये कब मिलेगी फ्री कोरोना वैक्सीन'◾बिहार चुनाव के घोषणा पत्र में BJP ने किया मुफ्त कोरोना वैक्सीन का वादा, विपक्ष हुआ हमलावर◾बिहार चुनाव : JDU ने जारी किया घोषणापत्र, पूरे होते वादे-अब हैं नए इरादे का दिया नारा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दशकों पुरानी नीति में अमेरिका ने किया बदलाव, कहा- इस्राइली बस्तियां अवैध नहीं

वॉशिंगटन : अपनी नीति में बड़ा बदलाव लाते हुए ट्रम्प प्रशासन ने कहा है कि अब वह नहीं मानता कि पश्चिम तट पर इस्राइली बस्तियां अवैध हैं। प्रशासन ने कहा कि पहले के विचार थे कि इस तरह के ढांचे अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक असंगत हैं, लेकिन इससे पश्चिम एशिया में शांति प्रक्रिया में मदद नहीं मिली। विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने सोमवार को यह घोषणा की जिसका इस्राइल ने स्वागत किया जबकि फलस्तीनियों ने इसकी निंदा की। उन्होंने कहा, ‘‘कानूनी बहस के सभी पक्षों का सावधानीपूर्वक अध्ययन करने के बाद अमेरिका का मानना है कि पश्चिम तट पर इस्राइल की नागरिक बस्तियां अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत अवैध नहीं हैं।’’ 

पोम्पियो ने इस्राइल और फलस्तीन के बीच शांति वार्ता के स्थगन का हवाला देते हुए कहा, ‘‘नागरिक बस्तियों को अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत असंगत कहने से उद्देश्य पूरा नहीं हुआ। इससे शांति की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ सकी।’’ बीबीसी के मुताबिक इस्राइल द्वारा पश्चिम तट और पूर्वी यरूशलम पर 1967 में कब्जा करने के बाद बसायी गयी 140 बस्तियों में करीब छह लाख यहूदी रहते हैं। इस बस्तियों को अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत अवैध माना जाता है। फलस्तीनी काफी समय से इन सभी बस्तियों को हटाने की मांग करते रहे हैं। 

इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इस निर्णय की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘‘अमेरिका ने एक महत्वपूर्ण नीति अपनाई है, जिसके तहत एक ऐतिहासिक गलती को सही किया गया है और ट्रम्प प्रशासन ने स्पष्ट रूप से इन फर्जी दावों को खारिज कर दिया है कि जुडिया और समैरा में इस्राइली बस्तियां अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत स्वाभाविक रूप से अवैध हैं।’’ उधर, ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने फलस्तीन के मुख्य वार्ताकार सायेब ऐराकात के हवाले से बताया कि अमेरिका का निर्णय ‘‘अंतरराष्ट्रीय कानून की जगह ‘जंगल का कानून’ लाने का प्रयास है।’’ पोम्पियो ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ट्रम्प प्रशासन इस्राइली बस्तियों को लेकर ओबामा प्रशासन के रूख को पलट रहा है।’’ 

गौरतलब है कि 1978 में (जिम्मी) कार्टर प्रशासन ने कहा था कि इस्राइली प्रशासन द्वारा नागरिक बस्तियां बसाना अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक असंगत है। बहरहाल, 1981 में राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन ने इस बात से असहमति जताई थी और कहा था कि वह नहीं मानते कि बस्तियां स्वाभाविक रूप से अवैध हैं। पोम्पियो ने कहा कि बहरहाल दिसम्बर 2016 में ओबामा प्रशासन ने अपने अंतिम दिनों में दशकों पुराने इस रूख को बदलते हुए बस्तियों के अवैध होने की सार्वजनिक तौर पर पुष्टि की। उन्होंने कहा, ‘‘कानूनी बहस के सभी पक्षों का सावधानीपूर्वक अध्ययन करने के बाद प्रशासन, राष्ट्रपति रीगन से सहमत है।’’