BREAKING NEWS

आज का राशिफल (31 जनवरी 2022)◾नब किशोर दास हत्याकांड: भाजपा ने CBI जांच व कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की◾श्रमिक संगठनों ने साल के अंत तक देशव्यापी हड़ताल का लिया संकल्प, मोदी सरकार पर लगाए ये आरोप ◾स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में आए सपा मुखिया, बोले- CM योगी से रामचरितमानस की चौपाई के बारे में पूछूंगा◾स्वयंभू बाबा आसाराम को गुजरात की अदालत ने ठहराया दोषी, 2013 में दर्ज हुआ था बलात्कार का मामला◾हिमंत विश्व शर्मा का दावा- भाजपा त्रिपुरा में अगली सरकार अपने दम पर बनाएगी ◾शिवसेना (यूबीटी) का भाजपा पर तंज, कहा- केंद्र, महाराष्ट्र में हिंदुत्ववादी सरकार फिर भी ‘लव जिहाद’ के खिलाफ मार्च◾अडाणी समूह के इजराइल में प्रवेश के कार्यक्रम में शामिल होंगे प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू◾LG सक्सेना ने दिल्ली सरकार के अस्पतालों में 139 डॉक्टरों की पदोन्नति को मंजूरी दी◾चीन के खिलाफ मोदी सरकार की है DDLJ नीति, जयशंकर के बयान पर जयराम रमेश का पलटवार ◾राहुल गांधी ने कहा- प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह ने कभी नहीं देखी हिंसा, पैदल यात्रा करने की दी चुनौती ◾Bharat Jodo Yatra: महबूबा मुफ्ती ने की राहुल की तारीफ, बोलीं- उनमें दिखती है ‘उम्मीद की किरण’◾विश्व कप में खराब प्रदर्शन के बाद हड़कंप, भारतीय पुरूष हॉकी टीम के कोच ग्राहम रीड ने दिया इस्तीफा◾राहुल गांधी ने एक बार फिर से खोला अपने टी-शर्ट का राज, लेकिन इस बार किस्सा कुछ अलग ◾Pakistan Blast: पाकिस्तान की मस्जिद में हुआ बम धमाका,नमाज पढ़ने के दौरान हमलावर ने खुद को उड़ाया◾Bharat jodo yatra :यात्रा के आखिरी पड़ाव पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने बर्फबारी का उठाया लुफ्त ◾कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट जारी, 'देश में पेट्रोल और डीजल के दाम में आज भी टिका रहा'◾केरल के सीएम पिनराई विजयन ने महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि की अर्पित, RSS पर देश में नफरत फैलाकर राजनीति करने के लगाए आरोप◾BBC डॉक्यूमेंट्री मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, किरेन रीजीजू बोले- लोग SC का कीमती वक्त करते हैं बर्बाद ◾सीएम केजरीवाल दिल्ली जल बोर्ड से ज्यादा बिल आने वाले लोगों के लिए लगाएंगे माफी योजना◾

अमेरिका चोरी-छुुपे दे रहा ताइवान के सुरक्षा बलों को सैन्य प्रशिक्षण, चीन की बढ़ी चिंता

अमेरिका कम से कम एक साल से गुप्त रूप से ताइवान में सैन्य प्रशिक्षकों की एक छोटी टुकड़ी के साथ उनके सैन्य बलों को प्रशिक्षण दे रहा है। एक हालिया मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। चीन के साथ प्रतिद्वंद्विता को देखते हुए अमेरिका का यह कदम काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

उधर, वॉल स्ट्रीट जर्नल ने गुरुवार को बताया कि लगभग दो दर्जन अमेरिकी विशेष बल के सैनिक और अनिर्दिष्ट (संख्या के बारे में सही जानकारी नहीं है) संख्या में नौसैनिक अब ताइवानी बलों को प्रशिक्षण दे रहे हैं। प्रशिक्षकों को पहले पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन द्वारा ताइवान भेजा गया था, लेकिन उनकी उपस्थिति की सूचना अब तक नहीं दी गई थी।

ताइवान के  राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने चीन को चेताया, कहा- 

यह रिपोर्ट तब सामने आई है, जब कुछ दिनों पहले ही राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने चीन को चेताया है। राष्ट्रपति वेन के फॉरेन अफेयर्स पत्रिका में छपे लेख में चीन को साफ चेतावनी दी है कि चीन अगर ताइवान पर अतिक्रमण करता है तो पूरे एशिया में इसके विनाशकारी परिणाम देखने को मिलेंगे। उन्होंने आगे लिखा है कि ताइवान कभी युद्ध जैसी स्थिति और ना ही सैन्य टकराव चाहता है, लेकिन अपने आपको बचाने के लिए जो भी जरूरी प्रयास करने पड़े उन्हें ताइवान करेगा और वह किसी भी हालात में नहीं चूकेगा।

चीन-ताइवान में युद्ध की आशंका

ताइवान राष्ट्रपति का ये बयान ऐसे वक्त पर भी सामने आया है, जब चीन ताइवान पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है। दरअसल चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है। वहीं ताइवान अपने आपको अलग स्वतंत्र लोकतांत्रिक देश मानता है। 1979 के बाद से, जब वाशिंगटन ने चीन के साथ राजनयिक संबंध स्थापित किए, अमेरिकी सैनिक स्थायी रूप से द्वीप पर आधारित नहीं रहे हैं।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय का बयान- शर्मन की भारत यात्रा संपन्न, देशों के बीच संबंधों को प्रगाढ़ करने का मिला अवसर

गार्डियन ने कहा कि पेंटागन के प्रवक्ता जॉन सप्पल सीधे रिपोर्ट पर टिप्पणी नहीं करेंगे, लेकिन उन्होंने कहा है कि ताइवान के साथ हमारा समर्थन और रक्षा संबंध चीन से मौजूदा खतरे के खिलाफ संरेखित है। सेंटर फॉर ए न्यू अमेरिकन सिक्योरिटी के इंडो-पैसिफिक सिक्योरिटी प्रोग्राम के फेलो जैकब स्टोक्स ने कहा, यह एक महत्वपूर्ण कदम है, लेकिन इसका उद्देश्य मुख्य रूप से उत्तेजक नहीं है, बल्कि वास्तव में ताइवान की सेना की रक्षा क्षमता में सुधार करना है।