BREAKING NEWS

निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई दलों के नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾Today's Corona Update : एक दिन में 8 हजार से ज्यादा नए मामले, 1 लाख से कम हुए एक्टिव केस◾जम्मू-कश्मीर : पुलवामा मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर समेत 2 आतंकी ढेर◾Winter Session: लोकसभा में आज 'ओमिक्रॉन' पर हो सकती है चर्चा, सदन में कई बिल पेश होने की संभावना ◾महंगाई : महीने की शुरुआत में कॉमर्श‍ियल सिलेंडर की कीमतों में हुआ इजाफा, रेस्टोरेंट का खाना हो सकता है मंहगा◾UPTET 2021 पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार◾कोरोना के नए वेरिएंट के बीच भारतीय एयरलाइन कंपनियों ने दोगुनी की कीमतें, जानिए कितना देना होगा किराया ◾IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾

लोकतंत्र पर हो रही चर्चा से अमेरिका ने चीन को रखा बाहर, देशों के बीच बढ़ सकता है तनाव, जानें कौन है शामिल

अमेरिका ने लोकतंत्र पर चर्चा के लिए 9 और 10 दिसंबर को वर्चुअल समिट का आयोजन किया है। जो बाइडन ने ताइवान समेत 100 से अधिक देशों को लोकतंत्र पर एक शिखर सम्मेलन के लिए आमंत्रित किया, वहीं दूसरी तरफ अमेरिका ने अपनी सूची से चीन को बाहर रखा है। इससे अमेरिका और चीन के बीच आने वाले दिनों में तनाव बढ़ सकता है। 

बता दें की इस समिट से चीन के अलावा तुर्की को भी बाहर रखा गया है। दक्षिण एशिया की बात करें तो पाकिस्तान को अमेरिका ने आमंत्रित किया है, लेकिन अफगानिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका को लिस्ट से बाहर रखा गया है। बैठक लंबे समय से विज्ञापित थी, लेकिन अतिथि सूची विदेश विभाग की वेबसाइट पर मंगलवार को प्रकाशित हुई जिसकी बारीकी से जांच की जाएगी। 

आश्चर्य नहीं है कि अमेरिका के मुख्य प्रतिद्वंद्वी चीन और रूस इस समिट में शामिल नहीं हैं। लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका ने ताइवान को आमंत्रित किया, जिसे वह एक स्वतंत्र देश के रूप में मान्यता नहीं देता लेकिन एक आदर्श लोकतंत्र के रूप में रखता है। अमेरिका के इस कदम से दोनों महाशक्तियों के बीच तनाव और बढ़ने की गारंटी है। 

हॉफस्ट्रा विश्वविद्यालय के कानून के प्रोफेसर जूलियन कू ने ट्वीट किया,"मैं ताइवान को योग्यता से अधिक मानता हूं- लेकिन ऐसा लगता है कि केवल लोकतांत्रिक सरकार ने आमंत्रित किया है जिसे अमेरिकी सरकार आधिकारिक रूप से मान्यता नहीं देती है। इसलिए इसका समावेश एक बड़ी बात है।" 

बताते चलें कि संयुक्त राज्य अमेरिका का नाटो सहयोगी तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन को बाइडन द्वारा "निरंकुश" करार दिया गया था। मध्य पूर्व में केवल इज़राइल और इराक को आमंत्रित किया गया। अमेरिका के पारंपरिक अरब सहयोगी - मिस्र, सऊदी अरब, जॉर्डन, कतर और संयुक्त अरब अमीरात- सभी अनुपस्थित हैं।

बाइडन ने ब्राजील को भी आमंत्रित किया, जिसका नेतृत्व विवादास्पद धुर दक्षिणपंथी राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो कर रहे हैं। यूरोप में पोलैंड का प्रतिनिधित्व कानून के शासन के सम्मान में ब्रुसेल्स के साथ आवर्ती तनाव के बावजूद किया जाता है, लेकिन हंगरी के दूर-दराज़ प्रधानमंत्री विक्टर ओरबान नहीं हैं।

अफ्रीकी पक्ष में, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, केन्या, दक्षिण अफ्रीका, नाइजीरिया और नाइजर को आमंत्रित किया गया। शिखर सम्मेलन को चीन विरोधी बैठक के रूप में उपयोग करने के बजाय, बाइडन से "दुनियाभर में लोकतंत्र की गंभीर गिरावट को संबोधित करने का आग्रह किया - जिसमें अमेरिका जैसे अपेक्षाकृत मजबूत मॉडल शामिल हैं।"

इस शिखर सम्मेलन का आयोजन इसलिए किया जा रहा है क्योंकि उन देशों में लोकतंत्र को झटका लगा है जहां अमेरिका को बड़ी उम्मीदें थीं। सूडान और म्यांमार ने सैन्य तख्तापलट का अनुभव किया है, इथियोपिया एक संघर्ष के बीच में है जो अमेरिकी राजनयिकों के अनुसार इसके "विस्फोट" का कारण बन सकता है और तालिबान ने दो दशकों के बाद अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद अफगानिस्तान में सत्ता संभाली।