BREAKING NEWS

रामनवमी शोभायात्रा पर बंगाल के 2 शहर, महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में हिंसा, छत से हुई पत्थरबाजी आगजनी में कई घायल ◾जम्म कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा- 'अगस्त 2019 के बाद लोग जम्मू-कश्मीर में बदलाव महसूस कर रहे हैं'◾जम्म कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा- 'अगस्त 2019 के बाद लोग जम्मू-कश्मीर में बदलाव महसूस कर रहे हैं'◾CM योगी ने कहा- 'धर्म कर्तव्य का बोध कराता, नैतिक मूल्यों से भी जोड़ता'◾प्रतिनिधि जी20 शेरपा बैठक और केरल में होने वाली अन्य कार्यक्रमों को लेकर दिखे उत्सुक◾रियल एस्टेट क्षेत्र की बढ़ी मुश्किलें, रेपो दर में वृद्धि जारी◾कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खडगे ने कहा - 'राहुल के खिलाफ द्रुत गति से हो रही प्रतिशोध की कार्रवाई'◾विश्व बैंक ने किया खुलासा- सुधारों को तेजी से लागू करने का लाभ भारत को आर्थिक वृद्धि के रूप में मिलेगा◾केंद्र की वर्तमान भाजपा सरकार ने लोकतंत्र को 'कचरे के डिब्बे' में डाला : AAP ◾मनीष तिवारी का लोकसभा अध्यक्ष से आग्रह, वन संरक्षण विधेयक पर संसदीय नियमों और प्रक्रियाओं का पालन हो◾सचिन पायलट बोले- 'राहुल गांधी की आवाज दबाना चाहती है केंद्र सरकार'◾अमृतपाल के खिलाफ कार्रवाई के दौरान हिरासत में लिए गए 348 लोग रिहा : पंजाब सरकार◾दिल्ली में 12 ‘स्कूल ऑफ एप्लाइड लर्निंग’ स्थापित किए जाएंगे, व्यावहारिक पहलुओं पर दिया जाएगा ध्यान : आतिशी◾रामनवमी पर जहांगीरपुरी में बड़ी संख्या में लोगों के मार्च के बाद दिल्ली पुलिस ने बड़ाई सुरक्षा ◾रामनवमी पर गुजरात में भड़की हिंसा, वडोदरा में जुलूस पर पथराव के बाद तनाव◾12 अप्रैल को पटना की अदालत राहुल गांधी को मानहानि के आरोप का जवाब देने के लिए किया तलब◾गाजियाबाद में मीट की दुकानों और बूचड़खानों के अवैध संचालन पर केंद्र और यूपी सरकार जवाब दें : इलाहाबाद HC ◾केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा- 'दिसंबर तक पूरा हो जाएगा मुंबई-गोवा राजमार्ग का काम'◾उत्तर प्रदेश में होने वाले निकाय चुनाव में बीजेपी मुस्लिमों को टिकट दे सकती है◾आम आदमी पार्टी पूरे देश में 'पीएम हटाओ, देश बचाओ' पोस्टर लगाएगी◾

America : तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान आतंकियों को सीक्रेट मिशन में मार गिराएगा अमेरिका?

तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान आतंकियों को सीक्रेट मिशन में अमेरिका मार गिराएगा या नहीं यह एक बड़ा सवाल बन गया है। जहाँ एक और सवाल सामने आ रहा है कि आख़िर क्यों तालिबान ने बाइडेन के लिए सबसे बड़ी चिंता बन गया है। दरअसल ऐसा माना जा रहा है कि अल ज़वाहिरी की तरह तहरीक ए तालिबानआतंकियों को सीक्रेट मिशन में अमेरिका मार गिराएगा।  

आतंकवादी समूहों को आश्रय नहीं देने की रखी गई थी शर्त 

अमेरिका ने जब अफगानिस्तान में दशकों से चले आ रहे युद्ध को समाप्त कर अपनी सेना को वापस बुला लिया तो उसने यह शर्त रखी थी कि तालीबान सरकार वापस आने के बाद आतंकवादी समूहों को कोई आश्रय नहीं देगा। हालांकि आज की तस्वीर देख कर यही लग रहा है कि तालीबान अमेरिका से किए अपने वादे को खास तवज्जोह नहीं दे रहा है। तालीबान ने अपने पुराने मित्र पाकिस्तान से भी संबंध खराब कर लिए हैं। वो लगातार 'तहरीक-ए-तालीबान पाकिस्तान'को सरहद पार से समर्थन दे रहा है। 

अब पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ रही है 

काबुल पर तालीबान के कब्जे का सबसे पहले स्वागत पाकिस्तान ने ही किया था. उस समय की इमरान खान सरकार ने तो तालीबान लड़ाकों को मुजाहिदीन भाई और पाकिस्तान का दोस्त करार दिया था. खुद तत्कालीन पाकिस्तानी आंतरिक मंत्री शेख रशीद ने सार्वजनिक तौर पर कबूला था कि तालीबान आतंकियों के रिश्तेदार उनके देश में पनाह लिए हुए हैं. घायल होने पर इन आतंकियों का इलाज पाकिस्तानी जमीन पर किया जाता है.

तालीबान और पाकिस्तान के बीच तनाव अमेरिका के लिए भी चिंता का विषय  

दरअसल,पिछले साल तहरीक-ए-तालीबान पाकिस्तान के नेता नूर वली महसूद ने सीएनएन को बताया था कि काबुल से अमेरिका को बाहर निकालने में मदद करने के बदले में अब वो चहते हैं कि पाकिस्तान में उनकी लड़ाई में अफगान तालीबान से उनको समर्थन मिले. बता दें कि तहरीक-ए-तालीबान पाकिस्तान में अपने देश की सरकार को उखाड़ फेंकना चाहता है और अपना सख्त इस्लामिक कानून लागू करना चाहता है.इस सप्ताह सीएनएन के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, महसूद ने इस्लामाबाद पर युद्धविराम के टूटने का आरोप लगाते हुए कहा, "उन्होंने संघर्ष विराम का उल्लंघन किया और हमारे दस साथियों को शहीद कर दिया और दस को गिरफ्तार कर लिया."ऐसी स्थिति से न केवल पाकिस्तान में हिंसा बढ़ने का खतरा है, बल्कि अफगान और पाकिस्तानी सरकारों के बीच सीमा पर तनाव में संभावित वृद्धि का भी खतरा है.