BREAKING NEWS

कोविड-19 ओमीक्रोन स्वरूप से उठी संक्रमण की लहर को लेकर चिंतित दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिक◾साउथ अफ्रीका से कर्नाटक आए 2 लोग कोरोना पॉजिटिव, राज्य में मचा हड़कंप◾WHO ने ओमिक्रॉन कोविड वैरिएंट को लेकर सभी देशों को सतर्क रहने को कहा◾भारत ड्रोन का इस्तेमाल वैक्सीन पहुंचाने के लिए करता है, केंद्रीय मंत्री ने साधा पाकिस्तान पर निशाना ◾सोमवार से दिल्ली में फिर खुलेंगे स्कूल, उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने दी जानकारी◾UP: प्रतिज्ञा रैली में BJP पर जमकर गरजी प्रियंका, बोली- 'इनका काम केवल झूठा प्रचार करना'◾राजनाथ ने मायावती और अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा- उप्र को न बुआ और न बबुआ चाहिए, सिर्फ बाबा चाहिए◾कांग्रेस नेता आजाद ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- केंद्र शासित प्रदेश बनने से DGP को थानेदार और सीएम को MLA... ◾ट्रेक्टर मार्च रद्द करने के बाद इन मुद्दों पर अड़ा संयुक्त किसान मोर्चा, कहा - विरोध जारी रहेगा ◾ओमिक्रोन कोरोना का डर! PM मोदी बोले- अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले की फिर हो समीक्षा◾अक्षर और अश्विन की फिरकी के जाल में फंसा न्यूजीलैंड, पहली पारी में 296 रनों पर सिमटी कीवी टीम ◾'जिहाद यूनिवर्सिटी': पाकिस्तान का वो मदरसा जिसके पास है अफगानिस्तान में काबिज तालिबान की डोर◾अखिलेश यादव ने किए कई चुनावी ऐलान, बोले- अब जनता BJP का कर देगी सफाया ◾संसद में बिल पेश होने से पहले किसानों का बड़ा फैसला, स्थगित किया गया ट्रैक्टर मार्च◾दक्षिण अफ्रीका में बढ़ते नए कोरोना वेरिएंट के मामलों के बीच पीएम मोदी ने की बैठक, ये अधिकारी हुए शमिल ◾कोरोना के नए वैरिएंट को राहुल ने बताया 'गंभीर' खतरा, कहा-टीकाकरण के लिए गंभीर हो सरकार◾बेंगलुरू से पटना जा रहे विमान की नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग, 139 यात्री और क्रू मेंबर थे सवार ◾कृषि कानूनों को रद्द करने की घोषणा के बाद आंदोलन का कोई औचित्य नहीं : नरेंद्र सिंह तोमर ◾NEET PG काउंसलिंग में देरी को लेकर रेजिडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल, दिल्ली में ठप पड़ी 3 अस्पतालों की OPD सेवांए◾नवाब मलिक ने किया दावा, बोले- अनिल देशमुख की तरह मुझे भी फंसाना चाहते हैं कुछ लोग◾

एस्ट्राजेनेका टीके की छह करोड़ खुराकें दुनिया के साथ साझा करेगा अमेरिका, यूरोपीय संघ ने लगाए गंभीर आरोप

अमेरिका ने कोविड-19 प्रतिरोधी टीके एस्ट्राजेनेका की छह करोड़ खुराकें उपलब्ध होने पर उन्हें दुनिया के दूसरे देशों के साथ साझा करने योजना बनाई है। अमेरिकी सर्जन जनरल डॉक्टर विवेक मूर्ति ने यहां यह जानकारी दी। दुनियाभर में एस्ट्राजेनेका टीके का इस्तेमाल किया जा रहा है, हालांकि अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने अभी इसे मंजूरी नहीं दी है।

वहीं यूरोपीय संघ ने कोरोना वायरस टीके का अनुबंध पूरा न करने के आरोप में औषधि कंपनी कंपनी एस्ट्राजेनेका के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू की है। यूरोपीय आयोग के प्रवक्ता ने सोमवार को यह जानकारी दी। यूरोपीय संघ के प्रशासनिक निकाय यूरोपीय आयोग के प्रवक्ता स्टीफन डी कीर्समाएकर ने कहा कि ब्रसेल्स ने खरीद समझौते के उल्लंघन को लेकर शुक्रवार को एस्ट्रोजेनेका के खिलाफ कानूनी कदम उठाया गया है।

ऐस्ट्राजेनेका कोविड-19 वैक्सीन उन चार टीकों में से एक है जिसे यूरोपीय संघ में इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है। इस टीके को बड़े  पैमाने पर टीकाकरण अभियान के लिए रीढ़ की हड्डी माना जाता है। यह हालांकि जल्द ही स्पष्ट हो गया कि कंपनी यूरोपीय आयोग के साथ किए गए उन्नत खरीद समझौते की शर्तों का पालन करने में सक्षम नहीं रहा और करार के अनुसार टीके की उचित मात्रा की आपूर्ति करने में कंपनी पूरी तरह से विफल रही है।

मूर्ति ने सोमवार को ट्वीट किया, ''अमेरिका दुनिया के दूसरे देशों के साथ कोविड-19 टीका एस्ट्राजेनेका साझा करने की घोषणा करता है। छह करोड़ खुराकें उपलब्ध होने पर उन्हें साझा किया जाएगा।'' कोविड प्रबंधन को लेकर व्हाइट हाउस के वरिष्ठ सलाहकार एंडी स्लेविट ने भी ऐसा ही ट्वीट किया है। पिछले महीने, व्हाइट हाउस ने टीके की लगभग चार करोड़ खुराकें कनाडा और मेक्सिको के साथ साझा की थीं।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने स्पष्ट किया कि आगामी कुछ सप्ताह में ये खुराकें उपलब्ध होंगी। उन्होंने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ''स्पष्ट किया जाता है कि फिलहाल हमारे पास एस्ट्राजेनेका टीके की खुराकें उपलब्ध नहीं हैं।''साकी कहा, '' हम इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि एफडीए को सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये समीक्षा की जरूरत क्यों पड़ी। हम एफडीए की मंजूरी मिलने के बाद लगभग एक करोड़ खुराकें तैयार होने की उम्मीद करते हैं। अगले कुछ सप्ताह में ऐसा हो सकता है। अभी नहीं। ''

उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त पांच करोड़ खुराकें उत्पादन के विभिन्न चरणों में हैं। इनके मई और जून तक सभी चरण पूरे करने की उम्मीद है। भारतीय-अमेरिकी कांग्रेस सदस्य तथा कोरोना वायरस संकट को लेकर सदन की उप प्रवर समिति के सदस्य राजा कृष्णमूर्ति ने बयान जारी कर भारत, अर्जेन्टीना और अन्य अत्यधिक प्रभावित देशों के साथ इन टीकों को साझा करने की जरूरत पर जोर दिया, जहां कोविड-19 मामलों में भारी और घातक वृद्धि देखी गई है।

वहीं, अमेरिका की व्यापार प्रतिनिधि कैथरीन टाइ ने एस्ट्राजेनेका और फाइजर के नेतृत्व के साथ डिजिटल बैठक कर उत्पादन बढ़ाने और कोविड-19 महामारी के लिये बौद्धिक संपदा अधिकारों के व्यापार-संबंधित पहलुओं (टीआरआईपीएस) को लेकर विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के समझौते के कुछ प्रावधानों में छूट का प्रस्ताव रखा।अमेरिका अभी तक डब्ल्यूटीओ में भारत और दक्षिण अफ्रीका के इस कदम को लेकर गैर-प्रतिबद्ध रहा है।

व्हाइट हाउस ने सोमवार को पत्रकारों से कहा कि अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। अमेरिका के शीर्ष सांसदों ने बाइडन प्रशासन से डब्ल्यूटीओ में इस कदम का समर्थन करने आग्रह किया है ताकि कोविड-19 टीकों को टीआरआईपीएस में छूट मिल सके। भारतीय-अमेरिकी कांग्रेस सदस्य रो खन्ना ने पीटीआई से कहा, ''अमेरिका में टीकाकरण जारी है लेकिन 100 से अधिक देश अपनी आबादी को टीके लगाने के लिये संघर्ष कर रहे हैं, हम खड़े रहकर सबकुछ नहीं देख सकते। हमें दूसरे देशों को लाइसेंस देने के लिये फाइजर और मॉडर्ना पर दबाव बढ़ाना चाहिए ताकि वे देश भी टीकों का विकास कर सकें।''

दुनियाभर में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 31.1 लाख से अधिक, अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश