BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 224 लोगों की मौत, 5134 नये मामले ◾दिल्ली में कोरोना का कोहराम जारी, बीते 24 घंटे में 2008 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1,02,831 तक पहुंचा◾पश्चिम बंगाल: कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते कोलकाता में फिर से लग सकता है लॉकडाउन ◾CBSE का बड़ा ऐलान, अगले साल 9वीं से 12वीं क्लास के सिलेबस में 30 फीसदी की होगी कटौती, बोर्ड ने ट्वीट कर दी जानकारी◾भारत में कोरोना टेस्टिंग का आंकड़ा पहुंचा 1 करोड़ के पार, मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम : स्वास्थ्य मंत्रालय◾राहुल के आरोपों पर AgVa कंपनी का जवाब, कहा- वह डॉक्टर नहीं है, दावा करने से पहले करनी चाहिए थी पड़ताल◾यथास्थिति बहाल होने तक LAC से भारत को एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : कांग्रेस◾राहुल का केंद्र सरकार से सवाल, कहा- भारतीय जमीन पर निहत्थे जवानों की हत्या को कैसे सही ठहरा रहा चीन?◾भारत-चीन बॉर्डर पर IAF ने दिखाया अपना दम, चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्टर ने रात में भरी उड़ान◾विकास दुबे की तलाश में जुटी पुलिस की 50 टीमें, चौबेपुर थाने में 10 कॉन्स्टेबल का हुआ तबादला◾कोरोना वायरस : देश में मृतकों का आंकड़ा 20 हजार के पार, संक्रमितों की संख्या सवा सात लाख के करीब ◾पुलवामा में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षा बलों ने 1 आतंकी मार गिराया, सेना का एक जवान भी हुआ शहीद ◾चीन मुद्दे पर US ने एक बार फिर किया भारत का समर्थन, कहा- अमेरिकी सेना साथ खड़ी रहेगी◾विश्वभर में कोविड-19 मरीजों की संख्या 1 करोड़ 15 लाख से अधिक, मरने वालों का आंकड़ा 5 लाख 3 हजार के पार ◾US में कोरोना संक्रमितों की संख्या 29 लाख के पार, अब तक 1 लाख 30 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾गृह मंत्रालय से विश्वविद्यालयों को मिली हरी झंडी, परीक्षाएं कराने की मिली अनुमति◾महाराष्ट्र में कोरोना के 5,368 नए मामले आये सामने, 204 और मरीजों की मौत◾वांग - डोभाल बातचीत के बाद बोला चीन - LAC पर सैनिकों को पीछे हटाने का काम जल्द से जल्द किया जाना चाहिए ◾दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1 लाख के पार, देशभर में 7 लाख से ऊपर पहुंची संक्रमितों की संख्या◾कांग्रेस का पलटवार - चीन के खिलाफ मजबूत होती सरकार तो नड्डा को ‘झूठ’ नहीं बोलना पड़ता◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

थाईलैंड की गुफा में फंसे खिलाड़ियों को बचाने का प्रयास नयी योजना के तहत शुरू

थाईलैंड की गुफा में फंसे 12 फुटबॉल खिलाड़ी और उनके कोच को निकालने का प्रयास लगातार जारी है। खराब मौसम और ऑक्सीजन की कमी की वजह से ऑपरेशन में काफी दिक्कतें आ रही हैं। ये खिलाड़ी 23 जून से इस गुफा के भीतर फंसे हैं। जिसके चारों ओर पानी भरा है। इस बीच थाई अधिकारियों ने रविवार को कहा कि अब वे सबसे पहले उत्तरी थाईलैंड में गुफा के आसपास के क्षेत्र को खाली करने की योजना बना रहे हैं, जिससे खिलाड़ियों और उनके कोच को बचाने का काम किया जा सके।

यह घोषणा तब हुई है जब रविवार की सुबह देश के उत्तरी पहाड़ बारिश की चपेट में आ गए। खिलाड़ियों और उनके 25 वर्षीय कोच को बचाने के लिए बचाव दल को पानी और समय के साथ जंग लड़नी पड़ रही है। गुफा में फंसे फुटबॉल खिलाड़ियों की उम्र 11 से 16 साल के बीच है। आपको बता दें कि मौसम विभाग ने 15 जुलाई तक भारी बारिश की आशंका जताई है।

गुफा के भीतर पानी भरा हुआ है और बाहर आने के लिए 5-6 घंटे तक का वक्त लग सकता है। गोताखोर ऑक्सीजन सिलंडर के साथ तैरकर अंदर जा सकते हैं लेकिन बच्चों के लिए सिलंडर के साथ इतने लंबे वक्त तक तैरना मुमकिन नहीं होगा। साथ ही बच्चे काफी थके हुए हैं और खाने की कमी की वजह से कमजोर भी हो गए हैं। ऐसे में अगर बारिश की वजह से पानी का स्तर बढ़ जाता है तो बच्चों को निकालना मुश्किल होगा। जानकारी के मुताबिक एक बच्चे को गुफा से बाहर लाने के लिए कम से कम 2 गोताखोर लगाने होंगे।

गुफा में ट्यूब डालकर बच्चों के बाहर निकालने के उपाय पर भी विचार किया जा रहा है। स्थानीय कंस्ट्रक्शन कंपनी ने बचाव दल को सुझाव दिया है कि वह बाहर से भीतर तक जाने वाले ट्यूब के रास्ते बच्चों को बाहर ला सकते हैं। यह ट्यूब पानी के भीतर डाले जाएंगे जिनके अंदर पानी नहीं होगा। लेकिन इसके भीतर भी ऑक्सीजन की कमी और घुटन से जूझना पड़ सकता है।

बचाव दल ने गुफा के ऊपर पहाड़ पर चिमनियां बनाकर बच्चों को बाहर निकालने की कोशिश पर भी काम करना शुरू कर दिया है। इसके लिए 100 से ज्यादा चिमनियां तैयार की गई हैं। इन्हें 400 मीटर गहाराई तक डाला जाएगा लेकिन इस काम में दिक्कत यह है कि अभी तक बच्चों की लोकेशन का सटीक पता नहीं लगाया जा सका है। गुफा की गहराई इससे ज्यादा भी हो सकती है।

भारत समेत दुनिया के कई मुल्कों ने थाई सरकार के सामने ऑपरेशन में मदद करने की पेशकश की है। इसके अलावा नेवी सील कंमाडो से लेकर सेना और स्पेशल फोर्स को इस काम में लगाया गया है। दुनियाभर की मीडिया यहां रेस्क्यू ऑपरेशन को कवर कर पहुंची हुई है। भारत से 'आजतक' ऐसा पहला चैनल है जो मौके पर मौजूद है। स्थानीय लोग विदेश से आने वाले मीडियाकर्मियों की मदद में जुटे हैं और उन्हें ऑपरेशन की जगह पहुंचाने का इंतजाम भी कर रहे हैं।