BREAKING NEWS

क्वाड नेताओं ने हिंद-प्रशांत में समुद्री गतिविधियों की निगरानी के लिए पहल शुरू की◾Monkeypox : संयुक्त अरब अमीरात में मंकीपॉक्स का पहला मामला आया सामने ◾GT vs RR ( IPL 2022 ) : मिलर का तूफानी अर्धशतक, रॉयल्स को हराकर टाइटंस शान से फाइनल में◾वीजा घोटाला : बुधवार को CBI के सामने पेश हो सकते हैं कार्ति चिदंबरम◾जे पी नड्डा 25 मई को केंद्रीय मंत्रियों के साथ करेंगे बैठक◾भारी बर्फबारी और बारिश के बीच दूसरे दिन भी रुकी चारधाम यात्रा, यात्रियों को लेना पड़ रहा है अलाव का सहारा◾जस्टिन बीबर 18 अक्टूबर को दिल्ली में देंगे लाइव प्रस्तुति◾प्रधानमंत्री मोदी के हैदराबाद दौरे के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम◾ क्वॉड की बैठक में निकला चीन की हेकड़ी निकालेना का नया फॉर्मूला, यहां जानें क्या नया प्लान◾Andhra Pradesh News: अमलापुर शहर में हिंसा ने दी दस्तक! जिला का नाम बदलने को लेकर हुई तोड़-फोड़◾विधानसभा सत्र के दौरान अखिलेश और योगी में चलें शब्दों के बाण, यहां जानें दोनो एक दूसरे को किस तरह दिया जवाब◾Bihar liquor News: नकली शराब से 6 लोगों की मौत! औरंगाबाद में हुई ऐसी दर्दनाक घटना, पुलिस प्रशासन ने साधी चुप्पी◾ जम्मू-कश्मीर: आतंकियों ने कश्मीर में की नापाक हरकत, पुलिसकर्मी की गोली मारकर हत्या की, बेटी भी जख्मी ◾Gujarat News: भगवान राम को अंधकार में रखा भाजपा ने..., अयोध्या मंदिर में पैसों का किया गमन!◾ GT vs RR,IPL 2022 Qualifier 1: गुजरात ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का विकल्प चुना, ऐसी है दोनो टीमों की प्लेइंग इलेवन◾UP News: राज्यपाल के अभिभाषण पर मायावती ने बोला हमला, सुनाई खरीखोटी, जानें- क्या है पूरा मामला ◾ 'आप' को उत्तराखंड बड़ा झटका, CM पद के उम्मीदवार रहे अजय कोठियाल ने थामा भगवा पार्टी का दामन ◾गर्दन कटवा देंगें लेकिन भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं करेंगे....विजय सिंगला की बर्खास्तगी पर बोले केजरीवाल◾स्वास्थ्य मंत्री मांडविया बोले- देश में 80 प्रतिशत से भी ज्यादा बच्चों को कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक मिली◾कुतुब मीनार मामले में 9 जून को होगी अगली सुनवाई, जानें कोर्टरूम में हुई कुछ अहम बातें...◾

अमेरिकी विदेश मंत्री ने दी चेतावनी, कहा- ईरान परमाणु मुद्दे पर कूटनीति हुई विफल तो अन्य विकल्पों का करेंगे रुख

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने चेतावनी दी है कि अगर ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर अंकुश लगाने के संबंध में कूटनीति विफल रहती है तो वाशिंगटन अन्य विकल्पों की ओर रुख करेगा, क्योंकि हमारे पास समय कम है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, ब्लिंकन ने बुधवार को द्विपक्षीय और त्रिपक्षीय सहयोग के साथ-साथ ईरान सहित क्षेत्रीय सुरक्षा मुद्दों पर विदेश विभाग में इजरायल और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के अपने समकक्षों से मुलाकात की।

अपनी त्रिपक्षीय बैठक के बाद एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन के दौरान, ब्लिंकन ने कहा कि कूटनीति यह सुनिश्चित करने का सबसे प्रभावी तरीका है कि ईरान परमाणु हथियार विकसित नहीं करेगा। उन्होंने कहा, अगर ईरान ने रास्ता नहीं बदला तो हम दूसरे विकल्पों की ओर रुख करने के लिए तैयार हैं। अमेरिका और ईरानी अधिकारियों ने 2015 के परमाणु समझौते को बहाल करने के लिए अप्रैल में वियना में अप्रत्यक्ष वार्ता शुरू की, जिसे औपचारिक रूप से संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के रूप में जाना जाता है।

छह दौर की बातचीत के बाद भी दोनों पक्षों के बीच मतभेद हैं, जो जून से निलंबित हैं। इजरायल के विदेश मंत्री यैर लैपिड ने संवाददाताओं से कहा कि उनकी ईरान की यात्रा में परमाणु क्षमता को लेकर चिंता मुख्य बिंदु है। उन्होंने कहा, ईरान को परमाणु हथियार हासिल करने से रोकने के लिए इजरायल किसी भी समय कार्रवाई करने का अधिकार रखता है। पूर्व डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन मई 2018 में 2015 के परमाणु समझौते से पीछे हट गया था और ईरान पर एकतरफा पुराने और नए प्रतिबंध लगा दिए गए।

इसके जवाब में, ईरान ने मई 2019 से समझौते के लिए अपनी प्रतिबद्धताओं के कुछ हिस्सों को लागू करना धीरे-धीरे बंद कर दिया है। मंगलवार को, ईरानी विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियन ने कहा कि परमाणु समझौते को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से भविष्य की वार्ता में तेहरान की कार्रवाई अन्य पक्षों के अनुरूप होगी। संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वह जल्द ही लैपिड के निमंत्रण पर इजरायल का दौरा करेंगे, जिसमें दोनों देशों के बीच सहयोग के नए क्षेत्रों का आह्वान किया जाएगा।