BREAKING NEWS

तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन का एक साल पूरा होने पर दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान हुए एकत्र◾अचानक से राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की तबीयत बिगड़ी, दिल्ली के AIIMS में भर्ती◾संविधान के लिए समर्पित सरकार, विकास में भेद नहीं करती और ये हमने करके दिखाया: PM मोदी ◾संसद सत्र के पहले दिन कांग्रेस ने बुलाई विपक्षी नेताओं की बैठक, सरकार को घेरने की होगी तैयारी ◾ प्रयागराज हत्याकांडः कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात ◾केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय का बड़ा इलान, देश में 15 दिसंबर से सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से होगीं शुरू◾छह दिसंबर को भारत आयेंगे रूसी राष्ट्रपति पुतिन, पीएम मोदी के साथ करेंगे शिखर बैठक◾दिल्ली सरकार का सिख समुदाय को तोहफा, CM तीर्थयात्रा योजना में करतारपुर साहिब को किया शामिल ◾मध्य प्रदेश: मुरैना के नजदीक उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस ट्रेन में लगी भयानक आग, चार कोच धू-धू कर जले◾दक्षिण अफ्रीका से निकले कोरोना के नए वैरियंट से दहशत में आयी दुनिया, कड़ी पाबंदियां लगनी शुरू ◾अखिलेश ने योगी की चुटकी ली, कहा-बाबा को लैपटॉप चलाना नहीं आता इसलिए टैबलेट दे रहे हैं ◾26/11 आतंकी हमले की बरसी पर बोले राहुल - शहीदों के बलिदान को जानो, साहस को पहचानो◾महाराष्ट्र में मार्च तक बनेगी BJP की सरकार! केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के दावे से मचा बवाल ◾संविधान दिवस: कांग्रेस का मोदी सरकार पर प्रहार, कहा- आयोजन में नहीं किया शामिल, दर्शक बनना स्वीकार नहीं ◾पूर्व ACP का दावा - परमबीर सिंह के पास था आतंकी कसाब का फोन, पेश करने के बजाय किया नष्ट◾संविधान दिवस पर विपक्ष ने किया सेंट्रल हॉल कार्यक्रम का बहिष्कार, जानिए राजनितिक दलों ने क्या बताई वजह ◾जबरन वसूली मामला : जांच के सिलसिले में ठाणे पुलिस के समक्ष पेश हुए परमबीर सिंह ◾PM मोदी ने परिवारवाद पर कसा तंज, कहा- लोकतांत्रिक चरित्र खो चुकी पार्टियां नहीं कर सकती लोकतंत्र की रक्षा ◾बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र और राज्य सरकारों पर साधा निशाना, कहा कोई नहीं कर रहा है संविधान का पालन ◾किसान आंदोलन की वर्षगांठ पर हमलावर हुई प्रियंका, कहा- BJP के अहंकार के लिए जाना जाएगा ये सत्याग्रह ◾

बांग्लादेश में हिन्दुओं पर हमला, हसीना सरकार के खिलाफ है साजिश या फिर अल्पसंख्यकों के लिए नफरत

भारत में विश्लेषकों ने बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान हुई हिंसा पर चिंता जताई है जिसमें चार लोगों की मौत हो गई थी और उनकी आशंका है कि यह वहां की शेख हसीना सरकार को अस्थिर करने की बड़ी साजिश का हिस्सा हो सकता है। 

तालिबान की जीत से कट्टरपंथियों उत्साहित 

हालांकि, बांग्लादेश की सरकार ने कोमिला जिले के कुछ कस्बो में शुरू हुए हमलों से निपटने के लिए तेजी से कार्रवाई की, लेकिन रणनीतिक विश्लेषक और पूर्व भारतीय राजदूत पिनक आर चक्रवर्ती का मानना है कि अफगानिस्तान में तालिबान शासन की स्थापना से उत्साहित इस्लामवादियों के नए सिरे से सिर उठाने को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है। 

हसीना सरकार के खिलाफ पाकिस्तान समर्थित साजिश 

बांग्लादेश में भारत के उच्चायुक्त रह चुके चक्रवर्ती ने कहा, ‘‘यह चिंताजनक घटनाक्रम है और इसे सावधानी से संभालने की जरूरत है।यह लोकतंत्र और उस सांप्रदायिक सौहार्द्र को अस्थिर करने की भी कोशिश है जिसे हसीना सरकार लेकर आई है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह पाकिस्तान समर्थित चरमपंथी संगठनों की साजिश प्रतीत होती है। बांग्लादेश सरकार को इन तत्वों का सफाया करना चाहिए।’’ 

पीएम हसीना ने किया कार्रवाई का वादा 

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री हिंदू नेताओं के साथ बैठक में पहले ही हमले के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का वादा कर चुकी हैं और मामले में कई संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने संकेत दिया है कि पूजा की झांकी में कुरान का प्राप्त होना जिससे हिंसा फैली, साजिश के तहत उपद्रवियों द्वारा स्थापित की गई थी। 

भारत के साथ संबंध खराब करने की कोशिश 

पूर्व आईपीएस अधिकारी और मॉरीशस में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की भूमिका निभा चुके शांतनु मुखर्जी ने कहा, ‘‘हमारे पास यह विश्वास करने के कारण मौजूद हैं कि यह बड़ी साजिश का हिस्सा था जिसे भारत और बांग्लादेश से शत्रुता रखने वाले तत्वों ने रचा। अफगानिस्तान में तालिबान के शासन के बाद इस्लामिक शक्तियां उत्साहित प्रतीत हो रही हैं।’’ 

तालिबान लड़ाकों में बांग्लादेशी है बड़ा हिस्सा  

गौरतलब है कि है बांग्लादेश ने पूर्व में जमात-उल-मुजाहिदीन बंगलादेश सहित चरमपंथी समूहों के खिलाफ कार्रवाई की थी और इनके नेताओं व कार्यकर्ताओं को या तो गिरफ्तार किया था या मुठभेड़ में मार गिराया था। तालिबान ने र्वा 1990 में बड़े पैमाने पर अपने लड़ाकों की भर्ती बांग्लादेश से की थी। बांग्लादेश की सरकार ने हाल के वर्षों में बांग्लदेश जमात-ए-इस्लामी के कई नेताओं जो वर्ष 1971 के मुक्ति संग्राम के दौरान युद्ध अपराध के दोषी थे उन्हें फांसी की सजा दी है। 

चरमपंथ एक बड़ी चिंता का विषय 

रिसर्च सेंटर फॉर ईस्टर्न ऐंड नार्थ ईस्टर्न स्टडीज नामक थिंक टैंक के सदस्य राजदूत सर्वजीत चक्रवर्ती ने कहा, ‘‘हमारी चिंता भविष्य को लेकर है। हालांकि, आतंकवादी समूहों से निपटने में शेख हसीना बहुत प्रभावी हैं, हमारे पास भविष्य में लोगों को चरमपंथ से वापस लाने के लिए कार्यक्रम होना चाहिए और यह भी देखना चाहते हैं कि हम समान दुश्मन से निपटने में बांग्लादेश सरकार से सहयोग करें।’’ 

पहले भी हुई है तख्तापलट और पीएम हसीना की हत्या की साजिश 

गौरतलब है कि पूर्व में कई बार हसीना का तख्तापलट करने और उनकी हत्या करने की कोशिश हो चुकी है। उन्होंने बृहस्पतिवार को भी अपने बयान में चेतावनी दी कि भारत को सतर्क रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि पड़ोस में ऐसा कुछ नहीं होना चाहिए जिसका असर बांग्लादेश पर पड़े, लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया कि इसका अभिप्राय क्या है। 

बांग्लादेश: हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ और लूटपाट के मामले में फरार चल रहे 1 इमाम समेत 4 लोग गिरफ्तार