BREAKING NEWS

मथुरा में पुलिस का चप्पे-चप्पे पर पहरा, ड्रोन और सीसीटीवी से रखी जा रही नजर, अयोध्या में भी हाई अलर्ट ◾पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आप नेता के अवैध खनन के आरोप को किया खारिज◾UP: बुलंदशहर में RLD नेता काफिले पर अंधाधुंध फायरिंग हुई, चार घायल समेत एक की मौत◾महाराष्ट्र के बाद अब राजस्थान में ओमीक्रॉन ने दी दस्तक, 9 केस मिलने से राज्य मे मचा हड़कंप◾महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के 8 और नए मामले आए सामने, देश में अब तक 13 लोग हो चुके संक्रमित◾ व्यापारियों ने मन बनाया है तो भाजपा का जाना और सपा का आना तय: अखिलेश यादव ◾विशेष राज्य का दर्जा बहाल कराने के लिए हमें भी किसानों की तरह देना होगा बलिदान: फारूक अब्दुल्ला ◾निकम्मी और भ्रष्टाचारी गहलोत सरकार को उखाड़ फेंकिए, भाजपा की सरकार बनवाइएः अमित शाह◾भगवंत मान का दावा, बोले- BJP के वरिष्ठ नेता ने पार्टी में शामिल होने के लिए केंद्रीय मंत्री पद की पेशकश की◾ममता बनर्जी ने नागालैंड में गोलीबारी की घटना की विस्तृत जांच कराने की मांग की, कहा- सभी पीड़ितों को मिले न्याय ◾राज्यसभा से निलंबन के बाद शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने संसद के कार्यक्रम पद से दिया इस्तीफा◾दिल्ली: सिद्धू का केजरीवाल को 'जैसे को तैसा'! गेस्ट टीचरों के प्रदर्शन में शामिल होकर 'AAP' पर साधा तीखा निशाना ◾क्या कांग्रेस मुक्त विपक्ष बना पाएंगी ममता बनर्जी? शिवसेना ने TMC के मंसूबों को बताया घातक, कही ये बात ◾ओमीक्रोन के मद्देनजर भारत समेत अन्य देशों से आने वाले यात्रियों को US में एंट्री के लिए दिखानी होगी नेगेटिव रिपोर्ट◾लखनऊ लाठीचार्ज पर राहुल का ट्वीट, 'BJP वोट मागंने आए तो याद रखना'◾नागालैंड फायरिंग: सेना ने दिया ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ का आदेश, जानिए क्या है पूरा घटनाक्रम ◾'PAK के साथ व्यापार संबंधी कोई भी बातचीत करना बेकार और व्यर्थ' सिद्धू के बयान पर मनीष तिवारी का जवाब◾दिल्ली में 'ओमीक्रॉन' वेरिएंट ने दी दस्तक, तंजानिया से आए यात्री में हुई पहले मामले की पुष्टि, LNJP में भर्ती ◾देश में जारी है कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 8 हजार से अधिक नए केस की पुष्टि ◾सियालकोट लिंचिंग: पाकिस्तान की क्रूरता ने लांघी सीमा, मारे गए श्रीलंकाई ने 'गलतफहमी के लिए मांगी थी माफी' ◾

बाइडन ग्रीन कार्ड जारी करने से जुड़ी प्रणाली में हो रही अत्यधिक देरी की समस्या को जल्द दूर करना चाहते हैं: व्हाइट हाउस

व्हाइट हाउस ने कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ग्रीन कार्ड जारी करने से जुड़ी प्रणाली में हो रही अत्यधिक देरी की समस्या को दूर करना चाहते हैं। इस कदम से अमेरिका में एच-1बी वीजा पर काम करने वाले कई भारतीयों को लाभ मिलेगा।

भारतीय आईटी पेशेवर सबसे ज्यादा प्रभावित

आधिकारिक तौर पर स्थायी निवासी कार्ड के रूप में जाने वाला ग्रीन कार्ड अमेरिका में प्रवासियों को जारी किया गया एक दस्तावेज है जो इस बात का प्रमाण है कि धारक को अमेरिका में स्थायी रूप से रहने का विशेषाधिकार दिया गया है। भारतीय आईटी पेशेवर वर्तमान आव्रजन प्रणाली से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, इनमें से अधिकांश अत्यधिक कुशल हैं और मुख्य रूप से एच -1 बी कार्य वीजा पर अमेरिका आते हैं। आव्रजन प्रणाली के तहत ग्रीन कार्ड या स्थायी कानूनी निवास के आवंटन पर प्रत्येक देश के लिये सात प्रतिशत कोटा निर्धारित है।
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने शुक्रवार को दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “राष्ट्रपति निश्चित तौर पर ग्रीन कार्ड जारी करने की प्रक्रिया में देरी को भी दूर करना चाहते हैं।’’ साकी एक अक्टूबर को लगभग 80,000 अप्रयुक्त रोजगार-आधारित ग्रीन कार्ड की बर्बादी पर एक सवाल का जवाब दे रहीं थी, जिसे आधिकारिक तौर पर कानूनी स्थायी निवास कहा जाता है। यह बर्बादी इसलिए हुई क्योंकि यूएस सिटीजनशिप एंड इमीग्रेशन सर्विसेज (यूएससीआईएस) ग्रीन कार्ड की प्रतीक्षा कर रहे लाखों लोगों को इन्हें आवंटित करने में असमर्थ हैं।

भारतीय प्रौद्योगिकी पेशेवरों को हो रही दिक्कत

हजारों प्रतिभाशाली भारतीय प्रौद्योगिकी पेशेवरों को ग्रीन कार्ड देने में अत्यधिक देरी भारतीय-अमेरिकियों और यहां रहने वाले उनके आश्रित बच्चों की चिंता का प्रमुख कारण है। ऐसे लोगों को ग्रीन कार्ड जारी करने की प्रक्रिया में कभी कभी दशकों लग जाते हैं।

कनाडा में लखीमपुर खीरी हिंसा के विरोध में रैली का आयोजन, पीड़ित परिवारों के लिए की न्याय की मांग

एच-1बी वीजा, भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच सबसे अधिक मांग वाला, एक गैर-प्रवासी वीजा है जो अमेरिकी कंपनियों को विशेष पेशों में विदेशी श्रमिकों को नियुक्त करने की अनुमति देता है जिनके लिए सैद्धांतिक या तकनीकी विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। प्रौद्योगिकी कंपनियां भारत और चीन जैसे देशों से हर साल हजारों कर्मचारियों को काम पर रखने के लिए इस पर निर्भर रहती हैं।

भारतीय प्रौद्योगिकी पेशेवरों ने बाइडन प्रशासन और अमेरिकी कांग्रेस से उन ग्रीन कार्ड स्लॉट को समाप्त नहीं होने देने के लिए आवश्यक विधायी परिवर्तन करने का आग्रह किया था। इस सप्ताह की शुरुआत में, कांग्रेस सदस्य मैरिएननेट मिलर-मीक्स ने रोजगार वीजा सुरक्षा विधेयक पेश किया, जो यूएससीआईएस को वित्तीय वर्ष 2020 और 2021 में उपयोग के लिए अप्रयुक्त रोजगार-आधारित वीजा को संरक्षित करने की अनुमति देगा। इससे पहले, वित्तीय वर्ष 2020 में, कुल 1,22,000 परिवार-वरीयता वीजा अप्रयुक्त रह गए थे।