BREAKING NEWS

J&K : अनंतनाग इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, दो दहशतगर्द हुए ढेर ◾ Asia Cup 2022: रोमांचक मुकाबले में टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन, जापान को 2-1 से दी मात ◾ नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल मॉडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾ हिजाब पहनकर कॉलेज आई छात्राओं को भेजा गया वापस, CM बोम्मई बोले- हर कोई करें कोर्ट के निर्देश का पालन ◾DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾BSF ने पाकिस्तानी तस्करों की साजिश को किया नाकाम, ड्रोन पर की गोलीबारी, भागने पर हुआ मजबूर ◾पंजाब : CM मान ने वापस ली 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा, जानिए क्यों लिया यह फैसला ◾कर्नाटक : शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश ने हिजाब विवाद पर दिया बयान, केवल यूनिफॉर्म की है अनुमति◾उत्तराखंड : CM धामी के लिए आज चुनाव प्रचार करेंगे मुख्यमंत्री योगी, टनकपुर में जनता से मांगेगे वोट ◾

बाइडन ग्रीन कार्ड जारी करने से जुड़ी प्रणाली में हो रही अत्यधिक देरी की समस्या को जल्द दूर करना चाहते हैं: व्हाइट हाउस

व्हाइट हाउस ने कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ग्रीन कार्ड जारी करने से जुड़ी प्रणाली में हो रही अत्यधिक देरी की समस्या को दूर करना चाहते हैं। इस कदम से अमेरिका में एच-1बी वीजा पर काम करने वाले कई भारतीयों को लाभ मिलेगा।

भारतीय आईटी पेशेवर सबसे ज्यादा प्रभावित

आधिकारिक तौर पर स्थायी निवासी कार्ड के रूप में जाने वाला ग्रीन कार्ड अमेरिका में प्रवासियों को जारी किया गया एक दस्तावेज है जो इस बात का प्रमाण है कि धारक को अमेरिका में स्थायी रूप से रहने का विशेषाधिकार दिया गया है। भारतीय आईटी पेशेवर वर्तमान आव्रजन प्रणाली से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, इनमें से अधिकांश अत्यधिक कुशल हैं और मुख्य रूप से एच -1 बी कार्य वीजा पर अमेरिका आते हैं। आव्रजन प्रणाली के तहत ग्रीन कार्ड या स्थायी कानूनी निवास के आवंटन पर प्रत्येक देश के लिये सात प्रतिशत कोटा निर्धारित है।
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने शुक्रवार को दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “राष्ट्रपति निश्चित तौर पर ग्रीन कार्ड जारी करने की प्रक्रिया में देरी को भी दूर करना चाहते हैं।’’ साकी एक अक्टूबर को लगभग 80,000 अप्रयुक्त रोजगार-आधारित ग्रीन कार्ड की बर्बादी पर एक सवाल का जवाब दे रहीं थी, जिसे आधिकारिक तौर पर कानूनी स्थायी निवास कहा जाता है। यह बर्बादी इसलिए हुई क्योंकि यूएस सिटीजनशिप एंड इमीग्रेशन सर्विसेज (यूएससीआईएस) ग्रीन कार्ड की प्रतीक्षा कर रहे लाखों लोगों को इन्हें आवंटित करने में असमर्थ हैं।

भारतीय प्रौद्योगिकी पेशेवरों को हो रही दिक्कत

हजारों प्रतिभाशाली भारतीय प्रौद्योगिकी पेशेवरों को ग्रीन कार्ड देने में अत्यधिक देरी भारतीय-अमेरिकियों और यहां रहने वाले उनके आश्रित बच्चों की चिंता का प्रमुख कारण है। ऐसे लोगों को ग्रीन कार्ड जारी करने की प्रक्रिया में कभी कभी दशकों लग जाते हैं।

कनाडा में लखीमपुर खीरी हिंसा के विरोध में रैली का आयोजन, पीड़ित परिवारों के लिए की न्याय की मांग

एच-1बी वीजा, भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच सबसे अधिक मांग वाला, एक गैर-प्रवासी वीजा है जो अमेरिकी कंपनियों को विशेष पेशों में विदेशी श्रमिकों को नियुक्त करने की अनुमति देता है जिनके लिए सैद्धांतिक या तकनीकी विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। प्रौद्योगिकी कंपनियां भारत और चीन जैसे देशों से हर साल हजारों कर्मचारियों को काम पर रखने के लिए इस पर निर्भर रहती हैं।

भारतीय प्रौद्योगिकी पेशेवरों ने बाइडन प्रशासन और अमेरिकी कांग्रेस से उन ग्रीन कार्ड स्लॉट को समाप्त नहीं होने देने के लिए आवश्यक विधायी परिवर्तन करने का आग्रह किया था। इस सप्ताह की शुरुआत में, कांग्रेस सदस्य मैरिएननेट मिलर-मीक्स ने रोजगार वीजा सुरक्षा विधेयक पेश किया, जो यूएससीआईएस को वित्तीय वर्ष 2020 और 2021 में उपयोग के लिए अप्रयुक्त रोजगार-आधारित वीजा को संरक्षित करने की अनुमति देगा। इससे पहले, वित्तीय वर्ष 2020 में, कुल 1,22,000 परिवार-वरीयता वीजा अप्रयुक्त रह गए थे।