BREAKING NEWS

RSS चीफ ने चीन , अमेरिका पर साधा निशाना , कहा - महाशक्तियां दूसरे देशों की स्वार्थी तरीके से मदद करती हैं◾T20 World Cup : 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगा भारत◾PM मोदी ने देरी से पहुंचने की वजह से जनसभा को नहीं किया संबोधित◾PM मोदी ने दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने पर आशा पारेख को दी बधाई ◾तरंगा-आबू रोड रेल लाइन की योजना 1930 में बनाई गई थी लेकिन दशकों तक ठंडे बस्ते में पड़ी रही : PM मोदी◾पुतिन ने यूक्रेन के इलाकों को रूस का हिस्सा किया घोषित , कीव और पश्चिमी देशों ने किया खारिज , EU ने कहा -कभी मान्यता नहीं देंगे ◾आखिर ! क्या होगा सोनिया का फैसला ?, अब सब की निगाहें राजस्थान पर◾PM मोदी ने अंबाजी मंदिर में प्रार्थना की, गब्बर तीर्थ में ‘महा आरती’ में हुए शामिल◾Maharashtra: महाराष्ट्र में कोविड-19 के 459 नए मामले, 5 मरीजों की मौत◾शाह के दौरे से पहले कश्मीर को दहलाना चाहते थे आतंकी, सुरक्षाबलों ने बरामद किया जखीरा ◾भाजपा ने थरूर को घोषणापत्र में भारत का विकृत नक्शा दिखाने पर लिया आड़े हाथ, जानें क्या कहा ... ◾कार्यकर्ताओं से थरूर का वादा - बंद करूंगा एक लाइन की पंरपरा, क्षत्रपों को दूंगा बढ़ावा ◾कांग्रेस का अध्यक्ष मैं हूं? थरूर बोले- पार्टी को लेकर मेरा अपना दृष्टिकोण.... मैं हूं शशि पीछे नहीं हटूंगा ◾KCR द्वारा राष्ट्रीय पार्टी की औपचारिक घोषणा के बाद विमान खरीदेगा टीआरएस ◾अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबुल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾ अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबूल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾पंजाब : कांग्रेस ने भगवंत मान पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, पूछा- क्या हुआ उन उपदेशों का ?◾CDS जनरल चौहान ने कार्यभार संभालने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से की मुलाकात ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में नामांकन कर सबको चौंकाने वाले केएन त्रिपाठी कौन ? चुनाव को लेकर कितने गंभीर ◾इलाहाबाद HC ने मुख्यमंत्री योगी द्वारा दिए गए राजस्थान में आपत्तिजनक भाषण पर दायर याचिका को खारिज किया ◾

ताइवान के खिलाफ चीन की 'आक्रामकता' पर ब्रिटेन सख्त, उठाया ये कदम

ब्रिटेन के विदेश कार्यालय ने हाल के दिनों में ताइवान के खिलाफ बीजिंग के 'आक्रामक और व्यापक स्तर पर हमले' को लेकर ब्रिटेन में चीन के राजदूत को तलब किया है।समाचार एजेंसी डीपीए की रिपोर्ट के मुताबिक, विदेश सचिव लिज ट्रस ने कहा कि पिछले सप्ताह अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी की स्व-शासित द्वीप की यात्रा के बाद उन्होंने अधिकारियों को राजदूत झेंग जेगुआंग को अपने देश के कार्यो के बारे में बताने का आदेश दिया था।

चीन ने यात्रा का जवाब दिया। उसने ताइवान के जल और वायु क्षेत्र में मिसाइल प्रक्षेपण और घुसपैठ के सिलसिले को अमेरिका द्वारा उकसावे के रूप में देखा। बुधवार को एक बयान में ट्रस ने कहा : "और भागीदारों ने ताइवान के आसपास के क्षेत्र में चीन की वृद्धि की कड़े शब्दों में निंदा की है, जैसा कि हमारे हालिया जी 7 बयान के माध्यम से देखा गया है। मैंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे अपने देश के कार्यो की व्याख्या करने के लिए चीनी राजदूत को तलब करें।"

ट्रस ने कहा, "हमने हाल के महीनों में बीजिंग से तेजी से आक्रामक व्यवहार और बयानबाजी देखी है, जिससे क्षेत्र में शांति और स्थिरता को खतरा है। ब्रिटेन ने बिना किसी धमकी या बल या जबरदस्ती के चीन से किसी भी मतभेद को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने का आग्रह किया।"

1949 में कम्युनिस्टों द्वारा चीन पर नियंत्रण करने के बाद राष्ट्रवादी ताकतों के वहां से भाग जाने के बाद से ताइवान स्व-शासन कर रहा है, और इसे बीजिंग द्वारा एक विद्रोही प्रांत माना जाता है।4 अगस्त से शुरू हुए चीन के सैन्य अभ्यास ने विश्व व्यापार के लिए सबसे व्यस्त क्षेत्रों में से एक में उड़ानों और शिपिंग में व्यापक व्यवधान पैदा किया है।बीजिंग के ताइवान मामलों के कार्यालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि चीन शांतिपूर्ण पुनर्मिलन प्राप्त करने के लिए सबसे बड़ी ईमानदारी के साथ काम करना जारी रखेगा।