BREAKING NEWS

राजस्थान चुनाव से पहले CM गहलोत का बड़ा चुनावी दांव - कितना भी बिल क्यों न आए, पहले 100 यूनिट तक बिजली होगी फ्री◾दिल्ली हत्याकांड में नया खुलासा : हत्या से पहले साक्षी की सहेली के ब्वॉयफ्रेंड ने साहिल को उससे दूर रहने की दी थी चेतावनी !◾जमानत देते वक्त निचली अदालतें विदेशियों को डिटेंशन सेंटर में भेजने का निर्देश नहीं दे सकतीं : दिल्ली हाई कोर्ट◾वीरेंद्र सचदेवा बोले- दिल्ली में बहुत जल्द दिखेंगे ‘आई मिस यू अरविंद’ वाले पोस्टर ◾‘भ्रष्टाचार के मुद्दे पर किसी तरह का कोई समझौता नहीं’, हाईकमान से मिलने के बाद भी नहीं बदले पायलट के सुर◾Maharashtra: अहमदनगर का नाम होगा अब अहिल्यादेवी होल्कर नगर, CM शिंदे ने किया ऐलान◾पहलवानों के समर्थन में सड़क पर उतरीं ममता बनर्जी, हाथ में दिखा ‘वी वांट जस्टिस’ का पोस्टर◾प्रदर्शनकारी पहलवानों से अनुराग ठाकुर की अपील, कहा- जांच पूरी होने का इंतजार करें◾UP News: बाढ़ प्रबंधन पर CM योगी ने की समीक्षा बैठक, कहा- अलर्ट रहें अधिकारी ◾Gyanvapi Masjid Case: श्रृंगार गौरी की नियमित पूजा मामले में इलाहाबाद HC से मुस्लिम पक्ष को बड़ा झटका, याचिका खारिज◾ DU के सिलेबस में जोड़ा गया वीडी सावरकर का चैप्टर, विरोध हुआ शुरु◾पंजाब: CM मान का दावा- चन्नी के भतीजे ने क्रिकेटर से नौकरी के बदले 2 करोड़ रुपये मांगे◾Assam: आधी रात में टी-शर्ट पहनकर निरीक्षण करने निर्माण स्थल पर पहुंचे CM हिमंत बिस्वा सरमा◾पहलवानों के समर्थन में DYFI और SFI ने 4 जून से देशव्यापी विरोध प्रदर्शन करने का किया ऐलान◾30 किलो 900 ग्राम MDMA के साथ तीन विदेशी नागरिक गिरफ्तार, कपड़ा निर्यात की आड़ में विदेश तक भेजे जा रहे थे ड्रग्स◾मुख्तार अब्बास नकवी ने राहुल पर किया कटाक्ष, कहा- "PM मोदी ने सांप्रदायिक वोट की राजनीति खत्म की, कांग्रेस बौखलाई◾ पहलवानों के आरोपों पर WFI प्रमुख बृजभूषण सिंह बोले- "दोष साबित होने पर मैं फांसी लगा लूंगा"◾ बंगाल स्कूल भर्ती घोटाला में भद्र की गिरफ्तारी पर सियासी घमासान ◾PM मोदी ने जम्मू सड़क हादसे में मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की◾पहलवानों की लड़ाई अब खाप नेताओं के बीच की जंग बनती जा रही◾

चीन ने अपना रक्षा बजट बढ़ाकर किया 209 अरब डालर, भारत के मुकाबले तीन गुना से अधिक

चीन का रक्षा बजट पहली बार 200 अरब डालर के पार पहुंच गया है। चीन ने शुक्रवार को वर्ष 2021 के लिये अपना रक्षा बजट 6.8 प्रतिशत बढ़ाकर 209 अरब डालर कर दिया। यह आंकड़ा भारत के रक्षा बजट के मुकाबले तीन गुणा से भी अधिक है। 

चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग ने चीन की संसद ‘नेशनल पीपुल्स कांग्रेस’ के अधिवेशन के पहले दिन इस बजट की घोषणा की। यह लगातार छठा वर्ष है जब चीन के रक्षा बजट में एक अंकीय वृद्धि हुई है। चीन की संसद में 209 अरब डालर का रक्षा बजट ऐसे समय पेश किया गया है जब चीन और भारत के बीच लद्दाख क्षेत्र में तनाव चल रहा है और अमेरिका के साथ भी चीन का सैन्य तनाव जारी है। 

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने बजट की जानकारी देते हुये कहा कि इस साल (2021) का योजनाबद्ध रक्षा व्यय 1,350 अरब युआन (करीब 209 अरब अमेरिकी डालर) होगा। एजेंसी ने कहा कि यह लगातार छठा साल है जब रक्षा बजट में एक अंकीय वृद्धि की गई है। 

एजेंसी ने कहा है कि चीन का रक्षा बजट अमेरिका के रक्षा बजट का एक चौथाई के करीब है। अमेरिका का रक्षा बजट 2021 के लिये 740.5 अरब डालर रखा गया है। वहीं भारत के रक्षा बजट के मुकाबले चीन का बजट तीन गुणा से भी अधिक है। भारत का रक्षा बजट (पेंशन सहित) 65.7 अरब डालर के करीब है। ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, इससे पिछले साल चीन का रक्षा बजट 196.44 अरब डलर रहा था। 

प्रधानमंत्री ली ने रक्षा बजट के बारे में 35 पन्ने की 2020 की चीन की उपलब्धि और 2021 के लिये प्रस्तावित कार्यों की रिपोर्ट में पिछले साल यानी 2020 को चीन की सशस्त्र सेनाओं के लिये ‘‘बड़ी उपलब्धि’’ बताया। हालांकि, उन्होंने इसमें चीन के 60 हजार सशस्त्रों सैनिकों, जिन्हें वार्षिक अभ्यास के लिये तैयार किया गया था, उन्हें पूर्वी लद्दाख में पेंगांग जैसे विवादित इलाकों में भेजे जाने का कोई जिक्र नहीं किया। इसके बाद भारत को भी चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के मुकाबले अपने सैनिकों को वहां तैनात करना पड़ा। दोनों देशों की सेनाओं के बीच करीब आठ माह तक तनातनी बनी रही। 

बातचीत के लंबे दौर के बाद पेंगांगा टीएसओ क्षेत्र से दोनों देशों की सेनायें पीछे हटी हैं और अन्य क्षेत्रों से सैनिकों की वापसी को लेकर बातचीत चल रही है। पीएलए ने सशस्त्र सेनाओं में कुशल युवाओं को आकर्षित करने के लिये वेतन में 40 प्रतिशत बढ़ोतरी की भी घोषणा की है। 

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने पिछले साल एक सम्मेलन में 2027 तक अमेरिका के बराबर की पूरी तरह से आधुनिक सेना बनाये जाने की योजना को अंतिम रूप दिया था। वर्ष 2027 चीन की सेना का शताब्दी वर्ष भी है। अमेरिका के बाद रक्षा क्षेत्र पर चीन सबसे जयादा खर्च करने वाला देश है।