BREAKING NEWS

भारत-चीन सीमा विवाद: गलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने एक बार फिर ठुकराया, शुक्रवार को हो सकती है वार्ता◾यूपी में कल रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं ◾दिल्‍ली में 24 घंटे में कोरोना के 2187 नए मामले, 45 की मौत, 105 इलाके सील◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, 24 घंटे 219 लोगों की मौत, 6875 नए मामले◾उप्र एसटीएफ ने उज्जैन से गिरफ्तार विकास दुबे को अपनी हिरासत में लिया, कानपुर लेकर आ रही पुलिस◾वार्ता के जरिए एलएसी पर अमन-चैन का भरोसा, जारी रहेगी सैन्य और राजनयिक बातचीत : विदेश मंत्रालय◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति में सुधार, रिकवरी रेट 72% से अधिक : गृह मंत्रालय◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-देश में नहीं हुआ कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन◾ इंडिया ग्लोबल वीक में बोले PM मोदी-वैश्विक पुनरुत्थान की कहानी में भारत की होगी अग्रणी भूमिका◾कुख्यात अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मां ने कहा- हर वर्ष जाते है महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए ◾मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे के बारे में शुरुआत से लेकर गिफ्तारी तक का जानिए पूरा घटनाक्रम◾काशीवासियों से बोले PM मोदी- जो शहर दुनिया को गति देता हो, उसके आगे कोरोना क्या चीज है◾ कांग्रेस ने PM मोदी से किया सवाल, पूछा- क्या गलवान घाटी पर भारत का दावा कमजोर किया जा रहा?◾उज्जैन पुलिस की पीठ थपथपाते हुए बोले CM शिवराज-जल्दी UP पुलिस को सौंपा जाएगा विकास दुबे◾चित्रकूट की खदानों में बच्चियों के यौन शोषण पर बोले राहुल-क्या यही सपनों का भारत है◾देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमितों के 24,879 नए मामले और 487 लोगों ने गंवाई जान ◾कानपुर में 8 पुलिसर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे उज्जैन में गिरफ्तार◾ दुनिया में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरने वालों आंकड़ा 5 लाख 48 हजार के पार ◾कानपुर : हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के सहयोगी प्रभात और बउआ को पुलिस ने एनकाउंटर के दौरान मार गिराया ◾PM मोदी वाराणसी की संस्थाओं के प्रतिनिधियों से आज 11 बजे वीडियो कांफ्रेंस पर संवाद करेंगे◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत

भारत में चीन के राजदूत सुन वेइडोंग ने बुधवार को कहा कि चीन और भारत को अपने मतभेदों का असर कभी भी समग्र द्विपक्षीय संबंधों पर नहीं पड़ने देना चाहिए और आपसी विश्वास को बढ़ाया जाना चाहिए।

चीनी राजदूत का यह बयान पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास कुछ संवेदनशील क्षेत्रों में दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनातनी के बीच आया है। सैन्य गतिरोध का जिक्र किये बगैर वेइडोंग ने कहा कि दोनों देशों को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए और इस बात का पालन करें कि उन्हें एक-दूसरे से खतरा नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमें अपने मतभेदों को सही ढंग से देखना चाहिए और द्विपक्षीय सहयोग पर इन मतभेदों का असर नहीं पड़ने देना चाहिए। इसके साथ ही हमें बातचीत के माध्यम से इन मतभेदों का हल करना चाहिए।’’ उन्होंने ‘कॉन्फेडरेशन ऑफ यंग लीडर्स’ द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन सत्र में कहा, ‘‘हमें मूल निर्णय का पालन करना चाहिए कि चीन और भारत के पास एक-दूसरे के लिए अवसर हैं और एक-दूसरे के लिए कोई खतरा नहीं है।

हमें एक-दूसरे के विकास को सही तरीके से देखने और रणनीतिक पारस्परिक विश्वास को बढ़ाने की आवश्यकता है।’’ पेंगोंग त्सो, गलवान घाटी, डेमचोक और दौलत बेग ओल्डी जैसे संवेदनशील क्षेत्रों में भारतीय और चीनी सैनिक आमने-सामने हैं।

गत पांच और छह मई को पेंगोंग त्सो में दोनों सेनाओं के बीच तनातनी के बाद इन क्षेत्रों के साथ-साथ उत्तरी सिक्किम और उत्तराखंड के कई अन्य विवादित क्षेत्रों में दोनों पक्षों ने अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है। वेइडोंग ने कहा, ‘‘चीन और भारत को अच्छे पड़ोसी होना चाहिए और अच्छे सहयोगियों को एक साथ मिलकर आगे बढ़ना चाहिए।’’

राजदूत ने कहा कि दो प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं के रूप में चीन और भारत को निवेश, उत्पादन क्षमता और अन्य क्षेत्रों में व्यावहारिक सहयोग को मजबूत करना चाहिए और सामान्य हितों का विस्तार करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘चीन खुद को और भारत को भी विकसित करने की उम्मीद करता है।

दोनों देशों को अपने-अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक-दूसरे की सहायता करनी चाहिए।’’ पूर्वी लद्दाख में स्थिति तब बिगड़ी जब करीब 250 चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच पांच मई को हिंसक झड़प हुयी। स्थानीय कमांडरों के स्तर पर बैठक के बाद दोनों पक्ष अलग हुए।

इसके बाद नौ मई को उत्तरी सिक्किम में भी इसी तरह की घटना हुई थी। पूर्वी लद्दाख में गतिरोध पर भारत ने पिछले हफ्ते कहा कि उसने हमेशा सीमा प्रबंधन के प्रति जिम्मेदारी भरा रुख अपनाया है लेकिन चीनी सेना उसके सैनिकों को सामान्य गश्त के दौरान बाधा डाल रही है। समझा जाता है कि भारत और चीन दोनों बातचीत के जरिए इस मुद्दे का हल तलाश रहे हैं।