BREAKING NEWS

नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल माडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾ हिजाब पहनकर कॉलेज आई छात्राओं को भेजा गया वापस, CM बोम्मई बोले- हर कोई करें कोर्ट के निर्देश का पालन ◾DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾BSF ने पाकिस्तानी तस्करों की साजिश को किया नाकाम, ड्रोन पर की गोलीबारी, भागने पर हुआ मजबूर ◾पंजाब : CM मान ने वापस ली 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा, जानिए क्यों लिया यह फैसला ◾कर्नाटक : शिक्षा मंत्री बी.सी. नागेश ने हिजाब विवाद पर दिया बयान, केवल यूनिफॉर्म की है अनुमति◾उत्तराखंड : CM धामी के लिए आज चुनाव प्रचार करेंगे मुख्यमंत्री योगी, टनकपुर में जनता से मांगेगे वोट ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,685 नए केस, 33 मरीजों की हुई मौत◾राजस्थान : CM गहलोत से मुलाकात के बाद बदले चांदना के सुर, BJP को दी यह नसीहत ◾

टेक्नोलॉजी में अमेरिका को टक्कर देने के लिए चीन ने बनाया प्लान, चौतरफा विरोध के बीच उठाया बड़ा कदम

चीन के नेताओं ने अमेरिका के साथ टकराव के कारण कंप्यूटर चिप और अत्याधुनिक कलपुर्जे तक पहुंच सीमित होने के मद्देनजर अपने देश को प्रौद्योगिकी के मामले में आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प लिया है । सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं ने अगले पांच साल के लिए अर्थव्यवस्था के विकास का खाका तैयार करने के लिए बैठक के बाद यह घोषणा की । 

राष्ट्रपति शी चिनफिंग की सरकार सुरक्षा और जासूसी को लेकर अमेरिका से टकराव के बीच चीन को प्रौद्योगिकी से जुड़े सामान की बिक्री पर ट्रंप प्रशासन के प्रतिबंध से हुए नुकसान से निपटने का प्रयास कर रही है । कम्युनिस्ट नेता दूरसंचार, जैवप्रौद्योगिकी और अन्य क्षेत्रों में चीनी कंपनियों के जरिए समृद्धि के रास्ते पर बढ़ना चाहते हैं। 

सत्तारूढ़ पार्टी के एक बयान में कहा गया है, ‘‘राष्ट्रीय विकास को रणनीतिक समर्थन के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होना चाहिए ।’’ इसमें विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में देश को एक बड़ी ताकत बनाने का वादा किया गया है लेकिन इस बारे में ज्यादा विवरण नहीं दिया गया है । देश में पंचवर्षीय योजना 1950 के दशक से ही चलायी जा रही है। पूरी योजना मार्च में जारी की जाएगी । उसके बाद हरेक उद्योगों के लिए नियमन और उद्योगों में बदलाव की घोषणा की जाएगी । 

LAC तनाव के बीच चीन की तैयारी, कड़ाके की ठंड से निपटने के लिए अपने सैनिकों को दिए हाई-टेक उपकरण

पार्टी के बृहस्पतिवार के बयान में हरित और कम कार्बन उत्सर्जन वाले विकास तथा लोगों के रहन-सहन के स्तर को बढ़ावा देने का वादा किया गया है । इसके साथ ही 23 लाख सदस्यों वाली पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को मजबूत करने और देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए रणनीतिक क्षमता को बढ़ावा देने की भी बात कही गई है । बयान में कहा गया है कि ‘‘चीन जटिल अंतरराष्ट्रीय हालात’’ का सामना कर रहा है लेकिन कोरोना वायरस महामारी या अमेरिका के साथ चल रहे गतिरोध का जिक्र नहीं किया गया है । 

चीन की फैक्टरियों में दुनिया के अधिकतर स्मार्टफोन, निजी कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक्स सामान तैयार किए जाते हैं लेकिन उसे अमेरिकी, यूरोपीय और जापानी कलपुर्जे की जरूरत होती है। इसे कम्युनिस्ट नेता ‘‘रणनीतिक कमजोरी’’ के तौर पर देखते हैं। बयान में किसी खास प्रौद्योगिकी का जिक्र नहीं किया गया है लेकिन सत्तारूढ़ दल के नेता स्मार्टफोन, इलेक्ट्रिक कार और अन्य प्रौद्योगिकी में इस्तेमाल होने वाले प्रोसेसर चिप को लेकर अमेरिका पर निर्भरता से चिंतित हैं और अपने देश में इसका विकास करना चाहते हैं।  

चीन द्वारा पूर्वी लद्दाख में दोबारा जमीन कब्जाने वाली रिपोर्ट को भारतीय सेना ने फर्जी करार दिया