BREAKING NEWS

महबूबा ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- यहां गोडसे का कश्मीर बन रहा◾अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾

13वें दौर की सैन्य वार्ता रही बेनतीजा, चीन ने कहा- अनुचित और अवास्तविक मांग उठा रहा है भारत

भारत और चीन के बीच 13वें दौर की सैन्य वार्ता पूर्वी लद्दाख में लंबित मुद्दों का समाधान निकालने में किसी नतीजे पर नहीं पहुंची।  दो महीने से भी अधिक अंतराल के बाद हुई तेरहवें दौर की बातचीत में भारतीय पक्ष का नेतृत्व फायर एंड फ्यूरी कोर के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल पी जीके मेनन ने किया जबकि चीनी पक्ष ने जनरल वांग हेजियांग की अगुवाई में बातचीत में हिस्सा लिया। 

चीन और भारत के बीच सीमा मुद्दों के पश्चिमी खंड पर कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता विफल रही

चीन और भारत के बीच सीमा मुद्दों के पश्चिमी खंड पर कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता के नवीनतम दौर के दौरान एक समझौते पर पहुंचने में विफल रहने के बाद, चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) वेस्टर्न थिएटर कमांड ने सोमवार को कहा कि भारत अनुचित और अवास्तविक मांगों को उठा रहा है, जिसने हाल ही में सीमा के पूर्वी हिस्से में नई घटनाओं को जन्म दिया है।

चीनी विशेषज्ञों ने एक नए संघर्ष के जोखिमों की चेतावनी दी 

बीजिंग के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने अपनी हालिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। अखबार ने कहा, "चीनी विशेषज्ञों ने एक नए संघर्ष के जोखिमों की चेतावनी देते हुए कहा है कि चीन को न केवल वार्ता की मेज पर भारत की अहंकारी मांगों को मानने से इंकार करना चाहिए, बल्कि एक और भारतीय सैन्य आक्रमण से बचाव के लिए भी तैयार रहना चाहिए।" चीन सरकार के मुखपत्र ने आगे लिखा कि पीएलए वेस्टर्न थिएटर कमांड ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि चीन और भारत ने रविवार को मोल्दो-चुशूल सीमा बैठक बिंदु के चीनी पक्ष में 13वें दौर की कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता की, "जिस दौरान भारत ने अनुचित और अवास्तविक मांगों पर जोर दिया, जिससे कठिनाई आ रही है।"

 चीन ने सीमा की तनाव वाली स्थिति को कम करने और शांत करने के लिए जबरदस्त प्रयास किए 

वरिष्ठ कर्नल लांग शाओहुआ ने बयान में कहा कि चीन-भारत संबंधों की समग्र स्थिति और दोनों देशों की सेनाओं के बीच संबंधों पर नजर रखते हुए, चीन ने सीमा की तनाव वाली स्थिति को कम करने और शांत करने के लिए जबरदस्त प्रयास किए हैं और अपनी ईमानदारी का पूरी तरह से प्रदर्शन किया है। लांग ने कहा, "चीन की संप्रभुता की रक्षा करने का दृढ़  संकल्प अटूट है, और चीन को उम्मीद है कि भारतीय पक्ष किसी भी तरह से स्थिति का गलत आकलन नहीं करेगा, सीमावर्ती क्षेत्रों में उत्पन्न विवाद को सुलझाने में हरसंभव मदद करेगा, प्रासंगिक समझौतों का पालन करेगा और दो देशों और दो सेनाओं के बीच ईमानदारी के साथ काम करेगा।" वहीं दूसरी ओर भारत ने कहा है चीन एलएससी पर यथास्थिति बहाल करने को तैयार नहीं है। इस वार्ता के बाद दोनों देशों की सेनाओं की तरफ से बयान जारी किया गया है।

भारत स्थिति का गलत आकलन करने के बजाय वार्ता को मुकाम तक पहुंचाए

चीन ने कहा कि भारत स्थिति का गलत आकलन करने के बजाय वार्ता को मुकाम तक पहुंचाए। वहीं भारतीय सेना ने कहा कि चीन के सामने रचनात्मक सलाह रखी गई लेकिन वो मानने के लिए तैयार नहीं है। भारतीय सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि चीनी पक्ष के सामने भारत ने विवाद को सुलझाने के लिए रचनात्मक सलाह दी, लेकिन चीन सहमत नहीं हुआ। दूसरी तरफ चीन ने कहा कि भारत पूरे मामले में अनुचित और अवास्तविक मांग रख रहा है।चीनी सैन्य विशेषज्ञ और टीवी कमेंटेटर सोंग झोंगपिंग ने सोमवार को ग्लोबल टाइम्स को बताया कि भारत सीमा के साथ क्षेत्रों को जब्त करने की साजिश रच रहा है और इसने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीनी क्षेत्रों या अनुचित सेना की तैनाती की मांग की है।

चीन को शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए भारत के साथ बातचीत जारी रखनी चाहिए

अखबार ने कहा, "यह एक बहुत ही आक्रामक कदम है और चीन के आपसी सामंजस्य तक पहुंचने के प्रयासों की तुलना में, भारत अंतर को प्रबंधित करने के लिए दोनों पक्षों की व्यावहारिक जरूरतों के पूरी तरह से खिलाफ है।" रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि चीन को शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए भारत के साथ बातचीत जारी रखनी चाहिए, लेकिन एक इंच भी जमीन छोड़े बिना यह प्रक्रिया होनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि चीन को एक और भारतीय सैन्य आक्रमण की संभावना के लिए तैयार रहने की जरूरत है, क्योंकि भारत एक जोखिम उठा रहा है और संघर्ष का नया दौर शुरू हो रहा है। कियान ने आगे कहा कि अगर भारत नवीनतम वार्ता में प्रदर्शित चीन के रुख की अनदेखी करता है और खुद को बदले बिना अपनी आक्रामकता को जारी रखता है या बढ़ाता है, तो एक और दुर्घटना या संघर्ष की संभावना पैदा हो सकती है।