BREAKING NEWS

सड़कें सिर्फ नेताओं के घर तक नहीं बल्कि आम बिहारियों के घर तक पहुंचनी चाहिए :चिराग पासवान ◾अडानी पर हिंडनबर्ग का हमला, कहा- 'धोखाधड़ी को राष्ट्रवाद से ढका नहीं जा सकता'◾1 फरवरी को संसद के पटल पर होगा बजट पेश, 'लोगों को काफी उम्मीदें'◾राजस्‍थान में शीतलहर का कहर, 5वीं कक्षा तक के स्‍कूल 31 जनवरी तक बंद ◾आज का राशिफल (30 जनवरी 2022)◾सिर्फ मोदी को लगता है, चीन ने हमारी जमीन नहीं ली : राहुल गांधी◾BCCI ने भारतीय अंडर-19 महिला टीम के लिए 5 करोड़ के नकद पुरस्कार की घोषणा की◾भारतीय महिला टीम बनी अंडर-19 टी20 विश्व कप चैम्पियन, बधाइयों का लगा तांता◾बारिश भी नहीं डिगा सका बीटिंग रिट्रीट के जज्बे को, गणतंत्र दिवस समारोह का हुआ औपचारिक समापन◾दिल्ली में बारिश, अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री नीचे◾ओडिशा के मंत्री नब किशोर दास की गोली लगने से मौत, प्रधानमंत्री, राज्यपाल, मुख्यमंत्री ने शोक जताया◾IND vs NZ : स्पिनरों के दबदबे के बीच भारत ने न्यूजीलैंड को 6 विकेट से हराया, श्रृंखला 1-1 से बराबर◾हमीरपुर में दूषित जल पीने से बीमार पड़ने वालों की संख्या 535 हुई, मुख्यमंत्री ने रिपोर्ट मांगी◾प्रधानमंत्री मोदी : 'तकनीकी दशक बनाने का भारत का सपना होगा साकार'◾रामचरितमानस विवाद में घिरे स्वामी प्रसाद को अखिलेश ने बनाया राष्ट्रीय महासचिव, चाचा शिवपाल को भी मिली बड़ी जिम्मेदारी ◾यूपी के मंत्री जितिन प्रसाद ने स्वामी प्रसाद मौर्य के रामचरितमानस बयान को बताया चुनावी रणनीति◾Air Asia Flight: एयर एशिया के विमान से टकराया पक्षी, लखनऊ एयरपोर्ट पर हुई इमरजेंसी लैंडिंग◾ सपा ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की लिस्ट में पार्टी नेताओं के नाम किए घोषित,विवादों में रहें स्वामी प्रसाद मौर्य को बनाया गया महासचिव◾पाकिस्तान की जनता पर टूटा दुखों का पहाड़, पेट्रोल, डीजल के दाम 35-35 रुपये लीटर बढ़े◾Gonda Crime : धारदार हथियार से की शिक्षक की हत्या, मिले कुछ महत्वपूर्ण सुराग ◾

भारत-US के संयुक्त सैन्य अभ्यास को चीन ने बताया 'सीमा समझौतों की भावना का उल्लंघन'

उत्तराखंड में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास चल रहे भारत-अमेरिकी सैन्य अभ्यास पर चीन ने आपत्ति जताई है। भारत-US के संयुक्त सैन्य अभ्यास को चीन ने 'सीमा समझौतों की भावना का उल्लंघन' बताया है। जबकि, इस सैन्य अभ्यास का उद्देश्य शांति स्थापना और आपदा राहत कार्यों में दोनों सेनाओं के बीच अपनी विशेषज्ञता को साझा करना है।

बीजिंग में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक सवाल के जवाब में कहा, वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास भारत और अमेरिका द्वारा आयोजित संयुक्त सैन्य अभ्यास ने 1993 और 1996 में चीन और भारत के बीच हुए समझौतों की भावना का उल्लंघन किया और द्विपक्षीय विश्वास बनाने में मदद नहीं की। चीन ने सैन्य अभ्यास पर भारतीय पक्ष से चिंता व्यक्त की है।

यह पहली बार है जब अमेरिका और भारत LAC के इतने करीब युद्धाभ्यास कर रहे हैं। वहीं दिलचस्प है कि चीन जिन सीमा समझौतों का हवाला देते हुए भारत-अमेरिकी सैन्य अभ्यास पर आपत्ति जाता रहा है, उन्ही समझौतों का जिक्र भारत ने भी किया था, जब 2020 में पूर्वी लद्दाख में सीमा के पास चीन ने अपने सैनिकों की संख्या बढ़ाई थी। तब भारत ने इसे द्विपक्षीय समझौतों का उल्लंघन बताया था। 

2004 से जारी है इंडो-US जॉइंट मिलिट्री एक्सरसाइज 

आपको बता दें किउ त्तराखंड में एलएसी से लगभग 100 किमी दूर भारत-अमेरिका का 19वां संयुक्त सैन्य युद्ध अभ्यास चल रहा है। ये युद्ध अभ्यास दोनों देशों की सेनाओं की ट्रेनिंग है। साल 2004 से प्रत्येक वर्ष आयोजित हो रहे  युद्ध अभ्यास का उद्देश्य "भारत-प्रशांत क्षेत्र में पारंपरिक, जटिल और भविष्य की चुनौतियों" के लिए भागीदार क्षमता बढ़ाने के लिए भारतीय और अमेरिकी सेनाओं की अंतर-क्षमता में सुधार करना है।