BREAKING NEWS

कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾बेघर लोगों के लिए रैन बसेरों और स्कूलों में ठहरने का किया गया इंतजाम : मनीष सिसोदिया◾कोविड-19 : केरल में कोरोना वायरस से पहली मौत, देश में अबतक 20 लोगों की गई जान ◾

चीन की US को नसीहत, कोल्ड वॉर की मानसिकता से निकले बाहर, कम न आंके उसकी ताकत

अमेरिका की ओर से न्यूक्लियर पावर बढ़ाने की कोशिशों पर चीन ने नाराजगी जताई है। चीन ने अमेरिका को हिदायत दी है और कहा कि उसे कोल्ड वार की मानसिकता से बाहर आना चाहिए। आपको बता दे कि इससे पहले पेंटागन ने शुक्रवार (2 फरवरी, 2018) को न्यूक्लियर पोश्चर रिव्यू (एनपीआर) रिपोर्ट में कहा था कि वे दुनिया में खतरों से निपटने के लिए अपने न्यक्लियर क्षमता का विस्तार करेंगे। अपने एनपीआर रिपोर्ट में रूस और चीन को भी अमेरिका ने चेतावनी देते हुए कहा था कि वे अपने न्यूक्लियर क्षमता को सीमित रखें।

चीन के गृह मंत्रालय की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया कि शांति और विकास का विश्व में बड़ा महत्व है। विश्व की बड़ी न्यूक्लियर शक्ति अमेरिका को भी शांति और विकास का ध्यान रखना चाहिए। चीन ने कहा, 'हमने हमेशा ही परमाणु हथियारों के विकास को नियंत्रित करने को लेकर रवैया अपनाया है और अपने परमाणु शक्तियों को नियंत्रण में रखा है।

चीनी रक्षा मंत्रालय ने कहा, 'हमें उम्मीद है कि अमेरिका अपनी शीत युद्ध की मानसिकता को खत्म करेगा।' यही नहीं चीन ने कहा कि अमेरिका को उसके साथ आना चाहिए। चीन के मुताबिक दोनों देशों के बीच बेहतर संबंध से क्षेत्र में स्थिरता पैदा हो सकेगी

आपको बता दें कि पेंटागन ने अपने एनपीआर रिपोर्ट में न्यूक्लियर वेपंस को लेकर चीन, रूस, ईरान और नॉर्थ कोरिया समेत आतंकवाद तक का जिक्र किया है। अमेरिका ने कहा है कि आतंकवाद अगर परमाणु हथियार हासिल करने में सक्षम हुए, तो टेरर ग्रुप्स को समर्थन करने वाले देश ही इसके लिए जिम्मेदार होंगे। इसके अलावा, अमेरिका ने नॉर्थ कोरिया को भी धमकी देते हुए कहा था कि अगर यूएस या उनके सहयोगी देश पर न्यूक्लियर अटैक की हिमाकत भी की, तो वॉशिंगटन प्योंगयांग का अस्तित्व ही खत्म कर देगा।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी  के साथ।