BREAKING NEWS

पीडीपी पार्टी नहीं बल्कि एक आंदोलन, भाजपा इसे तोड़ नहीं सकती : महबूबा मुफ़्ती◾सैन्य वार्ता : भारत का हॉटस्प्रिंग्स, गोगरा एवं अन्य बिन्दुओं से सैनिकों की जल्द वापसी पर जोर◾PM मोदी सोमवार को डिजिटल भुगतान के लिए 'ई-रुपी' की करेंगे शुरुआत ◾राजस्थान में भारी बारिश के बाद रेल की पटरी बही, उत्तर और मध्य भारत में तेज बारिश की संभावना◾महाराष्ट्र के पुणे जिले में जीका वायरस का पहला मामला आया सामने ◾मानसून सत्र के पहले दो सप्ताहों में राज्यसभा के 40 घंटे हंगामे की भेंट चढ़े◾राजस्थान : गहलोत मंत्रिमंडल में संभावित फेरबदल से पहले अजय माकन बोले- कई मंत्री पद छोड़ने के इच्छुक◾शिवराज के मंत्री ने बढ़ती महंगाई के लिए नेहरू पर फोड़ा ठीकरा, कहा-1947 के भाषण से शुरू हुई अर्थव्यवस्था की बदहाली◾संसद में पेगासस व किसानों के मुद्दे पर चर्चा करवाने के लिए विपक्षी दलों ने किया राष्ट्रपति से दखल देने का आग्रह◾मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान, बोले- समाज सेवा के लिए आया था◾राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह बने जेडीयू के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष, जानिए नीतीश के करीबी का राजनीतिक संघर्ष◾UP बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट जारी, 10वीं में 99.53% और 12वीं में 97.88% स्टूडेंट्स पास ◾टोक्यो ओलंपिक 2020 : पीवी सिंधु फाइनल की रेस से हुई बाहर, मेडल की उम्मीद अब भी बरकरार◾मिजोरम पुलिस की FIR पर CM सरमा का ट्वीट, 'किसी भी जांच में शामिल होने पर होगी खुशी'◾ओलंपिक मुक्केबाजी : क्वार्टर फाइनल में हारीं पूजा रानी, पहले ही मुकाबले में हारकर बाहर हुए अमित पंघाल ◾चुनावों से पहले BJP खेल रही आरक्षण का कार्ड, जानिए UP समेत किन 5 राज्यों में गूंजेगा OBC रिजर्वेशन का मुद्दा ◾आतंकी सरगना मसूद अजहर का भतीजा 'लंबू' मुठभेड़ में ढेर, पुलवामा हमले की साजिश में था शामिल ◾असम और मिजोरम के बीच हुई हिंसा पर बोले राहुल- देश में दंगों को बीज की तरह बोया जा रहा है◾अखिलेश यादव ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को बताया ई-रावण, सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने का लगाया आरोप ◾'UPA सरकार ने कभी पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा नहीं दिया', BJP का कांग्रेस पर पलटवार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

चीनी सेना ने ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में की घुसपैठ, बड़ी संख्या में घुसे लड़ाकू विमान

चीन अपने 'वन कंट्री, वन सिस्टम' नीति को लेकर ज्यादा मुखर होता जा रहा है। मंगलवार को चीनी एयरफोर्स के करीब 28 एयरक्राफ्ट ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में घुस आए। इस घुसपैठ को अब तक की सबसे बड़ी घुस घुसपैठ माना जा रहा है। वही ताइवान ने चीन की घुसपैठ का विरोध किया है।

ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने कहा चीन ने देश में 28 लड़ाकू विमान भेजे हैं। अब तक सबसे ज्यादा संख्या में एक ही दिन में ऐसे विमान चीन ने भेजे हैं। मंत्रालय ने कहा की पिछले साल से पेइचिंग के लड़ाकू विमान हर दिन देश की तरफ उड़ान भर रहे है। परंतु कल विमानों ने बड़ी संख्या में उड़ान भरी।

मंत्रालय ने कहा ताइवान की वायु सेना ने तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए अपने लड़ाकू वायु विमानों को तैनात किया और द्वीप के दक्षिण-पश्चिम भाग में निगरानी बढ़ाई। बता दें यह घटना नाटो नेताओं द्वारा सोमवार को चीन द्वारा पेश की गई सैन्य चुनौती की चेतावनी के बाद आई है।

लोकतांत्रिक ताइवान खुद को एक संप्रभु राज्य मानता है, जबकि बीजिंग इस द्वीप को एक अलग प्रांत के रूप में देखता है। ताइपे के अनुसार, चीनी मिशन में 14 जे-16, 6 जे-11 लड़ाकू विमान, चार परमाणु सक्षम एच-6 बमवर्षक के साथ-साथ पनडुब्बी रोधी, इलेक्ट्रॉनिक युद्ध और दूसरे चेतावनी विमान शामिल थे।

एक वायु रक्षा पहचान क्षेत्र किसी भी देश के क्षेत्र और राष्ट्रीय हवाई क्षेत्र के बाहर का क्षेत्र माना जाता है, लेकिन जहां राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में विदेशी विमानों की पहचान होने पर निगरानी और नियंत्रण किया जाता है। यह स्व-घोषित है और तकनीकी रूप से अंतरराष्ट्रीय हवाई क्षेत्र बना हुआ है।

चीनी विमान ने ताइवान के नियंत्रण वाले प्रतास द्वीप समूह के साथ-साथ ताइवान के दक्षिणी हिस्से के आसपास भी उड़ान भरी। 24 जनवरी को, इसी तरह के एक मिशन में 15 विमानों ने ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में एंट्री की, जबकि 12 अप्रैल को ताइवान ने 25 जेट विमानों की सूचना दी थी।