BREAKING NEWS

अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾आज भारत पहुंचेंगे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, पीएम मोदी के साथ होगी शिखर वार्ता, ये होंगे मुद्दे ◾

चीनी हैकरों ने किया बड़ा साइबर हमला, 30 हजार अमेरिकी कंपनियों को बनाया निशाना

सोलरविंड्स के बाद हुए एक और बड़े साइबर हमले में चीनी हैकरों ने पूरे अमेरिका में कम से कम 30,000 संगठनों को निशाना बनाया है। इन संगठनों में सरकारी एवं कमर्शियल कंपनियां भी हैं। हैकरों ने इन कंपनियों के नेटवर्क में सेंधमारी करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट एक्सचेंज सर्वर सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया। 

'क्रेब्सऑनसिक्योरिटी' के अनुसार, चीन स्थित जासूसी समूह ने माइक्रोसॉफ्ट एक्सचेंज सर्वर ईमेल सॉफ्टवेयर में चार कमजोरियों का फायदा उठाया। इन कमजोरियों के कारण हैकरों ने उन कंपनियों के ईमेल एकाउंट्स तक अपनी पहुंच बना ली और वे मैलवेयर स्थापित करने में सफल भी हो गए। माइक्रोसॉफ्ट ने हालांकि चीन स्थित हैकरों के बारे में बताया था, लेकिन उस पैमाने को प्रकट नहीं किया था जिस पर हजारों संगठनों को निशाना बनाया गया। 

इस साइबर अटैक पर अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों को जानकारी देने वाले दो साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों ने क्रेब्सऑनसिक्योरिटी को बताया कि चीनी हैकिंग ग्रुप ने दुनिया भर में माइक्रोसॉफ्ट के हजारों एक्सचेंज सर्वर पर नियंत्रण कर लिया है। एक्सचेंज सर्वर मुख्य रूप से व्यावसायिक ग्राहकों द्वारा उपयोग किया जाता है। 

माइक्रासॉफ्ट ने कमजोरियों को ठीक करने के लिए कई सुरक्षा अपडेट जारी किए हैं। इसने अपने ग्राहकों को तुरंत इन्हें इंस्टाल करने की भी सलाह दी है। गौरतलब है कि इस हफ्ते की शुरूआत में माइक्रोसॉफ्ट ने अपने ग्राहकों को चीनी मूल वाले नए साइबर अटैक की चेतावनी दी थी जो मुख्य रूप से माइक्रोसॉफ्ट के ऑन-प्रिमाइसेस 'एक्सचेंज सर्वर' सॉ़फ्टवेयर को निशाना बना रहा है। 

इसे 'हाफनियम' नाम दिया गया है। यह चीन से संचालित होता है और यह गुप्त जानकारियां हासिल करने के मकसद से अमेरिका में संक्रामक रोग शोधूाकर्ताओं, कानून फर्मों, उच्च शिक्षा संस्थानों, रक्षा ठेकेदारों, नीति थिंक टैंक और एनजीओ पर अटैक कर रहा है। 

माइक्रासॉफ्ट में कस्टमर सिक्योरिटी ऐंड ट्रस्ट के कारपोरेट वाइस प्रेसिडेंट टॉम बर्ट ने कहा कि हाफनियम चीन में स्थित है। यह मुख्य रूप से अमेरिका में लीज्ड वर्चुअल प्राइवेट सर्वर (वीपीएस) से अपनी गतिविधि का संचालन करता है। 

पिछले 12 महीनों में यह आठवीं बार था जब माइक्रोसॉफ्ट ने सार्वजनिक रूप से नागरिक समाज के लिए महत्वपूर्ण संस्थानों को निशाना बनाने वाले राष्ट्र-राज्य समूहों का खुलासा किया है। व्हाइट हाउस ने कहा था कि नौ संघीय एजेंसियों और लगभग 100 निजी क्षेत्र की कंपनियों को सोलरविंड्स हैकिंग के परिणामस्वरूप निशाना बनाया गया था।