BREAKING NEWS

इस्लाम की पैरवी करते मौलाना; निकाह में नृत्यु, संगीत पर लगाई पाबंदी, जानें पूरा मामला ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- धर्म, संस्कृति व राष्ट्र रक्षा के प्रति आग्रही बनाती है सिख गुरुओं की परंपरा◾सरकार का बड़ा ऐलान: मदरसों में आठवीं तक के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति◾खट्टर ने केजरीवाल को लिया आड़े हाथ, कहा- जैन को नहीं हटाया तो... कोर्ट या फिर लोग हटा देंगे◾सांप्रदायिक आधार पर प्रचार कर रही BJP, देश को आगे ले जाने का नहीं है कोई विजन : खड़गे◾दहशत में राष्ट्रीय राजधानी, स्कूल को ईमेल से मिली बम की धमकी, जांच में जुटा प्रशासन ◾गोवा में ड्रग्स का कहर, भाजपा विधायक बोले- राज्य में नए तस्कर आ रहे हैं ◾गहलोत द्वारा पायलट को 'गद्दार' कहे जाने पर बोले राहुल-दोनों नेता कांग्रेस की संपत्ति◾पांडव नगर हत्याकांड : खून बहने के लिए गला काटकर छोड़ा शव, फिर किए 10 टुकड़े◾पश्चिम बंगाल : CM ममता बनर्जी कर सकती हैं दो नए जिलों की आधिकारिक घोषणा ◾Vijay Hazare Trophy: रुतुराज गायकवाड़ का धमाल, एक ओवर में सात छक्के जड़कर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड◾CM अरविंद केजरीवाल ने किया दावा, कहा- गुजरात में मिल रहा है महिलाओं और युवाओं का भारी समर्थन ◾इस्लामिक कट्टरपंथियों का एजेंडा बेनकाब, महिला के जबरन धर्मांतरण की कोशिश के आरोप में 3 लोगों पर केस दर्ज◾Gujarat Polls: भाजपा को झटका! पूर्व मंत्री जयनारायण व्यास ने थामा कांग्रेस का दामन ◾चीन : राष्ट्रपति शी जिनपिंग की जीरो-कोविड नीति को लेकर हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, 'आजादी-आजादी' के लगे नारे ◾Border dispute: सीएम बोम्मई जाएंगे दिल्ली, महाराष्ट्र सीमा विवाद पर नड्डा, शीर्ष अधिवक्ता से करेंगे मुलाकात◾गुजरात : कांग्रेस खेमे में गए BJP के पूर्व मंत्री, टिकट कटने से नाराज जयनारायण व्यास ने छोड़ी पार्टी◾लोकप्रिय लेखक चेतन भगत को आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद उर्फी जावेद ने लिया निशाने पर◾दिल्ली : मां-बेटे ने पिता की हत्या कर फ्रिज में रखा शव, नाले और रामलीला मैदान में फेंके टुकड़े◾मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद चली गई लोगों की आंखों की रोशनी, प्रशासन ने नेत्र शिविरों पर लगाई रोक◾

PAK में जारी सियासी उलटफेर ने बढ़ाई इमरान की मुसीबतें, PTI करेगी ‘सामूहिक इस्तीफे’ पर विचार...

पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर अपनी सरकार की बर्खास्तगी के खिलाफ आंदोलन शुरू करने का फैसला किया है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने शुक्रवार को बताया कि प्रधानमंत्री इमरान खान को शनिवार (नौ अप्रैल) को अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ेगा। माना जा रहा है कि इमरान खान को अविश्वास प्रस्ताव में मुंह की खानी पड़ सकती है। पार्टी ने घोषणा करते हुए कहा कि वह अगले कुछ दिनों में यह आंदोलन शुरू करने की योजना बना रही है, जिसमें हर मंच पर नई सरकार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन किया जायेगा। 

अविश्वास प्रस्ताव का सामना करेंगे इमरान 

पार्टी ने यह कहा कि वह राष्ट्रीय और प्रांतीय विधानसभाओं में अपने सांसदों के सामूहिक इस्तीफे पर भी विचार कर रही है। नेताओं ने हालांकि स्वीकार किया कि वे भी नये चुनाव होने से पहले चुनाव सुधारों के पक्ष में हैं और इसलिए, तत्काल इस्तीफा राजनीतिक रूप से एक खतरनाक निर्णय होगा। इस्तीफे से विपक्ष को अपनी पसंद के अनुसार संशोधन या कानून लाने की खुली छूट मिल जाएगी। पीटीआई ने कहा कि वह अपनी सरकार के खिलाफ ‘विदेशी साजिश’ की जांच के लिए एक आयोग गठित करने के लिए अदालतों का दरवाजा खटखटाने पर भी विचार कर रही है, जिसके बारे में कोई निर्णय उचित कानूनी परामर्श के बाद ही लिया जाएगा।

चुनाव की प्रक्रिया में सुधार लाएगी PTI 

पीटीआई सूत्रों ने कहा कि सत्ताधारी पार्टी ने जनता तक पहुंचने का फैसला किया है। जनता की राय के माध्यम से नयी सरकार पर चुनावी सुधार करने और नये आम चुनाव कराने के लिए दबाव डाला जाएगा और इमरान खान के नेतृत्व में उनके खिलाफ रैली का आयोजन किया जाएगा। इसके अलावा, यदि संभावित सरकार उनके खिलाफ झूठे मामले गढ़ती है या गिरफ्तारी करती है, तो इसका कड़ा विरोध किया जाएगा।