BREAKING NEWS

कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾बेघर लोगों के लिए रैन बसेरों और स्कूलों में ठहरने का किया गया इंतजाम : मनीष सिसोदिया◾कोविड-19 : केरल में कोरोना वायरस से पहली मौत, देश में अबतक 20 लोगों की गई जान ◾

कोरोना महामारी : बेबस हुई यूरोपीय स्वास्थ्य प्रणाली, संक्रमित लोगों की संख्या 5 लाख के पार

कोरोना वायरस से दुनिया भर में संक्रमित लोगों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। गुरुवार को वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या करीब 5 लाख तक पहुंच गई है। अमेरिका और यूरोप में चीन से भी ज्यादा मामलें आ चुके हैं। यूरोप और न्यूयॉर्क की स्वास्थ्य सेवाएं इस बीमारी के कारण चरमराती प्रतीत हो रही है और अधिकारी गंभीर रूप से बीमार पीड़ितों को जीवित रखने के लिए पर्याप्त वेंटिलेटरों की तलाश में जुटे हैं ।

इस महामारी का सामना करने के लिए अमेरिकी सीनेट ने कारोबारियों, श्रमिकों और स्वास्थ्य तंत्र के लिए 2.2 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर का प्रस्ताव पारित किया है। लाखों अमेरिकियों को उम्मीद है कि इस कदम से उन्हें जीवनदान मिल जाएगा क्योंकि वायरस के प्रसार पर काबू के लिए आवश्यक कदमों के कारण उन्होंने नौकरी, आय आदि खो दी है।

इस वायरस के कारण 21,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और लाखों लोगों की आजीविका प्रभावित हुई है और उसने विश्व अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है। अमेरिकी सीनेट ने इसे आम लोगों का ‘‘दुश्मन नंबर 1 बताया। उन्होंने कहा कि हमने पहला मौका गंवा दिया। यह दूसरा मौका है और हमें इसे बर्बाद नहीं करना चाहिए।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उम्मीद जताई है कि ईस्टर तक चर्च सामान्य हो जाएंगे। हालांकि, ईस्टर में केवल 17 दिन ही दूर है। उन्होंने कहा, हमारा देश बंद होने के लिए नहीं बना है।’’ वह संभवत: इस बात को लेकर आशंकित हैं कि वायरस के प्रकोप के कारण वित्तीय बाजारों और रोजगार पर पड़ने वाले विनाशकारी प्रभावों से उनके पुन: निर्वाचित होने के अवसर प्रभावित हो सकते हैं।

हालांकि, डेमोक्रेटों का कहना है कि ट्रंप अमेरिकियों के स्वास्थ्य और सुरक्षा से ज्यादा अर्थव्यवस्था को प्राथमिकता दे रहे हैं। इस बीच स्पेन ने होटलों को अस्थायी अस्पतालों में बदल दिया है। स्पेन में संक्रमण की संख्या में कमी नहीं आई है और अब तक 3,600 से अधिक मौतें हुई है वहीं,  इटली में 7,503 लोगों की मौत हुई है।

मैड्रिड के एक अस्पताल में नर्स लिडिया परेरा ने कहा कि हमारी व्यवस्था चरमरा रही है। उन्होंने कहा कि मरीजों को अकेले मरते देखना हम सभी को अंदर ही अंदर मार रहा है।’’ एक अन्य नर्स जो खुद ही संक्रमित होने के बाद उबर रही है, ने कहा कि शारीरिक रूप से यह बेहद जटिल है, लेकिन मनोवैज्ञानिक रूप से यह भयावह है।