BREAKING NEWS

Haryana News: गरीब परिवारों के लिए CM खट्टर ने किया बड़ा एलान, बोले- मेरिट में मिलेगी इतने अंकों की छूट◾MCD चुनाव : दिल्ली में पहली बार 'डबल इंजन' की सरकार चलाएगी AAP? बढ़ेगा केजरीवाल-सिसोदिया का कद◾नरेश टिकैत का बड़ा बयान, बोले- 'बेलगाम अधिकारियों पर लगाम नहीं कसी तो जनता कर देगी विद्रोह'◾Parliament Winter Session : PM मोदी की सभी दलों से अपील, सत्र को सार्थक बनाने की दिशा में करें प्रयास ◾ महाराष्ट्र Vs कर्नाटक : अमित शाह के दखल से सुलझेगा BJP शासित राज्यों का विवाद?◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटो में 166 नए मामले दर्ज, उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 4,255 ◾MPC Meeting : RBI ने रेपो रेट में की 0.35% की बढ़ोत्तरी, कार-होम और पर्सनल सभी लोन होंगे महंगे ◾'MCD में भी केजरीवाल, अच्छे होंगे 5 साल' रिजल्ट से पहले AAP दफ्तर में आए नए पोस्टर◾Delhi MCD Elections : दिल्ली में 15 साल राज करने वाली शीला की हुई थी हार, अब भाजपा के साथ भी होगा ऐसा ? ◾संसद के शीतकालीन सत्र का आज से होगा आगाज, कई मुद्दों को लेकर सरकार को निशाना बनाएगा विपक्ष◾AAP को मिलने वाली हैं 180 से ज्यादा सीटें, जीत की ओर इशारा कर रहे हैं एग्जिट पोल : सौरभ भारद्वाज◾MCD रिजल्ट : शुरुआती रुझानों में BJP और AAP में कड़ा मुकाबला, कौन बनेगा दिल्ली का बॉस◾आज का राशिफल (07 दिसंबर 2022)◾Delhi MCD Election Result : एमसीडी में फिर आएगी BJP या AAP करेगी चमत्कार?, 250 वार्डों का परिणाम आज, 42 सेंटर्स पर होगी मतगणना◾MCD चुनाव : एग्जिट पोल में आप की जीत के अनुमान के बाद केजरीवाल ने दिल्लीवासियों को दी बधाई◾Morocco vs Spain (FIFA World Cup 2022) : स्पेन को पेनल्टी शूटआउट में हराकर मोरक्को पहली बार विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में◾दिल्ली शराब नीति मामला : 11 दिसंबर को कविता से पूछताछ करेगी CBI◾MP Borewell Incident : एमपी के बैतूल में 8 साल का बच्चा बोरवेल में गिरा, बचाव अभियान जारी◾भारत अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष के जश्न को आगे बढ़ाएगा - PM मोदी◾गुजरात में भी विफल मीम-भीम गठजोड़, सर्वे ने सभी को चौंकाया, भाजपा को सबसे आगे दिखाया ◾

इमरान के 'अमेरिका' अलाप पर जनता ने किया ऐतबार? जानें क्या है PAK में खड़े सियासी संकट के अहम कारण

पाकिस्तान में जारी सियासी संकट के बीच हुए एक सर्वेक्षण में यह साफ हुआ है कि 64 प्रतिशत पाकिस्तानी इस बात को सही नहीं मानते हैं कि इमरान सरकार को हटाने में अमेरिका का हाथ है। इमरान उनकी सरकार के खिलाफ नेशनल एसेंबली में अविश्वास प्रस्ताव लाये जाने के बाद से लगातार इसके पीछे अमेरिकी साजिश होने का आरोप लगा रहे हैं लेकिन इस सर्वेक्षण में लोगों ने सरकार की इस कहानी को खारिज कर दिया है और इमरान सरकार की पतन के लिए मुद्रास्फीति (महंगाई) को मुख्य वजह बताया है।

'महंगाई' को बताया अविश्वास प्रस्ताव के लिए मुख्य कारण

पाकिस्तानी अखबार डॉन ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट में बताया कि गैलप पाकिस्तान सर्वे में हालांकि मात्र 36 प्रतिशत लोगों ने माना है कि सरकार को गिराने के विपक्ष के प्रयास के पीछे अमेरिकी साजिश है। इस टेलीफोनिक सर्वेक्षण ने 03 से 04 अप्रैल तक 800 परिवारों की राय ली गयी। सर्वे में जिन लोगों ने यह माना कि महंगाई सरकार को हटाने के लिए अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए विपक्ष की प्रेरणा स्त्रोत है, उनमें से 74 प्रतिशत सिंध से, 62 प्रतिशत पंजाब से और 59 प्रतिशत पाकिस्तान के कब्जेवाले कश्मीर के लोग शामिल हैं।

पाकिस्तान की जनता ने इमरान के कार्यकाल पर जताई निराशा 

एक अन्य सर्वेक्षण के लगभग 54 प्रतिशत लोगों ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार के साढ़े तीन साल के प्रदर्शन पर निराशा व्यक्त की, जबकि 46 प्रतिशत लोगों ने संतोष जाहिर किया। सर्वे के मुताबिक 68 प्रतिशत लोगों ने नए चुनावों के लिए इमरान खान की कार्रवाई की सराहना की। सर्वे में 72 फीसदी लोगों ने अमेरिका को पाकिस्तान का दुश्मन और 28 फीसदी लोगों ने दोस्त बताया। वहीं, साढ़े तीन साल की अवधि के दौरान पीटीआई सरकार के कामकाज के सवाल पर 54 प्रतिशत लोगों ने इमरान खान के शासन के प्रति निराशा व्यक्त की, जबकि 46 प्रतिशत ने कुछ हद तक संतोष व्यक्त किया।

जानें इमरान सरकार को किसका मिला साथ 

इमरान सरकार के प्रदर्शन से उच्च स्तर की संतुष्टि व्यक्त करने वालों में से 60 प्रतिशत पाकिस्तान के कब्जेवाले कश्मीर के लोग शामिल है, जबकि उसी प्रांत के 40 प्रतिशत लोगों ने इमरान सरकार के प्रदर्शन पर निराशा व्यक्त की। वहीं, सिंध में 43 प्रतिशत लोगों ने इमरान खान के प्रदर्शन पर संतोष व्यक्त किया, लेकिन 57 प्रतिशत लोगों ने निराशा व्यक्त की। पंजाब के मामले में इमरान सरकार के कामकाज को 45 प्रतिशत लोगों ने सही माना, लेकिन 55 प्रतिशत लोगों ने उनके प्रदर्शन पर निराशा व्यक्त की। सरकार के पतन और राष्ट्रीय चुनावों के आह्वान पर 68 प्रतिशत लोगों ने सहमति व्यक्त की, जबकि 32 प्रतिशत ने इसे खारिज कर दिया।