BREAKING NEWS

सपा सांसद आजम भूमाफिया हुए घोषित, किसानों की जमीन पर कब्जा करने का है आरोप◾विपक्षी दलों को निशाना बना रही है भाजपा : BSP◾कर्नाटक : राज्यपाल ने सरकार को दिया शुक्रवार 1.30 बजे तक बहुमत साबित करने का समय◾कई बंगाली फिल्म व टेलीविजन कलाकार BJP में हुए शामिल ◾कर्नाटक का एक और विधायक पहुंचा मुंबई , खड़गे ने बताया BJP को जिम्मेदार ◾ इशरत जहां का आरोप-हनुमान चालीसा पाठ में भाग लेने को लेकर धमकी दी गई ◾कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले को तत्काल लागू करें : भारत ने Pak से कहा ◾IT ने नोएडा में मायावती के भाई और भाभी का 400 करोड़ का 'बेनामी' भूखंड किया जब्त◾सोनभद्र प्रकरण : मृतकों की संख्या 10 हुई, UP पुलिस ने 25 लोगों को किया गिरफ्तार ◾विधानसभा में ही डटे बीजेपी MLA◾कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत पर चर्चा के दौरान हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक स्थगित - विस अध्यक्ष◾Top 20 News 18 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ का फैसला भारत के रुख की पुष्टि : विदेश मंत्रालय ◾BJP में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर, जीतू वघानी ने दिलाई सदस्यता◾कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾येद्दियुरप्पा ने किया दावा, बोले- सौ फीसदी भरोसा है कि विश्वास मत प्रस्ताव गिर जाएगा◾

विदेश

तालिबान से शांति वार्ता में जल्दबाजी न करे अमेरिका : भारत

कतर में अमेरिका और तालिबान के बीच नए दौर की बातचीत शुरू होने वाली है। भारत ने आतंकी समूह के साथ जल्दबाजी में बातचीत को लेकर चेताया है जो अफगानिस्तान के श्रेष्ठ हितों के बजाय वाशिंगटन की समयसीमा को समर्पित है। 

सुरक्षा परिषद में बुधवार को भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि पाकिस्तान में आतंकवादियों की सुरक्षित पनाहगाह को खत्म करना शांति समझौते को आगे बढ़ाने की एक पूर्व शर्त है। अफगानिस्तान के गृहयुद्ध को समाप्त करने के अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों का स्वागत करते हुए, उन्होंने कहा, "हम देख रहे हैं कि कोई घटनाक्रम की तात्कालिकता के साथ आगे बढ़ रहा है, लेकिन यह शायद अफगानिस्तान के लोगों की जरूरत के हिसाब से नहीं है।"

उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि आतंकवादी संगठनों को उस मजबूत स्थिति से वार्ता करने की इजाजत नहीं दी जा सकती, जो पाकिस्तान द्वारा उन्हें मुहैया कराए गए पनाहगाहों से मिलती है। अकबरुद्दीन ने हालांकि अमेरिका या पाकिस्तान का नाम नहीं लिया, लेकिन उन्हें दिया गया उनका संदेश स्पष्ट था। 

उन्होंने कहा, "हम इस बात को नजरअंदाज नहीं कर सकते कि जो समूह सीमापार से हिंसा  और आतंकी गतिविधि के लिए समर्थन और सुरक्षित पनाहगाह प्राप्त कर रहे हैं, उन्हें फायदेमंद जगह से बातचीत की इजाजत दी जाए।" उन्होंने कहा, "आतंकी नेटवर्क को मुहैया कराए गए सुरक्षित पनाहगाह को वास्तविक और स्थायी शांति के लिए सुलझाए जाने की जरूरत है।

तालिबान, हक्कानी नेटवर्क, इस्लामिक स्टेट (आईएस) और यहां तक कि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद समेत अलकायदा और इसके संबंधित समूह को समाप्त करने की जरूरत है।" वाशिंगटन तालिबान के साथ एक शांति समझौते पर पहुंचना चाहता है, ताकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अफगानिस्तान में अमेरिकी संलिप्तता को समाप्त करने और जवानों को वापस घर बुलाने के अपने चुनावी वादे को पूरा कर सके। यहां अगले वर्ष होने वाले चुनाव के लिए प्रचार अभियान के मद्देनजर ट्रंप यह कोशिश कर रहे हैं। 


UP में पुलिस थाने से शराब की 486 पेटियां गायब