BREAKING NEWS

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को संबोधित करेंगी राष्ट्रपति मुर्मू◾आज का राशिफल (14 अगस्त 2022)◾‘हर घर तिरंगा’ मुहिम को मिली प्रतिक्रिया से बहुत खुश एवं गौरवान्वित हूं : PM मोदी◾उद्धव ने CM शिंदे पर साधा निशाना , कहा - शिवसेना कोई खुले में रखी चीज नहीं कि कोई उसे उठा ले जाए◾Independence Day : देशभक्ति के जोश में डूबी दिल्ली, तिरंगे से जगमगाती प्रतिष्ठित इमारतें◾सावधान ! चीनी मांझे का खतरा बरकरार : कुछ लोगों की जा चुकी है जान , कई लोग घायल◾हर घर तिरंगा अभियान : मोहन भागवत ने RSS मुख्यालय पर फहराया तिरंगा ◾CM योगी ने वीर जवानों की सराहना की , कहा - देश के लिए बलिदान देने की जरूरत पड़ी, तो जवानों ने कभी संकोच नहीं किया◾NGT चीफ और जयराम रमेश ने उपराष्ट्रपति धनखड़ से की मुलाकात ◾विपक्ष के 11 दलों ने ईवीएम, धनबल और मीडिया के ‘दुरुपयोग’ के खिलाफ लड़ने का किया संकल्प◾ पाक : बारूदी सुरंग हमले में एक जवान की मौत, दो घायल◾ केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोलीं- लोगों से अपने घरों पर तिरंगा फहराने का आग्रह करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं मोदी ◾J-K News: जम्मू कश्मीर में आतंकियों का कहर! श्रीनगर में ग्रेनेड हमले में CRPF का एक जवान घायल◾जयराम ठाकुर ने कहा- पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की मांग से केंद्र को अवगत कराऊंगा◾ उपराज्यपाल सिन्हा का दावा - आतंकवाद के ताबूत में आखिरी कील ठोकेगी सरकार◾Delhi: सिसोदिया ने कहा- स्कूलों के छात्र उद्यमिता......... कम उम्र में स्टार्ट-अप स्थापित कर रहे◾16 को होगा महागठबंधन सरकार का शपथ ग्रहण समारोह, कांग्रेस की भागीदारी तय ◾तिरंगा अभियान पर मोदी की मां ने बढ़ चढ़कर लिया भाग, पीएम की मां ने बाटे तिरंगे◾आत्मनिर्भर चाय वाली मोना पटेल की चर्चा देश में होगी और वह ब्रांड बनेगी:चिराग पासवान◾हिमाचल में सामूहिक धर्मांतरण जिहाद-रोधी विधेयक ध्वनिमत से पारित ◾

UNGA में मोदी के भाषण के दौरान कार्यालय के बाहर हुए 4 प्रदर्शन, CAA और NRC समेत कई मुद्दों का हुआ विरोध

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया था। पीएम मोदी के संबोधन के दौरान संयुक्त राष्ट्र के बाहर 4 अलग-अलग विरोध प्रदर्शन किए गए। हालांकि विभिन्न कारणों का हवाला देते हुए, समूहों को एक-दूसरे से अलग कर दिया गया। उनमें से सबसे बड़ा समूह लगभग 100 खालिस्तान समर्थकों का था, जो पीले झंडे लहरा रहे थे और शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के अध्यक्ष सिमरनजीत सिंह मान के चित्र लिए हुए थे।

अन्य 3 विरोध प्रदर्शनों के आयोजकों ने खालिस्तानियों को खारिज कर दिया और कहा कि वे उनसे जुड़े हुए नहीं हैं। समूहों में से एक इंडियन नेशनल ओवरसीज कांग्रेस थी, जो भारत में कांग्रेस का समर्थन करती है और इसने विरोध का कारण भारत में कथित मानवाधिकारों का हनन बताया है। एक अन्य विरोध भारत में किसानों के आंदोलन के समर्थन में एक स्थानीय गुरुद्वारे द्वारा आयोजित किया गया था, जो पूरी तरह से किसानों के मुद्दों पर केंद्रित था।

उन्होंने खुद को खालिस्तानियों से दूर रखा और एक आयोजक ने कहा कि उनका उस विरोध से कोई लेना-देना नहीं है। इस समूह के लोग हरी पगड़ी में देखे गए। एक और विरोध प्रदर्शन द हिंदुज फॉर ह्यूमन राइट्स (एचएचआर) की ओर से किया जा रहा था। एक आयोजक ने कहा कि वे खुद को खालिस्तानियों से नहीं जोड़ रहे हैं और उस समूह के बगल में पुलिस द्वारा बैरिकेडिंग की गई है। 

एचएचआर ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) और अन्य कानूनों और विनियमों के साथ-साथ भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन और कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेने का विरोध किया। उनके साथ न्यूयॉर्क स्टेट काउंसिल ऑफ चर्च के एक प्रतिनिधि भी जुड़े हुए थे, जो कि एक प्रोटेस्टेंट संगठन है, जो अपने सदस्यों के बीच चर्चो की विश्व परिषद को भी सूचीबद्ध करता है। इसके कार्यकारी निदेशक और एक प्रोटेस्टेंट पादरी पीटर कुक ने कहा कि वह भारत से निर्वासित हुए थे। 

उन्होंने कहा कि उनके संगठन ने सीएए का विरोध किया, भले ही इसने उत्पीड़न से भाग रहे ईसाइयों को नागरिकता का अधिकार दिया हो, क्योंकि यह ईसाइयों को मुसलमानों के खिलाफ खड़ा करता है। खालिस्तानी प्रदर्शनकारियों, जिन्हें पुलिस ने संयुक्त राष्ट्र में भारत के मिशन के बाहर प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं दी थी, अपने झंडे लहराते और नारे लगाते हुए प्रदर्शन करते दिखे। पिछले वर्षो के दौरान विरोध प्रदर्शन करने वाले कश्मीरी अलगाववादियों और पाकिस्तानियों के समर्थक इस बार नहीं दिखे।