BREAKING NEWS

Mann Ki Baat :PM मोदी ने 'मन की बात' की 28वीं कड़ी के लिए मांगे सुझाव, 28 अगस्त को होगा प्रसारण◾दलित छात्र की मौत को लेकर पायलट ने अपनी ही सरकार को दी नसीहत, BJP ने पूर्व उपमुख्यमंत्री का किया समर्थन◾बिलकिस बानो केस के दोषियों की रिहाई को लेकर राहुल का तंज, कहा-PM की कथनी और करनी को देख रहा है देश◾Yamuna Water Level : दिल्ली में यमुना नदी का जल स्तर एक बार फिर खतरे के पार पहुंचा◾Assembly Elections : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आज से गुजरात दौरा, चुनावी तैयारियों की करेंगे समीक्षा◾Central University Admission : CUET-ग्रेजुएट का चौथा चरण आज से शुरू हो गया ◾संगीत सोम का मंच से धमकी भरा बयान, कहा-'मैं अभी गया नहीं, अब भी 100 विधायकों के बराबर हूं'◾बीजेपी के निशाने पर कांग्रेस, सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए आतंकवाद, भ्रष्टाचार और परिवारवाद का लगाया आरोप ◾एक्सप्रेस ट्रेन और मालगाड़ी में जोरदार टक्कर,चार पहिए पटरी से उतरे, मची अफरा-तफरी ◾महाराष्ट्र : आज से शुरू होगा विधानसभा का मानसून सत्र, पहली बार विपक्ष में बैठेंगे आदित्य ठाकरे◾Coronavirus : 24 घंटे में दर्ज हुए 9 हजार केस, 2.49% रहा डेली पॉजिटिविटी रेट◾Jammu Kashmir: सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड फेंक फरार हुए आतंकी, सर्च अभियान में हथियार-गोलाबारूद बरामद◾मुश्किलों में फंस सकते है कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल, सीबीआई कसेगी शिकंजा ◾आज का राशिफल (17 अगस्त 2022)◾बिहार में मिशन 35 प्लस के लक्ष्य के साथ नीतीश-तेजस्वी सरकार के खिलाफ मैदान में उतरेगी भाजपा◾PM मोदी और मैक्रों ने भू-राजनीतिक चुनौतियों, असैन्य परमाणु ऊर्जा सहयोग पर चर्चा की◾अपने अंतिम दिनों में, ठाकरे सरकार ने जल्दबाजी में लिए फैसले : CM शिंदे◾ चीनी पोत पहुंचा श्रीलंका हम्बनटोटा बंदरगाह , भारत ने जताई जासूसी की आशंका◾चीनी ‘जासूसी पोत’ पहुंचा श्रीलंकाई बंदरगाह , बीजिंग बोला-जहाज किसी के सुरक्षा हितों के लिए खतरा नहीं◾दिल्ली में फिर से आया कोरोना, 917 नए मामले आये सामने , तीन की मौत◾

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे को EU ने बताया 'बड़ी विपत्ति' कहा- आतंकवाद का उभार है एक 'दुःस्वप्न'

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से दुनियाभर में अलग-अलग विचार सामने आये हैं, अगर तालिबानियों की निंदा की जा रही है तो एक तबका ऐसा भी है जो उनके समर्थन में आगे आया है। इसी कड़ी में यूरोपीय संघ (ईयू) के विदेश नीति प्रमुख ने गुरुवार को अफगानिस्तान के पतन और तालिबान के उभार को एक “बड़ी विपत्ति” तथा “दुःस्वप्न” करार दिया। उन्होंने कहा कि इससे खुफिया एजेंसियों की विफलता और अटलांटिक पार के सहयोग की खामियां उजागर हो गई। 

ईयू के विदेश मामलों के प्रमुख जोसेप बोरेल ने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन की आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने अफगानिस्तान में राष्ट्र निर्माण को महत्व नहीं दिया। बोरेल ने कहा कि अफगानिस्तान में पश्चिमी देशों की सेनाओं का लक्ष्य आतंकवाद का खात्मा, कानून का राज कायम करना और महिलाओं तथा अल्पसंख्यकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा करना था। बोरेल ने यूरोपीय संसद समिति के समक्ष कहा, “राष्ट्रपति बाइडन ने उस दिन कहा कि राष्ट्र निर्माण उनका इरादा कभी नहीं था। इस पर बहस की जा सकती है।” 

स्पेनिश नेता ने कहा, “बीस साल बाद आप कह सकते हैं कि हम अपने अभियान के पहले चरण में सफल हुए लेकिन दूसरे में विफल रहे।” बोरेल के बयान के साथ ही यूरोपीय संसद के सदस्यों ने अफगानिस्तान के प्रति पश्चिमी देशों की प्रतिबद्धता नहीं होने पर नाराजगी जताई। बोरेल ने महीनों की बजाय कुछ दिन में ही अफगान सेना के हथियार डालने की जानकारी पहले से नहीं होने पर खुफिया एजेंसियों की भी आलोचना की।