BREAKING NEWS

निर्मला सीतारमण पूर्व PM एच डी देवेगौड़ा का हालचाल जानने पहुंचीं◾America Cyclone : अमेरिका के फ्लोरिडा में चक्रवात से भारी तबाही, बिजली गुल होने से 25 लाख लोग प्रभावित◾दशहरे पर हैदराबाद में मंच सजाएंगे केसीआर, राष्ट्रीय दल की करेंगे घोषणा ◾गहलोत को झटका, सचिन को ताज ? सोनिया गांधी से दोनों के मुलाकात अलग -अलग मायने◾Congress: सोनिया गांधी अगले दो दिन के अंदर सीएम पद के लिए करेगी फैसला, जानें पूरी मिस्ट्री ◾दिग्विजय सिंह का कांग्रेस अध्यक्ष बनना तय ? परिस्थिति के अनुसार बदलते गए समीकरण ◾2023 में ही तेजस्वी को सीएम बनाएंगे नीतीश ? आरजेड़ी नेता के बयान को लगी सियासी हवा ◾पंजाब : चर्च में तोड़फोड़, धार्मिक तनाव, छावनी में तब्दील हुआ घटनास्थल◾Maharashtra: ठाकरे का एकनाथ शिंदे पर तीखा वार- भगवा ध्वज दिल में होना चाहिए, केवल हाथ में नहीं ◾14 साल पहले गोद ली गई लड़की ने आशिक के साथ मिलकर घोटा पिता का गला, दोनों गिरफ्तार ◾इशारों-इशारों में अखिलेश ने दिए मायावती से फिर दोस्ती के संकेत, सपा और बसपा का हो सकता है गठबंधन?◾कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे अशोक गहलोत, सोनिया से मांगी माफी◾असम में दर्दनाक हादसा, ब्रह्मपुत्र नदी में नाव डूबने से 10 लोग लापता, SDRF- NDRF ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया ◾पीएफआई को केरल हाईकोर्ट ने दी बड़ी चोट, हिंसा में तोड़फोड़ का वसूला जाएगा हर्जाना ◾बिहार : बालू माफियाओं के बीच वर्चस्व की खूनी जंग, पांच लोगों की हत्या ◾राहुल गांधी के कर्नाटक दौरे से पहले फटे पोस्टर, कांग्रेस ने भाजपा पर उठाए सवाल ◾बिहार बीजेपी का अगला अध्यक्ष कौन ? गठबंधन टूटने के बाद सियासी समीकरणों को साधने की कोशिश◾UP News: अलीगढ़ की मीट फैक्ट्री में हादसा, अमोनिया गैस का हुआ रिसाव, 50 मजदूर बेहोश, DM-SP मौके पर मौजूद ◾दिग्विजय भी लड़ेंगे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव, कल दाखिल करेंगे नामांकन पत्र ◾उत्तर प्रदेश : छोटी सी बात को लेकर हुआ पति-पत्नी में विवाद, लेनी पड़ी एक अपनी जान ◾

यूरोपीय संघ के सदस्य देशों ने तुर्की पर नए प्रतिबन्ध लगाने की योजना बनाई

यूरोपीय संघ के नेताओं ने शुक्रवार सुबह भूमध्यसागर में गैस भंडार से के उत्खनन को लेकर तुर्की के खिलाफ प्रतिबंधों के विस्तार की मंजूरी दे दी। यूरोपीय संघ के सदस्य देशों यूनान और साइप्रस ने इस भंडार पर दावा जताया है। यूरोपीय संघ के नेताओं ने ब्रसेल्स में आयोजित अपने शिखर सम्मेलन में एक बयान में कहा अफसोस की बात है कि तुर्की एकतरफा कार्रवाई और उकसावे में लगा हुआ है और यूरोपीय संघ, यूरोपीय संघ के सदस्य देशों और यूरोपीय संघ के नेताओं के खिलाफ अपनी बयानबाजी तेज कर दी है।

अक्टूबर में अपने अंतिम शिखर सम्मेलन में नेताओं ने तुर्की को 'एक सकारात्मक राजनीतिक ईयू-तुर्की एजेंडा' की पेशकश की थी। इसमें यह कहा गया था कि अगर वह पूर्वी भूमध्य सागर में अपनी अवैध गतिविधियों को रोक देता है, तो उसे व्यापार और सीमा शुल्क में लाभ होगा और सीरियाई शरणार्थियों को प्रबंधित करने में मदद करने के लिए उसे अधिक धन दिया जा सकता है।

नेताओं ने कहा कि यदि तुर्की सच्ची साझेदारी में शामिल होने और यूरोपीय संघ के साथ एक वास्तविक बातचीत शुरू करने के लिए तैयार है और अगर अंकारा संवाद के माध्यम से और अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार समस्याओं को सुलझाने की इच्छा दिखाता है, तो यह प्रस्ताव अभी भी उसके लिए मौजूद है। अब तक तुर्की की ओर से इसपर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। इसे देखते हुए इन नेताओं ने पूर्वी भूमध्य सागर में तुर्की की अनधिकृत उत्खनन गतिविधियों के मद्देनजर प्रतिबंधात्मक उपायों के तहत उस पर और प्रतिबंध लगाने के लिए 27 देशों के इस संघ के मंत्रियों को आमंत्रित किया है।