BREAKING NEWS

योगी सरकार ने दी बड़ी राहतःकोरोना काल में दर्ज 3 लाख मामले होंगे वापस, किसानों को बर्बाद फसल का मिलेगा मुआवजा◾क्रूज ड्रग्स जब्ती मामले में दो आरोपियों को मिली जमानत, NDPS कोर्ट ने किया रिहा ◾लालू के बयान पर भड़के नीतीश, वो चाहें तो गोली मरवा दें और इसके सिवा कुछ नहीं कर सकते◾LAC पर चीन चल रहा नई चाल! PLA ने नए प्रकार का ऑल-टेरेन व्हीकल तैनात कर बढ़ाई भारत की टेंशन?◾भारत का देसी टीका 'कोवैक्सीन' को 24 घंटे के अंदर मिलेगी इजाजत? WHO लेगा महत्वपूर्ण निर्णय◾लखीमपुर खीरी हिंसा केस में दो और आरोपी गिरफ्तार, BJP कार्यकर्ताओं ने ली चैन की सांस◾आर्यन खान को आज भी नहीं मिली जमानत, जानें कोर्ट में क्या हुआ?◾क्या राहुल द्रविड़ बन सकते है भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच ? हेड coach के लिए किया आवेदन◾राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ मंडाविया करेंगे बैठक, वैक्सीन की दूसरी डोज समेत कई मुद्दों पर होगी चर्चा ◾UP चुनाव में एक नई हाई-प्रोफाइल पार्टी की होगी एंट्री, हिंदी भाषी क्षेत्र में धूम मचाने के लिए पूरी तरह तैयार TMC◾कांग्रेस ने नफरत के खिलाफ ‘वैचारिक युद्ध’ का लिया निर्णय, AICC मीटिंग में हुए ये तीन अहम फैसले ◾लालू ने नीतीश को बताया 'सबसे अहंकारी', कांग्रेस के साथ तकरार के लिए 'छुटभैए' नेताओं को ठहराया जिम्मेदार ◾आर्यन का गोसावी के साथ संबंधों से इनकार, NCB ने जमानत का किया विरोध, लगाए ये बड़े इल्जाम ◾योगी का केजरीवाल पर तंज- राम को गाली देने वालों को अब आ रही अयोध्या की याद, पहले संभालिए दिल्ली ◾शिक्षित युवा पाकिस्तान के साथ अपनी पहचान क्यों चुनते हैं? केंद्र पता लगाए: महबूबा मुफ्ती◾अखिलेश यादव ने सरकार पर लगाया आरोप, कहा-भाजपा का 'झूठ का फूल' अब बना 'लूट का फूल' ◾मलिक ने लगाई आरोपों की झड़ी, कहा- सेलिब्रिटीज के फोन टैप करवाते हैं वानखेड़े, चलाते हैं 'वसूली गिरोह'◾नवाब मलिक के दावों को क्रांति वानखेड़े ने बताया गलत, बोलीं-मेरे पति एक ईमानदार अफसर◾पंजाब की सियासत में अमरिंदर खेलेंगे दाव? पूर्व मुख्यमंत्री कल कर सकते हैं नई राजनीतिक पार्टी की घोषणा ◾लखीमपुर हत्याकांड : SC का आदेश- गवाहों को दें सुरक्षा, जांच में तेजी लाए सरकार◾

शान की खातिर हर साल पाकिस्तान में 1000 से ज्यादा महिलाओं का होता है कत्ल, जानिये खौफनाक सच

नूर मुकादम की जिंदगी के आखिरी कुछ घंटे खौफनाक थे। 27 वर्षीय नूर ने इस दर्द से बचने के लिए खिड़की से छलांग लगा दी थी, लेकिन उसे वापस घर में लाया गया... पीटा गया और फिर उसका सिर काट उसकी हत्या की गई। उसे इतनी दर्दनाक मौत देने का आरोप उसके बचपन के दोस्त जहीर जाफर पर है। 

खबरों के अनुसार, नूर ने जहीर से शादी करने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद उसने कथित तौर पर यह कदम उठाया। इस घटना ने पिछले सप्ताह पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में सनसनी मचा दी थी, जहां पहले ही मानवाधिकार कार्यकर्ता महिलाओं के खिलाफ हो रहे हमलों के विरूद्ध आवाज उठा रहे हैं। 

प्रमुख मानवाधिकार कार्यकर्ता ताहिरा अब्दुल्ला ने कहा कि नूर मुकादम एक राजनयिक की बेटी थी और समाज में उसके ओहदे के कारण इस मामले को मिली इतनी तव्वजो के जरिए पाकिस्तान में महिलाओं के खिलाफ बढ़ रही हिंसा पर आखिरकार सवाल उठे। लेकिन इस तरह की हिंसा का शिकार होने वाली अधिकांश महिलाएं देश के गरीब और मध्यम वर्गों में से हैं और उनकी मौत को लेकर अक्सर कोई शिकायत दर्ज नहीं की जाती या इन्हें अनदेखा कर दिया जाता है। 

अब्दुल्ला ने कहा कि केवल एक सप्ताह में महिलाओं पर हुए हमलों की ‘‘ मैं अपने हाथ से लंबी एक सूची आपको दे सकता हूं। पाकिस्तान में महिलाओं के खिलाफ यौन अपराधों और हिंसा की महामारी एक मूक महामारी है जिसे कोई नहीं देख रहा और ना कोई इस बारे में बात कर रहा है।’’ 

उन्होंने कहा कि इन सबके बावजूद पाकिस्तान की संसद इस महीने एक विधेयक पारित करने में विफल रही, जो महिलाओं को घरेलू हिंसा से बचाने के लिए था। इसमें पति द्वारा की जाने वाली हिंसा भी शामिल है। इसके बजाय उसने एक इस्लामी विचारधारा परिषद को इस पर गौर करने को कहा है, इसी परिषद ने पहले कहा था कि पति के पत्नी को मारने में कुछ गलत नहीं है। 

इस साल की शुरुआत में जारी की गई ‘ह्यूमन राइट्स वॉच’ की रिपोर्ट के अनुसार, देश भर में घरेलू हिंसा ‘हॉटलाइन’ से एकत्र किए गए आंकड़ों में पिछले साल जनवरी और मार्च के बीच हुई घरेलू हिंसा में 200 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। कोविड-19 के कारण मार्च में शुरू हुए लॉकडाउन के दौरान तो यह आंकड़ें काफी अधिक थे। 

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने कहा कि पाकिस्तान में तथाकथित शान के लिए हत्या के कई मामले में अपराधी भाई, पिता या अन्य पुरुष रिश्तेदार होते हैं। हर साल, इस तरह से 1,000 से अधिक महिलाओं की हत्या कर दी जाती है, उनमें से कई की शिकायत भी दर्ज नहीं की जाती। 

अधिकार समूहों ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और उनकी सरकार की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि वह धार्मिक अधिकार के लिए काम करते हैं और महिलाओं पर हमलों के अपराधियों को माफ करते हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व क्रिकेटर, जिन्होंने तीन बार शादी की है और एक समय था जब खान की छवि कई महिलाओं के साथ संबंध रखने वाले व्यक्ति की थी, लेकिन अब उन्होंने एक रूढ़िवादी इस्लाम को अपना लिया है। वह एक धार्मिक व्यक्ति के साथ घनिष्ठ संबंध रखते हैं, जिन्होंने ‘‘महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों’’ के लिए कोविड-19 को दोषी ठहराया था।