BREAKING NEWS

मोदी ने की अमेरिकी सौर पैनल कंपनी प्रमुख के साथ भारत की हरित ऊर्जा योजनाओं पर चर्चा◾ MI vs KKR: केकेआर की पारी शुरू, जीत के लिए 156 रनों की लक्ष्य◾सेना की ताकत में होगा और इजाफा, रक्षा मंत्रालय ने 118 अर्जुन युद्धक टैंकों के लिए दिया आर्डर ◾असम के दरांग जिले में पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच में झड़प, 2 प्रदर्शनकारियों की मौत,कई अन्य घायल◾दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए घर पर ही की जाएगी टीकाकरण की सुविधा, केंद्र सरकार ने दी मंजूरी◾अमरिंदर का सवाल- कांग्रेस में गुस्सा करने वालों के लिए स्थान नहीं है तो क्या 'अपमान करने' के लिए जगह है◾तेजस्वी का तंज- 'नल जल योजना' बन गई है 'नल धन योजना', थक चुके हैं CM नीतीश ◾अमरिंदर के राहुल, प्रियंका को ‘अनुभवहीन’ बताने पर कांग्रेस ने कहा - बुजुर्ग गुस्से में काफी कुछ कहते है ◾जम्मू-कश्मीर : सेना का बड़ा ऑपरेशन, LoC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, तीन आतंकवादी ढेर◾आखिर किसने उतारा महंत नरेंद्र गिरी का शव, पुलिस के आने से पहले क्या हुआ शिष्य ने किया खुलासा ◾गैर BJP शासित राज्यों के राज्यपालों को शिवसेना ने बताया 'दुष्ट हाथी', कहा- पैरों तले कुचल रहे हैं लोकतंत्र ◾'धनबाद के जज उत्तम आनंद को जानबूझकर मारी गई थी टक्कर', CBI ने झारखंड HC को दी जानकारी◾महंत नरेन्‍द्र गिरि की मौत के बाद कमरे का वीडियो आया सामने, जांच के लिए प्रयागराज पहुंची CBI◾दिल्ली हाईकोर्ट में केंद्र ने कहा - पीएम केयर्स कोष सरकारी कोष नहीं है, यह पारदर्शिता से काम करता है◾अमेरिकी मीडिया में छाई पीएम मोदी और कमला हैरिस की मुलाकात, भारतीय अमेरिकियों के लिए बताया यादगार क्षण◾फोटो सेशन के लिए विदेश जाने की बजाए कोरोना मृतकों के लिए 5 लाख का मुआवजा दे PM : कांग्रेस ◾कांग्रेस में जारी है असंतुष्टि का दौर, नाराज जाखड़ पहुंचे दिल्ली, राहुल-प्रियंका समेत कई नेताओं से करेंगे मुलाकात ◾हिंदू-मुस्लिम आबादी पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने समझाया अपना 'गणित'◾अनिल विज का आरोप, भविष्य में पंजाब और PAK को नजदीक लाना चाहती है कांग्रेस◾पेगासस केस पर SC सख्त, मामले की जांच के लिए बनाएगा एक्सपर्ट कमेटी, अगले हफ्ते सुनाएगा फैसला◾

FATF ने नहीं दी पाकिस्तान को राहत, जानें किन वजहों से बना रहेगा ग्रे सूची में बरकरार

दुनियाभर के देशों पर मनी लांड्रिंग और आतंकी वित्तीय पोषण पर नजर रखने वाले फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्तान को एक बार फिर झटका देते हुए उसे एक बार फिर से ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा है। इस तरह से पाकिस्तान को किसी भी तरह की राहत नहीं दी गई है। 

इस पर एफएटीएफ ने कहा कि मुख्य मुद्दा जिस पर पाकिस्तान को अभी ध्यान देना है, वह हाफिज सईद, मसूद अजहर जैसे संयुक्त राष्ट्र में सूचीबद्ध आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करने में विफलता है। एफएटीएफ के अध्यक्ष मार्कस प्लेयर ने कहा कि पाकिस्तान लगातार निगरानी वाली सूची में बना रहेगा और उसने 27 में से 26 कार्यबिंदुओं को पूरा किया है। 

आपको बता दें कि एफएटीएफ के इस समूह में चीन, अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और भारत शामिल हैं। इसके बाद एफएटीएफ की तरफ से पाकिस्तान को अगले छह महीने के लिए एक बार फिर से ग्रे लिस्ट में रखने का औपचारिक ऐलान आज किया गया है। गौरतलब है कि पाकिस्तान को 2018 के जून महीने में ही ग्रे सूची में डाला था. इसके बाद अक्टूबर 2018 और फरवरी 2019 में हुए एफएटीएफ के रिव्यू के दौरान भी पाकिस्तान को कोई राहत नहीं मिल पाई थी। 

एफएटीएफ की सिफारिशों पर पाकिस्तान काम करने में विफल रहा है। इसके साथ ही, दौरान पाकिस्तान में विदेशों से और घरेलू स्तर पर लगातार आतंकी संगठनों को आर्थिक मदद मिलती रही है। पाकिस्तान के एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में बने रहने के बाद पहले से ही बदहाली की हालत झेल रहे पाक की आर्थिक स्थिति पर बहुत बुरा असर पड़ेगा। इस लिस्ट में होने की वजह से उसे विश्व बैंक, आईएमएफ और यूरोपीय संघ से आर्थिक मदद मिलने में समस्या बनी रहेगी। इसके साथ ही, दूसरे देशों से भी आर्थिक तौर पर मदद नहीं मिल पाएगी।