BREAKING NEWS

कांग्रेस, NCP और शिवसेना गठबंधन पर बोले गडकरी- वे महाराष्ट्र को एक स्थिर सरकार नहीं दे पाएंगे◾मुंबई में शिवसेना ने मारी बाजी, किशोरी पेडनेकर बीएमसी की नई मेयर चुनीं गईं◾प्रकाश जावड़ेकर बोले- बीजिंग से कम समय में दिल्ली में प्रदूषण से निपट लेंगे◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान, बोले-पानी और सीवर के नए कनेक्शन पर देने होंगे 2,310 रुपये ◾NCP ने ली भाजपा की चुटकी, कहा- 'शरद पवार ने राजनीति के चाणक्य को दी मात'◾महाराष्ट्र : सरकार गठन को लेकर मुंबई में शाम 4 बजे होगी शिवसेना, NCP और कांग्रेस की बैठक◾संसद परिसर में कांग्रेस ने 'Electoral Bond' के खिलाफ किया प्रदर्शन◾गठबंधन पर संजय निरुपम तंज, कहा- 'तीन तिगाड़े काम बिगाड़े' वाली सरकार चलेगी कब तक?◾महाराष्ट्र में 5 साल के लिए शिवसेना का ही होगा मुख्यमंत्री : संजय राउत◾इजराइल के PM बेंजामिन नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी और विश्वासघात मामले में आरोप तय◾सत्यपाल मलिक बोले- अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर में केवट-शबरी की भी हों मूर्तियां, ट्रस्ट को लिखूंगा चिट्ठी◾झारखंड चुनाव: भाजपा के 'बागी' सरयू राय के बहाने नीतीश ने 'तीर' से साधे कई निशाने◾अयोध्या विवाद पर आए फैसले पर दूसरे देशों से संवाद बहुत सफल रहा : विदेश मंत्रालय◾झारखंड विधानसभा चुनाव : दूसरे चरण में 20 विधानसभा सीटों पर 260 प्रत्याशी आजमाएंगे किस्मत◾उद्धव ठाकरे और आदित्य ने मुंबई में शरद पवार से की मुलाकात ◾सोनिया ने शिवसेना संग गठबंधन के लिए सीडब्ल्यूसी का सुरक्षित रास्ता चुना ◾श्रीलंका की नई सरकार के साथ करीब से मिलकर काम करने को तैयार : भारत◾महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार के गठन के आसार बढे , शुक्रवार को हो सकती है इस बारे में घोषणा◾चुनावी बांड से चुनावी राजनीति में साफ धन आया : भाजपा ◾SPG सुरक्षा हटाए जाने पर बोलीं प्रियंका - यह राजनीति है ◾

विदेश

FATF ने पाक को ‘ग्रे सूची’ में कायम रखा, कार्रवाई की चेतावनी दी

 imran khan 12002

आतंकवाद को मुहैया कराए जाने वाले धन की निगरानी करने वाली अंतरराष्ट्रीय निगरानी संस्था ‘FATF ’ ने शुक्रवार को पाकिस्तान को अगले साल फरवरी तक के लिये अपनी ‘ग्रे सूची’ में रख दिया। धन शोधन (मनी लॉड्रिंग) और आतंकवाद को धन मुहैया कराए जाने के खिलाफ पर्याप्त कार्रवाई करने में इस्लामाबाद के नाकाम रहने को लेकर यह कदम उठाया गया है। 

वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (एफएटीएफ) की यहां पांच दिवसीय पूर्ण बैठक संपन्न होने के बाद यह फैसला लिया गया। इसमें इस बात का जिक्र किया गया कि पाकिस्तान को लश्कर ए तैयबा और जैश ए मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों पर नकेल कसने के लिये दी गई 27 सूत्रीय कार्ययोजना में इस्लामाबाद सिर्फ पांच पर ही काम करने में सक्षम रहा। उल्लेखनीय है भारत में सिलसिलेवार हमलों के लिये ये दोनों आतंकी संगठन जिम्मेदार रहे हैं। बैठक में यह आमराय रही कि इस्लामाबाद को दी गई 15 महीने की समय सीमा समाप्त होने के बावजूद पाकिस्तान ने 27 सूत्री कार्य योजना पर खराब प्रदर्शन किया। 

महाराष्ट्र : शाह ने कांग्रेस पर साधा निशाना, पूछा-70 साल के शासन में जनजातीय समुदाय के लिए क्या किया?

अधिकारियों ने कहा कि पाकिस्तान को उसकी ‘ग्रे सूची’ में कायम रखते हुए एफएटीएफ ने धन शोधन और आतंकवाद को मुहैया कराये जा रहे धन को रोकने में नाकाम रहने को लेकर इस्लामाबाद को कार्रवाई की चेतावनी दी। एफएटीएफ पाकिस्तान की स्थिति के बारे में अगले साल फरवरी में अंतिम फैसला लेगा। 

एफएटीएफ ने पाकिस्तान पर अपना फैसला सार्वजनिक करते हुए वैश्विक वित्तीय संस्थानों को नोटिस दिया है कि वे फरवरी 2020 में किसी अकस्मात स्थिति के लिये अपनी प्रणालियों को तैयार रखें। उल्लेखनीय है कि यदि पाकिस्तान को ‘ग्रे सूची’ में कायम रखा जाता है या ‘डार्क ग्रे’ सूची में डाला जाता है, तो उसकी वित्तीय हालत कहीं अधिक जर्जर हो जाएगी। 

ऐसी स्थिति में इस देश को अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ), विश्व बैंक और यूरोपीय संघ से वित्तीय मदद मिलनी बहुत मुश्किल हो जाएगी। इस घटनाक्रम से नजदीकी तौर पर जुड़े एक अधिकारी ने कहा, ‘‘एक बार फिर से आमराय से यह फैसला लिया गया कि एफएटीएफ पाकिस्तान को ग्रे सूची में बनाये रखेगा और पाकिस्तान को यह चेतावनी दी कि यदि उसने कार्रवाई योजना का पूरी तरह से पालन नहीं किया और महत्वपूर्ण एवं सतत प्रगति नहीं दिखाई तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।’’ इस तरह की कार्रवाई में वैश्विक वित्तीय संस्थानों को पाकिस्तान के साथ कारोबारी संबंध और लेनदेन पर विशेष ध्यान देने की अपील की जा सकती है। 

गौरतलब है कि ईरान के लिये भी इसी भाषा का इस्तेमाल किया गया था, जिसे काली सूची में रखा गया है। एफएटीएफ ने समीक्षा के दायरे में रहे सभी क्षेत्राधिकारों पर चर्चा की। इसमें पाकिस्तान भी शामिल है और उस पर आमराय भी बनी। अब, फरवरी 2020 में पाकिस्तान को औपचारिक रूप से काली सूची में डाले जाने की संभावना बढ़ गई है। 

एफएटीएफ एक अंतर-सरकारी संस्था है। धन शोधन, आतंकवाद को धन मुहैया कराये जाने और अन्य संबद्ध खतरों का मुकाबला करने के लिये 1989 में इसकी स्थापना की गई थी। पेरिस के इस निगरानी संगठन ने पिछले साल जून में पाक को ग्रे सूची में रखा था और उसे एक कार्य योजना सौंपते हुए उसे अक्टूबर 2019 तक पूरा करने, या ईरान और उत्तर कोरिया के साथ ‘काली सूची’ में डाले जाने के जोखिम का सामना करने को कहा गया था।