BREAKING NEWS

जयशंकर ने भारत में अवसरों पर ध्यान देने के लिए इजराइली कारोबारियों को किया प्रोत्साहित ◾राहुल से मुलाकात कर भी नहीं माने सिद्धू, सोनिया को लिखा 13 सूत्री एजेंडा वाला खत◾आतंकवादी हमले में बिहार के दो लोगों की हत्या पर CM नीतीश ने की चिन्ता व्यक्त, उपराज्यपाल से फोन पर की बात ◾J&K: 'टारगेट किलिंग' के मद्देनजर इमरजेंसी एडवाइजरी जारी, पुलिस-आर्मी कैंप में लाए जाएंगे बाहरी मजदूर ◾सिंघु बॉर्डर लिंचिंग : कोर्ट ने तीन आरोपियों को पुलिस रिमांड पर भेजा, दो एसआईटी कर रही जांच◾ J-K: लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने किया गैर-कश्मीरियों पर हमला, कुलगाम में बिहार के दो मजदूरों की हत्या◾UP विधानसभा चुनाव : चंद्रशेखर आजाद बोले- सत्ता में आए तो किसानों को एमएसपी की देंगे गारंटी◾ J-K में आतंकी हमलो के बीच भारत-पाकिस्तान मैच को रद्द करने की मांग:केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह◾UP विधानसभा उपाध्यक्ष पद के लिए सपा के उम्मीदवारों ने दाखिल किया नामांकन पत्र, BJP ने नितिन अग्रवाल का किया समर्थन ◾ PM मोदी ने केरल के CM पिनराई विजयन से की बात, भारी बारिश और भूस्खलन पर हुई चर्चा◾गोवा के एक नेता ने मां दुर्गा से की ममता बनर्जी की तुलना, कहा- BJP की 'भस्मासुर' सरकार का करेंगी नाश ◾BJP राज में महंगाई की बोझ तले दबे हैं किसान, केवल मोदी मित्र हो रहे हैं धनवान : प्रियंका गांधी ◾किस वजह से अधिक खतरनाक बना डेल्टा कोविड वेरिएंट, रिसर्च में हुआ खुलासा ◾जम्मू-कश्मीर : पुंछ में फिर मुठभेड़, आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने घेरा, दोनों तरफ से हुई गोलीबारी ◾विपक्ष पर बरसे CM योगी- पिछली सरकारों की दंगा ही थी फितरत, प्रश्रय देकर दंगाइयों को बढ़ाते थे आगे ◾सिद्धू ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र, 13 सूत्री एजेंडे के साथ मुलाकात का मांगा समय◾अखिलेश का तीखा हमला- 'UP को योगी सरकार नहीं, योग्य सरकार चाहिए', अंधेरे में है देश का भविष्य ◾ड्रैगन पर पाकिस्तान का सख्त एक्शन- फर्जी दस्तावेज जमा करने पर चीनी कंपनी को ब्लैक लिस्ट में डाला◾ उत्तराखंड में भारी बारिश होने की संभावना को लेकर जारी किया गया अलर्ट, SDRF की 29 टीमों ने संभाला मोर्चा◾बाढ़ प्रभावित केरल को गृहमंत्री शाह ने हर संभव मदद का दिया आश्वासन, भूस्खलन से मरने वालों की संख्या हुई 11◾

पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप के महाभियोग ट्रायल के दौरान छाए रहे 6 जनवरी को हुई कैपिटल हिंसा के फुटेज

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दूसरे महाभियोग ट्रायल के पहले दिन पूरे समय 6 जनवरी के अमेरिकी कैपिटल के सिक्योरिटी कैमरों, बॉडी कैमरों, भयभीत पुलिस अधिकारियों के सार्वजनिक स्रोतों से मिले वीडियो और ऑडियो रिकॉर्डिग्स छाए रहे। ट्रंप पर विद्रोह को उकसाने का आरोप लगा है, क्योंकि 6 जनवरी को ट्रंप समर्थकों की भीड़ ने रैली में हिस्सा लेने के बाद यूएस कैपिटल पर हमला बोल दिया था। ट्रंप ने दावा किया है कि यह चुनाव में हुई धोखाधड़ी के महीनों बाद उसके खिलाफ उठाया गया कदम था।

6 घंटे से अधिक देर तक चले तर्कों के दौरान अभियोजकों ने समय का उल्लेख करते हुए वीडियो रीक्रिएट किए और बताया कि दंगाई अमेरिकी राजनीति की पूरे पॉवर स्ट्रक्च र के कितने करीब आ गए थे। 9 महाभियोग मैनेजर्स में से एक एरिक स्वैलवेल ने कहा, आप में से कई लोग यह नहीं जानते हैं कि आप दंगाइयों के कितने करीब थे। आप उनसे केवल 58 कदम दूर थे। हाउस मैनेजरों का कहना है कि दंगाई तत्कालीन राष्ट्रपति माइक पेंस और हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी की हत्या करना चाहते थे। वीडियो साक्ष्य के जरिए अभियोजक, ट्रंप और दंगाइयों के बीच सीधा संबंध जोड़ रहे हैं।

बुधवार को दिखाए गए वीडियो में हॉल में घूमते हुए दंगाई चिल्ला रहे थे कि 'नैन्सी! तुम कहां हो!'। वे कह रहे थे कि 'हैंग माइक पेंस!' और 'पेंस को बाहर लाओ!' इन वीडियो को दिखाते हुए प्रमुख अभियोजक ने ट्रंप को 'प्रमुख उकसाने वाला' और 'मासूस दर्शक' कहा। उन्होंने कहा, जब उनकी भीड़ ने सीनेट पर कब्जा कर लिया और सदन पर हमला किया और कानून प्रवर्तन पर हमला किया, तो उन्होंने इसे एक रियलिटी शो की तरह टीवी पर देखा।

हालांकि दोनों पक्षों के बोलने के बाद जब सीनेट आखिर में इस बात पर मतदान करेगी कि विद्रोह को उकसाने में ट्रंप दोषी हैं या नहीं तो उन्हें दोषी साबित करने के लिए कम से कम 67 वोटों की जरूरत होगी। सीनेट में 50 रिपब्लिकन और 50 डेमाक्रेट हैं। वीडियो प्रजेंटेशन को कई रिपब्लिकन ने नहीं देखा।