BREAKING NEWS

यह गांधी का भारत नहीं गोडसे का भारत लगताः PDP अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती◾अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी को 1 साल की सजा, चुनाव में अवैध पैसे के इस्तेमाल के दोषी करार

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी को 2012 में फिर से चुनाव लड़ने के असफल प्रयास के लिए गैरकानूनी फंडिंग का दोषी पाया गया है। कोर्ट ने उन्हें एक साल की सजा भी सुनाई है। अदालत उन्हें इलेक्ट्रॉनिक मॉनिटरिंग ब्रेसलेट पहनकर घर पर सजा काटने की अनुमति देगी। सरकोजी 2007 से 2012 तक फ्रांस के राष्ट्रपति रहे और वह कुछ भी गलत करने से दृढ़ता से इनकार करते रहे हैं। ऐसी संभावना है कि वह फैसले के खिलाफ अपील करेंगे। सरकोजी फैसला सुनाए जाने के समय पेरिस की अदालत  में मौजूद नहीं थे। उन पर पुन: चुनाव लड़ने के लिए खर्च की जानी वाली अधिकतम वैध धनराशि 2.75 करोड़ डॉलर से लगभग दोगुना धन खर्च करने आरोप है। वह समाजवादी नेता फ्रांस्वा ओलांद से हार गए थे। अदालत ने कहा कि सरकोजी इस बात को भली-भांति जानते थे कि धन खर्च की सीमा पार हो चुकी है।  लेकिन इसके बाद भी उन्होंने अतिरिक्त खर्चों पर लगाम नहीं लगाई। पूर्व राष्ट्रपति सरकोजी लंबे समय से अपने ऊपर लगे आरोपों को नकाररते हैं। उन्होंने मई और जून में भी अदालत में खुद के बेगुनाह होने की बात कही थी।

अकाउंटेंट्स ने दी थी पैसों की सीमा पार होने की चेतावनी

चुनावी वित्त पोषण मामले को लेकर अभियोजकों का मानना है कि सरकोजी 2012 के चुनाव से हफ्तों पहले जानते थे कि उनका खर्च कानून की अधिकतम सीमा के करीब पहुंच रहा है। फ्रांसीसी कानून के तहत चुनाव में इस्तेमाल होने वाले पैसों को सख्ती के साथ सीमित किया गया है। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति पर आरोप लगाया कि उनके अकाउंटेंट्स ने उन्हें पैसे को लेकर दो चेतावनी भी दी, लेकिन उन्होंने उसे नजरअंदाज कर दिया। अभियोजकों ने तर्क दिया कि सरकोजी अपने अभियान के वित्त पोषण के लिए जिम्मेदार एकमात्र व्यक्ति हैं और उन्होंने विशाल रैलियों सहित कई रैलियों का आयोजन करके पैसे की सीमा को पार करने का विकल्प चुना। 

अपने बचाव में ये बोले पूर्व राष्ट्रपति

वहीं, सुनवाई के दौरान, सरकोजी ने अदालत से कहा कि अतिरिक्त पैसा उनके अभियान में नहीं लगाया गया, बल्कि इससे अन्य लोगों को अमीर बनाने में मदद मिली। उन्होंने किसी भी धोखाधड़ी वाले इरादे से इनकार किया।  उन्होंने यह भी जोर दिया कि वह दिन-प्रतिदिन के कार्यक्रमों को नहीं संभालते, क्योंकि उनके पास ऐसा करने के लिए एक टीम थी। इसलिए खर्च की राशि के लिए उन्हें दोषी नहीं ठहराया जा सकता है. इस मामले में पूर्व राष्ट्रपति के अलावा 13 अन्य लोगों पर केस चला है। इसमें रिपब्लिकन पार्टी के सदस्य, अकाउंटेंट और रैली आयोजक शामिल हैं। इन सब पर जालसाजी, विश्वास तोड़ने, धोखाधड़ी करने और अवैध वित्त पोषण सहित कई आरोप थे।