BREAKING NEWS

संसद में नागरिकता विधेयक का पारित होना गांधी के विचारों पर जिन्ना के विचारों की होगी जीत : शशि थरूर◾अनाज मंडी हादसे के लिए दिल्ली सरकार और MCD जिम्मेदार: सुभाष चोपड़ा◾दिल्ली आग: PM मोदी ने की मृतक के परिवारों के लिए 2 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा◾दिल्ली आग: दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री मालिक के खिलाफ दर्ज किया मामला◾दिल्ली आग : CM केजरीवाल ने मृतकों के परिवारों के लिए 10 लाख रुपये मुआवजे का किया ऐलान◾दिल्ली आग: अमित शाह ने घटना पर शोक किया व्यक्त, प्रभावित लोगों को तत्काल राहत मुहैया कराने का दिया निर्देश◾कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस का मोदी पर वार, कहा- खुले आम घूम रहे हैं अपराधी, PM हैं ‘‘मौन’’ ◾दिल्ली: अनाज मंडी में एक मकान में लगी आग, 43 लोगों की मौत, 50 लोगों को सुरक्षित बाहर निकला गया ◾उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने कहा- CM योगी के आने तक नहीं होगा अंतिम संस्कार, बहन ने की ये मांग◾दिल्ली: अनाज मंडी में लगी भीषण आग पर PM मोदी और मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जताया दुख◾RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले - गोसेवा करने वाले कैदियों की आपराधिक प्रवृत्ति में आई कमी◾देवेंद्र फडणवीस का दावा- अजित पवार ने सरकार बनाने के लिए मुझसे किया था संपर्क◾उन्नाव रेप पीड़िता का आज होगा अंतिम संस्कार, गांव में सुरक्षा के कड़े इंतजाम◾कहीं एनआरसी जैसा न हो सीएबी का हाल, आरएसएस बना रही रणनीति ◾झारखंड में रविवार को राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी की चुनाव सभाएं◾सोनिया ने रविवार को बुलाई संसदीय रणनीति समूह की बैठक, नागरिकता विधेयक पर होगी चर्चा ◾PM मोदी ने वैज्ञानिकों का कम लागत वाली प्रौद्योगिकियों के विकास का किया आह्वान ◾NIA ने आईएसआईएस 2 संदिग्धों के खिलाफ आरोप पत्र किया दायर◾उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने मरने से पहले कहा-'मुझे बचाओ, मैं मरना नहीं चाहतीं' ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता युवती का शव उसके गांव लाया गया ◾

विदेश

पाकिस्तान की पूर्व गवर्नर शमशाद अख्तर ने इमरान मंत्रिमंडल में शामिल होने से किया इंकार

 shamshad akhtar

स्टेट बैंक आफ पाकिस्तान (एसबीपी) की पूर्व गवर्नर शमशाद अख्तर ने इमरान खान मंत्रिमंडल में शामिल होने से इन्कार कर दिया है। डॉ. अख्तर ने पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत विशेष सहायक का ओहदा दिए जाने से मतभेदों के चलते इमरान खान मंत्रिमंडल में शामिल होने से मना किया है। 

कैबिनेट डिवीजन ने 11 जुलाई को डॉ अख्तार को पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत प्रधानमंत्री का विशेष सहायक नियुक्त करने को अधिसूचित किया था। यह विभाग व्यावहारिक रूप से अस्तित्व में नहीं था। करीब तीन माह की अवधि बीत जाने के बाद वह मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुईं। 

मुरादाबाद में डबल डेकर ट्रेन के 2 कोच पटरी से उतरे, सभी यात्री सुरक्षित

डॉ अख्तर ने कहा,‘‘ मैंने संघीय सरकार में शामिल नहीं होने का निर्णय किया है।’’ उन्होंने हालांकि मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने के कारण नहीं बताया। इमरान खान मंत्रिमंडल में 48 सदस्य हैं, जिसमें से 20 चुने हुए जनप्रतिनिधि नहीं हैं। डॉ अख्तर ने एसबीपी गवर्नर के अलावा 2018 के आम चुनाव के लिए गठित कार्यवाहक सरकार में वित्त मंत्री का दायित्व निभाया था। 

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सूत्रों ने दावा किया है कि जानी-मानी अर्थशास्त्री अपनी शख्सियत के अनुरूप पद चाहती थी। सूत्रों के अनुसार वह संघीय मंत्री दर्जा स्तर के साथ प्रधानमंत्री की सलाहकार के रुप में शामिल होना चाहती थी। सूत्रों के इस दावे को डॉ अख्तर ने खारिज कर दिया। 

पूर्व गवर्नर ने कहा कि उन्होंने कभी भी विशिष्ट पोर्टफोलियों के लिए नहीं कहा था। प्रधानमंत्री के प्रवक्ता नदीम अफजल चान ने कहा कि उन्हें डॉ अख्तर के संघीय मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने के पीछे का कारण नहीं पता है।