BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर हुआ 22, संवेदनशील इलाकों में भारी सुरक्षा बल तैनात◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾दिल्ली के तनावपूर्ण इलाके छावनी में तब्दील, सुरक्षा बलों के फ्लैगमार्च के साथ स्पेशल सीपी ने किया दौरा◾शाहीन बाग मुद्दे को लेकर 23 अप्रैल को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾

जी-7 के देशों ने ईरान से वार्ता की जिम्मेदारी नहीं सौंपी : मैक्रों

पेरिस (स्पूतनिक) : फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने रविवार को इस बात का खंडन किया कि जी-7 देशों के नेताओं ने इस मंच की ओर से परमाणु मसले पर ईरान से बातचीत करने की जिम्मेदारी उन्हें सौंपी है। 

इससे पहले फ्रांस के मीडिया ने राजनियक सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट दी थी कि जी -7 देशों ने बियारिज समझौतों के नतीजों के आधार पर परमाणु समझौते के भविष्य के मसले पर ईरान को संदेश देने की जिम्मेदारी श्री मैक्रों को दी है। 

रिपोर्टों के मुताबिक, फ्रांस, इटली, जर्मनी, ब्रिटेन,अमेरिका, कनाडा, जापान एवं यूरोपीय संघ (ईयू) के प्रमुखों ने इस मुद्दे पर श्री मैक्रों को वार्ता आयोजित करने और ईरान को संदेश देने का कार्य सौंपा है। फ्रांस के कूटनीतिक सूत्रों के अनुसार, इन चर्चाओं का मकसद ईरान को परमाणु हथियार समझौते से हटने से रोकना और क्षेत्र में तनाव को कम करना शामिल है। 

बाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी इस बात का खंडन किया था कि सम्मेलन में इस मुद्दे पर किसी तरह की चर्चा हुयी थी। 

श्री मैक्रों ने बियारिज में पत्रकारों से कहा,‘‘ ईरान के मसले पर हमने कल जरुर बात की थी.....पहली बात यह है कि जी -7 का कोई भी देश इस पक्ष में नहीं है कि ईरान के पास परमाणु हथियार हो। 

दूसरी बात, जी-7 के सदस्य देश क्षेत्र में शांति और स्थायीत्व को लेकर प्रतिबद्ध हैं और कोई भी देश ऐसा कदम नहीं उठाना चाहेगा जिससे क्षेत्र में अशांति और अस्थिरता उत्पन्न हो। हमने इसी दायरे के अंदर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।’’ उन्होंने कहा कि जी-7 एक औपचारिक क्लब है और कोई भी देश एक दूसरे को दिम्मेदारी नहीं सौंप सकता है। 

उल्लेखनीय है कि फ्रांस के बिआरिज में जी-7 शिखर सम्मेलन चल रहा है और 24 से 26 अगस्त तक फ्रांस में आयोजित होने वाले इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद, मोदी हिस्सा ले रहे हैं। 

जी-7 दुनिया के सात सबसे विकसित और औद्योगिक महाशक्तियों का संगठन है। इसे ग्रुप ऑफ सेवन (त्र7) के नाम से भी जाना जाता है।