BREAKING NEWS

गृह मंत्री अमित शाह बोले- देश की सुरक्षा को लेकर कोई समझौता बर्दाश्त नहीं ◾आज देश सरदार पटेल के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार होते हुए देख रहा है : PM मोदी◾मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है◾शारदा चिट फंड घोटाला : कोलकाता HC ने राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई से किया इनकार◾कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- कश्मीर में हालात सामान्य तो फारुक अब्दुल्ला गिरफ्तार क्यों ?◾मंदी की मार को लेकर जिम्मेदारी से बचना चाहती है बीजेपी सरकार : प्रियंका गांधी◾भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों से जल्द ही करूंगा मुलाकात : डोनाल्ड ट्रंप ◾राजस्थान : BSP को झटका, छह विधायकों ने थामा कांग्रेस का हाथ ◾प्रधानमंत्री मोदी का 69वां जन्मदिन, राष्ट्रपति कोविंद सहित विपक्ष के अन्य नेताओं ने दी शुभकामनाएं◾सरदार सरोवर का गेट खोलने की मांग को लेकर मेधा पाटकर मंगलवार को निकालेंगी रैली ◾PM मोदी अपने जन्मदिन के मौके पर नर्मदा बांध का करेंगे दौरा ◾नितिन गडकरी बोले- सिर्फ आरक्षण से किसी समुदाय का विकास सुनिश्चित नहीं हो सकता ◾TOP 20 NEWS 16 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर बोले- जल्द ही पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा दूरदर्शन इंडिया◾योगी सरकार को इलाहाबाद HC से झटका, 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर रोक◾शरद पवार का ऐलान- महाराष्ट्र में 125-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी NCP और कांग्रेस◾हिंदी को लेकर अमित शाह के बयान पर बोले कमल हासन - कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता, 1950 का वादा◾CJI रंजन गोगोई बोले-जरूरत हुई तो मैं खुद जाऊंगा जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट◾गंगवार के बयान पर प्रियंका का वार, कहा-मंत्री जी, 5 साल में कितने उत्तर भारतीयों को दी हैं नौकरियां◾SC ने गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की दी अनुमति, कोई राजनीतिक रैली न करने का दिया आदेश◾

विदेश

जी-7 के देशों ने ईरान से वार्ता की जिम्मेदारी नहीं सौंपी : मैक्रों

पेरिस (स्पूतनिक) : फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने रविवार को इस बात का खंडन किया कि जी-7 देशों के नेताओं ने इस मंच की ओर से परमाणु मसले पर ईरान से बातचीत करने की जिम्मेदारी उन्हें सौंपी है। 

इससे पहले फ्रांस के मीडिया ने राजनियक सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट दी थी कि जी -7 देशों ने बियारिज समझौतों के नतीजों के आधार पर परमाणु समझौते के भविष्य के मसले पर ईरान को संदेश देने की जिम्मेदारी श्री मैक्रों को दी है। 

रिपोर्टों के मुताबिक, फ्रांस, इटली, जर्मनी, ब्रिटेन,अमेरिका, कनाडा, जापान एवं यूरोपीय संघ (ईयू) के प्रमुखों ने इस मुद्दे पर श्री मैक्रों को वार्ता आयोजित करने और ईरान को संदेश देने का कार्य सौंपा है। फ्रांस के कूटनीतिक सूत्रों के अनुसार, इन चर्चाओं का मकसद ईरान को परमाणु हथियार समझौते से हटने से रोकना और क्षेत्र में तनाव को कम करना शामिल है। 

बाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी इस बात का खंडन किया था कि सम्मेलन में इस मुद्दे पर किसी तरह की चर्चा हुयी थी। 

श्री मैक्रों ने बियारिज में पत्रकारों से कहा,‘‘ ईरान के मसले पर हमने कल जरुर बात की थी.....पहली बात यह है कि जी -7 का कोई भी देश इस पक्ष में नहीं है कि ईरान के पास परमाणु हथियार हो। 

दूसरी बात, जी-7 के सदस्य देश क्षेत्र में शांति और स्थायीत्व को लेकर प्रतिबद्ध हैं और कोई भी देश ऐसा कदम नहीं उठाना चाहेगा जिससे क्षेत्र में अशांति और अस्थिरता उत्पन्न हो। हमने इसी दायरे के अंदर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।’’ उन्होंने कहा कि जी-7 एक औपचारिक क्लब है और कोई भी देश एक दूसरे को दिम्मेदारी नहीं सौंप सकता है। 

उल्लेखनीय है कि फ्रांस के बिआरिज में जी-7 शिखर सम्मेलन चल रहा है और 24 से 26 अगस्त तक फ्रांस में आयोजित होने वाले इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद, मोदी हिस्सा ले रहे हैं। 

जी-7 दुनिया के सात सबसे विकसित और औद्योगिक महाशक्तियों का संगठन है। इसे ग्रुप ऑफ सेवन (त्र7) के नाम से भी जाना जाता है।