BREAKING NEWS

Gujarat Assembly Election: PM मोदी आज अहमदाबाद में रोड शो से पहले कई जनसभाओं को भी करेंगे संबोधित◾LAC पर सैन्य चौकियां बना रहा है चीन, आक्रामक रुख पर अमेरिकी सांसद का बड़ा बयान◾राहुल गांधी को मिला अभिनेत्री स्वरा भास्कर का साथ, Bharat Jodo Yatra में दिग्गज नेताओं के साथ हुईं शामिल◾दूल्हे ने स्टेज पर किया KISS ..तो दुल्हन ने तोड़ी शादी, बोली-इनका चरित्र ठीक नहीं◾अमेरिका में VR Headset नहीं खरीदने पर 10 साल के बच्चे ने की अपनी मां हत्या◾गुजरात : मतदान से पहले BJP उम्मीदवार पर जानलेवा हमला, कांग्रेस पर लगा गंभीर आरोप◾Shraddha Murder Case: नार्को में सवालों के जवाब उगलेगा आफताब, अस्पताल के बाहर कड़ी सुरक्षा◾गुजरात चुनाव 2022 : जानिये कौन है साइकिल पर गैस सिलेंडर लेकर वोट डालने पहुंचे कांग्रेस उम्मीदवार◾श्रद्धा मर्डर केस : आज होगा आफताब का नार्को टेस्ट, आरोपी को अंबेडकर अस्पताल लेकर पहुंची पुलिस◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटो में 291 नए मामले दर्ज, उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 4,767 ◾गुजरात विधानसभा चुनाव : पहले चरण के लिए मतदान शुरू, 788 उम्मीदवारों की किस्मत का होगा फैसला ◾गुजरात चुनाव के पहले चरण का मतदान शुरू, PM मोदी व गृहमंत्री ने की बड़ी संख्या में मतदान की अपील◾आज का राशिफल (01 दिसंबर 2022)◾खुद के विकास में जुटे नेता, एमसीडी चुनाव दोबारा लड़ रहे 75 पार्षदों की संपत्ति में तीन से 4,437% तक की वृद्धि : ADR◾SC ने कहा- सबसे महत्वपूर्ण सवाल, क्या ‘जल्लीकट्टू’ को किसी भी रूप में अनुमति दी जा सकती◾सीएम योगी ने कहा- सैनी ने मुजफ्फरनगर की गरिमा बचाने के लिए खोई विधानसभा सदस्यता◾Congress ने कहा- तीसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर और गिरने का डर, सच्चाई से मुंह नहीं मोड़ें PM◾Delhi Excise Policy: अमित अरोड़ा की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने 7 दिन के लिए ईडी हिरासत में भेजा◾धामी सरकार का कट्टरपंथियों पर प्रहार, विधानसभा में सख्त प्रावधान वाला धर्मांतरण रोधी संशोधन ​विधेयक पारित◾गुजरात पर चुनाव पूर्व सर्वेक्षण से कांग्रेस को तकलीफ, EC से कार्रवाई की मांग की◾

रिहा होते ही बोला हाफिज - कश्मीर के लिए लड़ता रहूंगा

मुंबई आतंकवादी हमले का मास्टरमाइंड और आतंकवादी संगठन जमात-उद-दावा (जेयूडी) का सरगना हाफिज सईद ने कल आधी रात को हिरासत की मियाद खत्म होने के बाद आजाद होते ही कहा कि वह कश्मीर की लड़ाई के लिए पूरे पाकिस्तान से लोगों को इकट्ठा करेगा और कश्मीरियों को आजादी दिलाने में मदद करेगा।

आतंकवादी गतिविधियों में भूमिका निभाने को लेकर अमेरिका ने पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जेयूडी के सरगना सईद पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है। सईद इस साल जनवरी से ही हिरासत में था, लेकिन पाकिस्तान सरकार ने अब किसी दूसरे केस में उसे फिर से हिरासत में नहीं लेने का फैसला किया।

रिहा होने के बाद सईद ने अपने घर के बाहर जुटे समर्थकों से कहा, 'मुझे 10 महीने तक नरजबंद रखा गया ताकि मुझे कश्मीर पर बोलने से रोका जा सके। मैं कश्मीरियों के हक की लड़ाई लड़ता हूं। मैं कश्मीर के लिए पूरे देश से लोगों को जुटाऊंगा और हम कश्मीरियों को उनकी आजादी की मंजिल पाने में मदद करेंगे।'

पंजाब प्रांत के न्यायिक समीक्षा बोर्ड ने सईद की 30 दिन की नजरबंदी पूरी होने पर उसकी रिहाई का आदेश सर्वसम्मति से दिया था। सईद की 30 दिन की नजरबंदी की अवधि गुरुवार आधी रात को पूरी हो गई थी। सईद ने खुद की रिहाई के आदेश को खुद की बेगुनाही का सबूत बताया। सईद ने कहा कि भारत के कहने पर अमेरिका ने पाकिस्तान पर मुझे हिरासत में लेने का दबाव डाला।

उसने कहा, 'पाकिस्तानी सरकार पर अमेरिका के दबाव के कारण मुझे हिरासत में लिया गया। अमेरिका ने ऐसा भारत के कहने पर किया।' यहां जौहर टाउन स्थित हाफिज के घर के बाहर उसके कई समर्थक जुटे और उसकी रिहाई का जश्न मनाया। उन्होंने हाफिज सईद को 'कश्मीरियों की उम्मीद' करार दिया।

जमात-उद-दावा के प्रवक्ता अहमद नदीम ने कहा, 'हम अपने लीडर को आजाद देखकर खुश हैं। हाफिज साहब को जेल अधिकारियों से रिहाई का आदेश प्राप्त हुआ। अब वह आजाद हैं।' इस बीच, पाकिस्तान सरकार के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, 'सईद इसलिए रिहा हो गया क्योंकि पंजाब सरकार ने उसे अब अन्य मामले में हिरासत मे नहीं लेने का फैसला किया।'

उसने बताया कि अधिकारियों के बीच लंबी चर्चा के बाद न्यायिक समीक्षा बोर्ड का फैसला मानने पर सहमति बनी। पंजाब के असिस्टेंट ऐडवोकेट जनरल सत्तार साहिल ने कहा कि सरकारी लॉ ऑफिसर ने सईद की हिरासत को न्यायोचित साबित करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण सबूत पेश किए, लेकिन बोर्ड के तीनों सदस्यों ने इसे सर्वसम्मति से खारिज करते हुए हाफिज की रिहाई का आदेश दे दिया।

बहरहाल, जमात-उद-दावा को प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का ही प्रमुख संगठन माना जाता है। इसी ने 26 नवंबर 2008 को मुंबई हमले को अंजाम दिया था जिसमें 166 से अधिक लोग मारे गये थे। उसके बाद हाफिज सईद को नजरबंद कर लिया गया था, लेकिन 2009 में कोर्ट ने उसे रिहा कर दिया।

हालांकि भारत पाकिस्तान से मुंबई आतंकी हमले की दोबारा जांच करने और पाकिस्तान सरकार को सौंपे गए सबूतों के आधार पर सईद के साथ-साथ लश्कर के ऑपरेशन कमांडर जकीउर रहमान लखवी पर मुकदमा चलाने की मांग करता रहा है।

मुंबई हमले में लश्कर के 10 आतंकवादियों में से नौ को पुलिस ने मार गिराया था और अजमल कसाब नाम का आतंकवादी जिंदा पकड़ा गया था। बाद में कोर्ट के आदेश पर कसाब को फांसी दे दी गई थी। अमेरिका के साथ-साथ संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी इस हमले की साजिश रचने के लिए हाफिज सईद को ग्लोबल टेररिस्ट (अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी) घोषित कर रखा है।