BREAKING NEWS

आज का राशिफल (31 जनवरी 2022)◾नब किशोर दास हत्याकांड: भाजपा ने CBI जांच व कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की◾श्रमिक संगठनों ने साल के अंत तक देशव्यापी हड़ताल का लिया संकल्प, मोदी सरकार पर लगाए ये आरोप ◾स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में आए सपा मुखिया, बोले- CM योगी से रामचरितमानस की चौपाई के बारे में पूछूंगा◾स्वयंभू बाबा आसाराम को गुजरात की अदालत ने ठहराया दोषी, 2013 में दर्ज हुआ था बलात्कार का मामला◾हिमंत विश्व शर्मा का दावा- भाजपा त्रिपुरा में अगली सरकार अपने दम पर बनाएगी ◾शिवसेना (यूबीटी) का भाजपा पर तंज, कहा- केंद्र, महाराष्ट्र में हिंदुत्ववादी सरकार फिर भी ‘लव जिहाद’ के खिलाफ मार्च◾अडाणी समूह के इजराइल में प्रवेश के कार्यक्रम में शामिल होंगे प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू◾LG सक्सेना ने दिल्ली सरकार के अस्पतालों में 139 डॉक्टरों की पदोन्नति को मंजूरी दी◾चीन के खिलाफ मोदी सरकार की है DDLJ नीति, जयशंकर के बयान पर जयराम रमेश का पलटवार ◾राहुल गांधी ने कहा- प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह ने कभी नहीं देखी हिंसा, पैदल यात्रा करने की दी चुनौती ◾Bharat Jodo Yatra: महबूबा मुफ्ती ने की राहुल की तारीफ, बोलीं- उनमें दिखती है ‘उम्मीद की किरण’◾विश्व कप में खराब प्रदर्शन के बाद हड़कंप, भारतीय पुरूष हॉकी टीम के कोच ग्राहम रीड ने दिया इस्तीफा◾राहुल गांधी ने एक बार फिर से खोला अपने टी-शर्ट का राज, लेकिन इस बार किस्सा कुछ अलग ◾Pakistan Blast: पाकिस्तान की मस्जिद में हुआ बम धमाका,नमाज पढ़ने के दौरान हमलावर ने खुद को उड़ाया◾Bharat jodo yatra :यात्रा के आखिरी पड़ाव पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने बर्फबारी का उठाया लुफ्त ◾कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट जारी, 'देश में पेट्रोल और डीजल के दाम में आज भी टिका रहा'◾केरल के सीएम पिनराई विजयन ने महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि की अर्पित, RSS पर देश में नफरत फैलाकर राजनीति करने के लगाए आरोप◾BBC डॉक्यूमेंट्री मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, किरेन रीजीजू बोले- लोग SC का कीमती वक्त करते हैं बर्बाद ◾सीएम केजरीवाल दिल्ली जल बोर्ड से ज्यादा बिल आने वाले लोगों के लिए लगाएंगे माफी योजना◾

कोविड के नए वेरिएंट पर कितनी असरदार है फाइजर की कोरोना वैक्सीन? शोधकर्ताओं ने किया यह दावा

शोधकर्ताओं का कहना है कि दवा कंपनी फाइजर द्वारा विकसित एंटीवायरस दवा पैक्सलोविड कोविड-19 के नये वैरिएंट के उपचार लिये भी कारगर है। अमेरिका में रटगर्स विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं का कहना है कि फाइजर की दवा पैक्सलोविड एक प्रमुख प्रोटीन की सेल मशीनरी को जाम कर देती है, जिसे मुख्य प्रोटीज या एमप्रो के रूप में जाना जाता है। यह प्रोटीन ही वायरस की संख्या बढ़ाने में मदद करता है। कोविड का ओमिक्रॉन वैरिएंट दुनिया भर में तेजी से फैल रहा है और एशिया में अभी इसने तबाही मचायी हुई है।

कोरोना वायरस लगातार बदल रहा अपना रंग 

कोविड के इलाज के लिये बहुत ही कम दवायें बाजार में उपलब्ध हैं। ऐसी स्थिति में चिकित्सक कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिये पैक्सलोविड जैसी दवाओं पर भरोसा कर रहे हैं। सेल रिसर्च जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, वैज्ञानिकों ने आनुवंशिक विश्लेषण के माध्यम से पता लगाया है कि वायरस अब अलग-अलग रूप ले रहा है और ये ऐसे स्ट्रेन उत्पन्न कर रहा है जिन पर मौजूदा उपचार विधि कामयाब नहीं है।

रटगर्स अर्नेस्ट मारियो स्कूल ऑफ फामेर्सी में मेडिसिनल केमिस्ट्री विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर जून वांग ने कहा, कम से कम फाइजर की दवा अभी के लिये उम्मीद है। उन्होंने कहा,ओमीक्रोन अभी भी काफी नया है इसी कारण उपचार अभी भी काम कर रहे हैं। वांग ने लेकिन चेतावनी दी है कि जैसे-जैसे अधिक लोग पैक्सलोविड लेंगे, तो दवा बेअसर होने लगेगी।

वैज्ञानिकों ने नए कोविड वेरिएंट पर कही यह बात 

वैज्ञानिकों ने जीआईएसएआईडी के नाम से जाना जाने वाला एक सार्वजनिक डाटाबेस एक्सेस किया, जो अब तक पाये गये कोविड के सभी स्ट्रेन के एमप्रो अनुक्रमों का अध्ययन कर रहा है। दुनिया भर के चिकित्सकों द्वारा एकत्र कि ये गये पहले के कोरोना स्ट्रेन के साथ हाल के स्ट्रेन की तुलना करते हुये वैज्ञानिकों ने एमप्रो के आनुवंशिक अनुक्रमों में म्यूटेशन की खोज की। म्यूटेशन की वजह से एमप्रो की संभावित नयी संरचनायें सामने आ सकती हैं। इन नयी संरचनाओं का संबंध ही ड्रग रेजिस्टेंस से होता है।

ओमीक्रोन स्ट्रेन में शीर्ष 25 सबसे आम नये म्यूटेशन की हुई खोज 

शोधकतार्ओं ने कई ओमीक्रोन स्ट्रेन के मुख्य प्रोटीज में शीर्ष 25 सबसे आम नये म्यूटेशन की खोज की। इनमें सबसे आम है-पी132एच। जब उन्होंने पी132एच म्यूटेशन पर फाइजर की दवा का परीक्षण किया, तो एंटीवायरल दवा प्रभावी साबित हुई। एक्स-रे क्रिस्टलोग्राफी द्वारा इसकी और पुष्टि की गयी, जिसमें दिखाकि एमप्रो की संरचना में कोई खास बदलाव नहीं आया है।

वांग ने कहा, यह म्यूटेशन पैक्सलोविड के लिये प्रतिरोध का कारण नहीं बनता है, इसका मतलब है कि वायरस अभी और म्यूटेशन कर सकता है, जो दवा प्रतिरोध का कारण बन सकता है। उन्होंने कहा कि जब किसी दवा का व्यापक उपयोग होने लगता है तो प्रतिरोध प्रकट होने में कुछ ही समय लगता है।