BREAKING NEWS

आज का राशिफल (29 नवंबर 2022)◾श्रद्धा हत्याकांड के आरोपी आफताब को ले जा रही पुलिसवैन पर तलवारों से किया गया हमला, 2 लोग हिरासत में ◾एथलीट पीटी उषा को चुना गया IOA का अध्यक्ष, SAI और किरेन रिजिजू ने की बधाई ◾दरभंगा में बोले RSS प्रमुख, भारत में रहने वाले सभी हिंदू, देश की सांस्कृतिक प्रकृति के कारण पनपी है विविधता ◾असम के CM हिमंत शर्मा ने कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- तुष्टिकरण की राजनीति के कारण पनपा आतंकवाद ◾गुजरात विधानसभा चुनाव: CM केजरीवाल बोले- सूरत के हीरा व्यापारियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जाना चाहिए◾पाकिस्तान : TTP ने पाक सरकार के साथ निरस्त किया संघर्षविराम समझौता, लड़ाकों को दिया हमले का आदेश ◾ J&K : सेना और पुलिस ने किया आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़, हथियार व गोला बारूद किया बरामद ◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उनके फ्रांसीसी समकक्ष ने की दिल्ली में बैठक, दोनों देशों ने सहयोग बढ़ाने पर की चर्चा ◾Money laundering case: संजय राउत को जमानत के खिलाफ ईडी की अर्जी पर 12 दिसंबर को होगी सुनवाई◾Haryana News: हुड्डा का दावा, जिला परिषद चुनाव में जनता ने भाजपा-जजपा गठबंधन को नकारा◾इस्लाम की पैरवी करते मौलाना; निकाह में नृत्य, संगीत पर लगाई पाबंदी, जानें पूरा मामला ◾सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी: EVM खराबी की झूठी शिकायत करने वाले वोटर को इसका परिणाम पता होना चाहिए◾CM बघेल ने लगाया प्रवर्तन निदेशालय पर हद पार करने और लोगों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप◾Gujarat Polls: कांग्रेस उम्मीदवारों का धुआंधार प्रचार के बजाय स्थानीय संपर्क पर जोर, क्या बदलेगा समीकरण?◾दानिश अंसारी ने सपा पर साधा निशाना, बोले- रामपुर को अपनी बपौती मानने वालों के दिन अब पूरे हो चुके ◾मेघालय में सियासी हलचल, तीन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को सौंपा इस्तीफा◾एक्शन में NCB, गोवा में 5 लाख रुपये के ड्रग्स जब्त, दो विदेशी नागरिक गिरफ्तार ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- धर्म, संस्कृति व राष्ट्र रक्षा के प्रति आग्रही बनाती है सिख गुरुओं की परंपरा◾सरकार का बड़ा ऐलान: मदरसों में आठवीं तक के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति◾

यूक्रेन चाहता है नागरिकों की सुरक्षा तो छोड़ दें NATO में शामिल होने की ज़िद, रूस की जेलेंस्की को चेतावनी

रूसी संसद के निचले सदन के अध्यक्ष व्याचेस्लाव वोलोदिन ने रविवार को कहा कि यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने हाल ही में क्रीमिया मुद्दे पर चर्चा करने के लिए अपनी कथित तत्परता व्यक्त की थी और नाटो में शामिल होने से इनकार किया था लेकिन इसके पीछे उनका मकसद नाटो से सैन्य सहायता के लिए कुछ समय हासिल करना था। वोलोदिन ने कहा कि जेलेंस्की ने तुर्की में वार्ता से पहले भी यही कहा था, जब रूसी सेना कीव पहुंच चुकी थी। उनके अनुसार, मॉस्को ने कीव क्षेत्र में अपनी सैन्य गतिविधियों को कम कर दिया था। अपने सैनिकों को वापस ले लिया था। जिसके बाद बुचा में सैनिकों को उकसाया गया और कीव ने समझौते को स्वीकार नहीं किया। 

सैन्य सहायता के लिए नाटो की ओर रुख कर रहे हैं जेलेंस्की 

वोलोदिन ने कहा,‘‘आज भी स्थिति वैसी ही है। इसके पीछे कारण स्पष्ट है। राष्ट्रपति जेलेंस्की सैन्य सहायता के लिए नाटो की ओर रुख करते हुए समय हासिल करना चाहते हैं। ‘‘उन्होंने कहा कि यूक्रेनी सेना पहले ही अपने 23,367 साथियों को खो चुकी है और मारियुपोल में शनिवार को 1,464 यूक्रेनी सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया। उन्होंने कहा कि अगर वह (जेलेंस्की) अपने नागरिकों की हित चाहते हैं, तो यूक्रेन को डोनेटस्क और लुहान्स्क गणराज्यों से अपने सैनिकों को वापस लेना चाहिए और क्रीमिया पर रूस की संप्रभुता को ध्यान में रखना चाहिए। इसके अलावा नाटो में शामिल नहीं होने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए। 

रूस ने यूक्रेन पर तेज किये हमले 

बता दें कि रूसी सेना ने कीव, पश्चिमी यूक्रेन और इससे सटे इलाकों में हमले तेज कर दिए हैं। यह कार्रवाई यूक्रेन के लागों और उनके पश्चिमी समर्थकों को इस बात की याद दिलाती है कि रूस के पूर्व की ओर नए सिरे से हमले तेज करने के बावजूद पूरा देश खतरे में है। काला सागर में अपने एक महत्वपूर्ण युद्धपोत के नष्ट होने और रूसी क्षेत्र में यूक्रेन के कथित आक्रमण से भड़के मॉस्को ने यूक्रेन की राजधानी पर नए सिरे से मिसाइल हमले करने की चेतावनी दी थी। रूसी अधिकारियों ने कहा कि वे युद्ध के 52 दिनों के दौरान सैन्य स्थलों को निशाना बना रहे थे। हालांकि, यूक्रेन के लोगों ने रूस के इस दावे का खंडन किया है।