BREAKING NEWS

छत्तीसगढ़: कोयला लेवी घोटाले केस में ED ने पूरक आरोपपत्र दाखिल किया◾नफरत और दुर्व्यवहार के कारण पाकिस्तान टीम को कभी कोचिंग देने के बारे में नहीं सोचा: वसीम अकरम◾राहुल गांधी बोले- ‘मित्रकाल बजट’ से साबित हुआ कि सरकार के पास भविष्य के निर्माण की कोई रूपरेखा नहीं◾Peshawar Mosque Attack: आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई तेज, 17 संदिग्ध गिरफ्तार◾दिल्ली: LG सक्सेना ने 6 फरवरी को मेयर चुनने के लिए MCD सदन का सत्र बुलाने को मंजूरी दी ◾एयर मार्शल एपी सिंह ने भारतीय वायुसेना के उप प्रमुख का पद संभाला◾UP News: मुजफ्फरनगर में तीन वर्ष की बच्‍ची से दुष्कर्म और हत्या के दोषी को फांसी की सजा◾Britain: वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर शिक्षकों व सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों की हड़ताल◾चाहे कितनी भी हो आमदनी इन देशों में नहीं देना पड़ता टैक्स◾खाने को मौैहताज पाकिस्तान में गाड़ी की बड़ी कीमतें 26 लाख की हुई वैगनर , तीन लाख की स्पलेंडर ◾PM नरेंद्र मोदी ने कहा- बजट विकसित भारत के संकल्प को पूरा करने के लिए एक मजबूत नींव का निर्माण करेगा◾मल्लिकार्जुन खड़गे बोले- भाजपा पर जनता के लगातार गिरते विश्वास का सबूत है यह बजट◾Noida suicide : डीपीएस स्कूल की टीचर ने सातवीं मंजिल से कूदकर दी जान, जांच में जुटी पुलिस ◾पश्चिम बंगाल : मुख्यमंत्री ममता ने केंद्रीय बजट को बताया जनविरोधी, कहा- गरीबों को अनदेखा किया◾बसपा सुप्रीमो ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, बोलीं- बजट पार्टी से ज्यादा देश के लिए हो तो बेहतर है◾बजट पर केजरीवाल बोले- 1.75 लाख करोड़ आयकर देने के बावजूद दिल्ली को सिर्फ 325 करोड़ रुपये मिले ◾आम बजट अमृतकाल की मजबूत आधारशिला रखने वाला: अमित शाह◾पूर्व फुटबॉलर परिमल डे का निधन, लंबे समय से थे बीमार ◾मुख्तार अब्बास नकवी बोले- यह बजट देश के सर्वस्पर्शी सशक्तिकरण का गजट है◾सरकारी जमीन पर कब्जा जमाए बैठे लोगों पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया एक्शन ◾

पाकिस्तान: आतंकियों के समर्थन में आई इमरान सरकार, SC का सवाल- नरसंहार के दोषियों से क्यों कर रहे बातचीत

सुप्रीम कोर्ट द्वारा तलब किए गए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 2014 आर्मी पब्लिक स्कूल (एपीएस) हमले के मामले में हुई प्रगति के बारे में जानकारी दी। इस हमले में बड़े पैमाने पर लोग हताहत हुए थे, जो मारे गए लोगों के परिवार को अभी भी टीस रहा है। लेकिन इमरान सरकार ने कोर्ट में तहरीक-ए-तालिबान की तरफदारी की साथ ही यह तक कह दिया कि मुल्क में कोई भी 'होली काऊ' यानी दूध का धुला नहीं है। अदालत की एक पीठ ने सवाल किया कि वह करीब 150 लोगों के नरसंहार के दोषियों के साथ बातचीत क्यों कर रहे हैं। 

अदालत एपीएस हमले के मामले की सुनवाई कर रही थी, जिसमें तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के आतंकवादियों ने 16 दिसंबर, 2014 को पेशावर के वारसाक रोड स्थित आर्मी पब्लिक स्कूल पर धावा बोल दिया था, जिसमें 132 छोटे बच्चों सहित कुल 147 लोगों की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। सुनवाई की शुरुआत प्रधानमंत्री के साथ कोर्ट रूम नंबर 1 में मौजूद कई वकीलों, सुरक्षा कर्मियों, एपीएस हमले के पीड़ितों के परिवारों और पीटीआई मंत्रियों के साथ हुई। इनमें गृहमंत्री शेख राशिद अहमद और सूचना मंत्री 1 फवाद चौधरी भी शामिल थे। 

इमरान खान से मामले में उनकी सरकार द्वारा की गई कार्रवाई की प्रगति के बारे में सवाल किया गया। पीठ ने सरकार और टीटीपी के बीच हालिया संघर्ष विराम समझौते पर गंभीर आपत्ति जताई, क्योंकि टीटीपी ने स्कूल में हमले की जिम्मेदारी का दावा किया था। अदालत ने हमले में मारे गए बच्चों और अन्य लोगों के परिवारों को संतुष्ट करने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाने के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना की और टीटीपी के साथ बात की, क्योंकि इसने युद्धविराम समझौते को देश के बच्चों के हत्यारों के साथ 'समझौता' करार दिया।

न्यायमूर्ति अहसन ने उन्हें बताया, एपीएस हमले में अपने बच्चों को खोने वाले माता-पिता की संतुष्टि जरूरी है। इमरान खान को यह भी याद दिलाया गया कि यह सुनिश्चित करना उनकी जिम्मेदारी है कि दोषियों को न्याय के कटघरे में लाया जाए और प्रियजनों के परिवारों को पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया जाए, क्योंकि अदालत ने सरकार को चार सप्ताह के भीतर प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया था। सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने पिछली सुनवाई के दौरान पीड़ितों के परिवारों को उनकी मांगों को पूरा करने में अदालत द्वारा हर संभव सहायता और समर्थन का आश्वासन दिया था। 

आदेश में कहा गया है, "एजी (अटॉर्नी जनरल) को शिकायतों पर नोटिस दिया गया है और कानून द्वारा आवश्यक कार्रवाई करने के लिए कहा गया है और यदि जिन लोगों को नामित किया गया है, वे अपने कर्तव्यों के प्रदर्शन में लापरवाही के दोषी पाए जाते हैं, आवश्यक उपाय किए जाने चाहिए लिया।" बुधवार की सुनवाई में कोर्ट ने एजी से तब पूछताछ की, जब उन्होंने कहा कि पिछली सुनवाई का आदेश प्रधानमंत्री को नहीं भेजा गया था। 

प्रधान न्यायाधीश ने कहा, "क्या यह गंभीरता का स्तर है? प्रधानमंत्री को बुलाओ, हम खुद उनसे बात करेंगे। यह नहीं चल सकता।" पीड़ितों के परिवार के सदस्यों ने उन नागरिक और सैन्य अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की थी, जिनके बारे में उनका मानना है कि वे स्कूल में सुरक्षा उपायों के लिए जिम्मेदार थे। सुप्रीम कोर्ट ने देश की खुफिया एजेंसियों की क्षमताओं पर भी गंभीर सवाल उठाए थे, जब उनके अपने नागरिकों की सुरक्षा की बात आती है तो उनके 'गायब होने' पर सवाल उठाया गया था। 

सीजेपी ने पूछा, "खुफिया एजेंसियां अपने ही नागरिकों की सुरक्षा के लिए कहां गायब हो जाती हैं? क्या तत्कालीन सेना प्रमुख और अन्य जिम्मेदार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था?" उन्होंने कहा, "देश में इतना बड़ा खुफिया तंत्र है। इस पर अरबों रुपये खर्च किए जाते हैं। एक दावा यह भी है कि हम दुनिया की सबसे अच्छी खुफिया एजेंसी हैं। खुफिया तंत्र पर इतना खर्च किया जा रहा है, लेकिन नतीजा जीरो है।" न्यायमूर्ति अहसन ने कहा, "संस्थाओं को पता होना चाहिए था कि जनजातीय क्षेत्रों में अभियान पर प्रतिक्रिया होगी। सबसे आसान और सबसे संवेदनशील निशाने पर बच्चे थे।"