BREAKING NEWS

कम्युनिस्ट विचारधारा में कन्हैया की नहीं थी कोई आस्था, पार्टी के प्रति नहीं थे ईमानदार : CPI महासचिव◾ पंजाब में लगी इस्तीफों की झड़ी, योगिंदर ढींगरा ने भी महासचिव पद छोड़ा◾कोलकाता ने दिल्ली कैपिटल्स को 3 विकेट से हराया, KKR की प्ले ऑफ में पहुंचने की उम्मीदें जिंदा◾कोरोना सार्वजनिक स्वास्थ्य चुनौती, केंद्र ने कोविड-19 नियंत्रण संबंधित दिशा-निर्देशों को 31 अक्टूबर तक बढ़ाया◾ क्या BJP में शामिल होंगे कैप्टन ? दिल्ली आने की बताई यह खास वजह ◾UP चुनाव में एक साथ लड़ेंगे BJP-JDU! गठबंधन बनाने के लिए आरसीपी सिंह को मिली जिम्मेदारी◾कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया कुमार, कहा- आज देश को बचाना जरूरी, सत्ता के लिए परंपरा भूली BJP ◾सिद्धू के इस्तीफे से कांग्रेस में हड़कंप, कई नेता बोले- पार्टी की राजनीति के लिए घातक है फैसला ◾नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे पर बोले CM चन्नी-मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं◾अमेरिका ने फिर की इमरान खान की बेइज्जती, मिन्नतों के बाद भी बाइडन नहीं दे रहे मिलने का मौका ◾उरी में भारतीय सेना को मिली बड़ी कामयाबी, पकड़ा गया पाकिस्तान का 19 साल का जिंदा आतंकी ◾पंजाब कांग्रेस में फिर घमासान : सिद्धू ने अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, BJP ने ली चुटकी ◾पंजाब: CM चन्नी ने किया विभागों का वितरण, जानें किसे मिला कौनसा मंत्रालय◾पंजाब के पूर्व CM अमरिंदर सिंह आज पहुंच रहे हैं दिल्ली, अमित शाह और नड्डा से करेंगे मुलाकात◾योगी के नए मंत्रिमंडल में 67% मंत्री सवर्ण और पिछड़े समाज से सिर्फ़ 29% : ओवैसी◾क्या कांग्रेस में यूथ लीडरों की एंट्री होगी मास्टरस्ट्रोक, पार्टी मुख्यालय पर लगे कन्हैया और जिग्नेश के पोस्टर◾कन्हैया के पार्टी जॉइनिंग पर मनीष तिवारी का कटाक्ष- अब शायद फिर से पलटे जाएं ‘कम्युनिस्ट्स इन कांग्रेस’ के पन्ने ◾PM मोदी ने विशेष लक्षणों वाली फसलों की 35 किस्मों का किया लोकार्पण , कुपोषण पर होगा प्रहार ◾जम्मू-कश्मीर : उरी सेक्टर में पकड़ा गया पाकिस्तानी घुसपैठिया, एक आतंकवादी ढेर ◾बिहार: केंद्र से झल्लाई JDU, कहा - हमलोग थक चुके हैं, अब नहीं करेंगे विशेष राज्य का दर्जा देंगे की मांग◾

अफगानिस्तान में जारी संघर्ष के बीच में कदम-कदम पर खतरा, रणनीतिक शक्ति हासिल कर ली है तालिबान

अमेरिका के एक शीर्ष जनरल ने कहा है कि तालिबान अब कुल 212 यानि अफगानिस्तान के 419 जिला केंद्रों में से आधे को नियंत्रित करता है। इसे देखते हुए लगता है कि विद्रोहियों ने अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद से रणनीतिक शक्ति हासिल कर ली है। यूएस ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिले ने पेंटागन में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "यह प्रतीत होता है कि तालिबान ने रणनीतिक तौर पर शक्ति हासिल कर ली है।"

मिले ने कहा कि हम यह पता लगाने जा रहे हैं, कि वहां हिंसा किस स्तर पर हो रही है। क्या ये बढ़ने की संभावना है या पहले जैसी स्थिति है। क्या बातचीत के नतीजे अभी भी वहां संभावना है, तालिबान के अधिग्रहण की संभावना है (और) या किसी भी अन्य परिदृश्यों की संभावना है । उन्होंने अभी भी देश के तालिबान अधिग्रहण को रोकने के लिए अफगान बलों की क्षमता पर विश्वास व्यक्त किया।

उन्होंने कहा, "दो सबसे महत्वपूर्ण लड़ाकू गुणक, वास्तव में, इच्छा और नेतृत्व है। यह अब अफगान लोगों, अफगान सुरक्षा बलों और अफगानिस्तान की सरकार की इच्छा और नेतृत्व की परीक्षा होने जा रही है।" उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि अंतिम खेल अभी हो गया है। एक नकारात्मक परिणाम, तालिबान का स्वत: अधिग्रहण, एक पूर्व निष्कर्ष नहीं है। मिले ने कहा कि आतंकवादियों ने अभी तक देश की 34 प्रांतीय राजधानियों में से किसी पर कब्जा नहीं किया है, लेकिन वे उनमें से आधे पर दबाव बना रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अफगान सुरक्षा बल काबुल सहित उन प्रमुख शहरी केंद्रों की सुरक्षा के लिए अपनी स्थिति मजबूत कर रहे हैं। "वे जो करने की कोशिश कर रहे हैं वह प्रमुख जनसंख्या केंद्रों को अलग कर रहा है। वे काबुल के लिए भी ऐसा ही करने की कोशिश कर रहे हैं।" बुधवार तक, तालिबान अब अफगानिस्तान के 419 जिला केंद्रों में से लगभग 212 को नियंत्रित करता है, मिले ने कहा, यह एक महीने पहले 81 जिला केंद्रों से एक महत्वपूर्ण छलांग थी।

द हिल न्यूज वेबसाइट ने एक रिपोर्ट में कहा कि शीर्ष अमेरिकी जनरल ने तालिबान के हालिया लाभ के लिए अफगान बलों को केंद्र की रक्षा को मजबूत करने के लिए जिम्मेदार ठहराया। मिले ने कहा कि इसका एक हिस्सा यह है कि वे अपनी सेना को मजबूत करने के लिए जिला केंद्रों को छोड़ रहे हैं क्योंकि वे आबादी की रक्षा के लिए एक ²ष्टिकोण अपना रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्होंने यह भी भविष्यवाणी की कि ईद अल-अधा की छुट्टी के लिए हिंसा में कमी के बाद, शेष गर्मी युद्ध के ज्वार के लिए निर्णायक हो सकती है।

1 मई को युद्धग्रस्त देश से अमेरिकी नेतृत्व वाले बलों की वापसी की शुरूआत के बाद से अफगानिस्तान में तालिबान और सुरक्षा बलों के बीच भारी लड़ाई देखी गई है। यूएस सेंट्रल कमांड ने कहा कि पिछले हफ्ते 95 फीसदी से ज्यादा निकासी पूरी हो चुकी है। पेंटागन के अनुसार, पिछले दो दशकों में अफगानिस्तान में 2,400 से अधिक अमेरिकी सैनिक मारे गए, 20,000 घायल हुए। अनुमान बताते हैं कि 66,000 से अधिक अफगान सैनिक मारे गए हैं, और 27 लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं।

POK में विधानसभा चुनाव के दौरान सैनिक तैनात करेगी पाकिस्तानी सेना