BREAKING NEWS

वीर सावरकर पर टिप्पणी करना राहुल गांधी को पड़ा भारी, सुप्रीम कोर्ट ने मांगी पूरी रिपोर्ट, दो दिन बाद सुनवाई ◾UP News: हिन्दू महासभा के ऐलान से हाई अलर्ट पर मथुरा, धारा 141 लागू, जानें क्या है मामला ◾श्रद्धा मर्डर केस : दुनिया के सबसे महंगे केस से आफताब ने सीखे पुलिस को गुमराह करने दांव-पेच◾लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में आशीष मिश्रा सहित 14 पर आरोप तय, 16 दिसंबर से कोर्ट ट्रायल शुरू ◾Electric Vehicle लेने वालों को जल्द सरकार देगी तोहफा, नितिन गडकरी का ऐलान◾लालू की बेटी रोहिणी को लेकर गिरिराज का ट्वीट, भर-भर कर डाली तारीफ... अगली पीढ़ी के लिए बनोगी उदहारण◾एशिया के सबसे बड़े दानवीरों की लिस्ट में गौतम अडानी समेत तीन भारतीयों के नाम हुए शामिल◾PFI case: इसरार अली और मोहम्मद समून को मिली राहत, अदालत ने दी सशर्त जमानत ◾Babri Masjid Demolition Anniversary : बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾AYODHYA ;बाबरी मस्जिद गिराए जाने के तीन दशक बाद तीर्थनगरी का माहौल कैसा?◾Yamuna Expressway: दुर्घटनाएं रोकने के लिए 15 दिसंबर से गति सीमा में होगा बदलाव, नहीं दौड़ पाएंगे तेज वाहन◾CANADA MURDER : कनाडा में भारतीय महिला के सिर पर गोली मारकर शूटर हुआ फ़रार, पुलिस कर रही तलाश ◾अधीर रंजन चौधरी ने केंद्र की नीतियों को लिया आडे़ हाथों, संसद के शीतकालीन सत्र की तारीख को लेकर कही यह बात◾MCD चुनाव 2022: तारीख, समय और परिणाम◾इंडोनेशिया में नया कानून, प्री-मैरिटल सेक्स बैन, अपराध श्रेणी में Live-in-relationship◾मार्केट में 500 रुपये के नकली नोट होने की खबर, RBI ने दी जानकारी...जानें किसे बताया जा रहा जाली ◾6 दिसंबर का दिन हमारी पीढ़ी कभी नहीं भूलेगी.... लोकतंत्र का काला दिन, बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾बिहार पुलिस में बंपर बहाली, 62 हजार नए पदों पर मिलेगी नौकरी, महिलाओं को भी दिया जाएगा 35% आरक्षण◾भारत के मिसाइल परीक्षण से कांप रहा चीन, डर के कारण ओसियन क्षेत्र में भेजा जासूसी पोत◾नोएडा में तेज रफ़्तार का कहर, जगुआर कार की टक्कर से स्कूटी सवार युवती की मौत◾

US में बोले विदेश मंत्री एस. जयशंकर, बीते दो दशकों में असल बदलाव के दौर से गुजरे हैं भारत-अमेरिका संबंध

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि भारत-अमेरिका संबंध बीते दो दशकों में असल बदलाव के दौर से गुजरे हैं और इस साझेदारी का एक अहम कारक इसका मानवीय तत्व रहा है। जयशंकर ने यहां हावर्ड यूनिवर्सिटी के छात्रों के साथ बातचीत में कहा, भारत-अमेरिका संबंध पिछले दो दशकों में असल बदलाव के दौरे से गुजरे हैं। चाहे हमारा कूटनीतिक और सुरक्षा सहयोग हो या हमारी आर्थिक व प्रौद्योगिकी साझेदारी, वैश्विक मामलों में यह अपनी अहमियत महसूस कराने में सफल रही है। उन्होंने भारत-अमेरिका 'टू प्लस टू' वार्ता के बाद अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन के साथ छात्रों से हुई संयुक्त बातचीत में कहा, इस बदलाव का अहम कारक इसका मानवीय तत्व रहा है। 44 लाख की आबादी वाला भारतीय समुदाय असल में इस समाज में हमारी छवि को परिभाषित करता है और रिश्ते मजबूत बनाने में मदद करता है, जो हमारे काम के लिए ऊर्जा का बड़ा स्रोत हैं।
यूएस में भारतीय समुदाय के लोगों से भी की बातचीत
जयशंकर ने कहा, इसके केंद्र में हमारे छात्र, विद्वान, अनुसंधानकर्ता और पेशेवर हैं, जिन्होंने अमेरिका की प्रगति में योगदान दिया है और वे हमारे दो समाजों के बीच पुल बने हुए हैं। हमारे संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए यह भी उतना ही जरूरी है कि युवा अमेरिकियों के मन में भारत और दुनिया के बारे में बेहतर समझ विकसित हो। उन्होंने कहा, एक सभ्य और लोकतांत्रिक देश के लिए आपका समर्थन आवश्यक है, जो रोजाना कई बड़ी बाधाओं को पार कर रहा है। इसलिए विदेश मंत्री ब्लिंकन और मुझे कल शिक्षा तथा कौशल विकास पर कार्यकारी समूह का शुभारंभ करके बहुत खुशी हुई। इससे हम शिक्षा, अनुसंधान, नवोन्मेष और उद्यमिता के क्षेत्र में अवसरों की तलाश कर पाएंगे।
यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों से भी की बात
अमेरिकी विदेश मंत्री ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका-भारत की कूटनीतिक साझेदारी 21वीं सदी की समस्याओं से निपटने के लिए महत्वपूर्ण है। कार्यक्रम में जयंशकर ने कहा कि, संगीत में उनकी रुचि और उनके परिवार के माहौल ने उनके राजनयिक जीवन की राह तैयार की। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय मामलों से जुड़े विषय की द्वितीय वर्ष की छात्रा एंजेल ब्रायन के सवाल के जवाब में यह टिप्पणी की। एंजेल ने पूछा था कि ‘किस चीज ने अंतरराष्ट्रीय संबंधों में आपकी रुचि पैदा की? जयशंकर ने कहा, वैश्विक मामलों में मैंने रुचि लेनी क्यों शुरू की? मुझे लगता है कि इसका एक हिस्सा संभवत: संगीत में मेरी रुचि रहा है। आप जानते हैं कि आप अपनी सीमाओं से परे संगीत सुनते हैं और फिर आपको उत्सुकता होती है कि यह किस तरह का संगीत है, कहां से आया है, इसमें किस तरह के लोग हैं।
संगीत के बारे में भी बोले एस जयशंकर
एस जयशंकर ने कहा, इसमें कुछ दिलचस्पी परिवार के माहौल की वजह से आई, जो थोड़ा बहुत अंतरराष्ट्रीय स्तर जैसा था। मेरा मतलब है कि हम शैक्षणिक पेशेवर के रूप में बातचीत करते थे। जब मैं 10 साल का था तो मेरे पिता एक फेलोशिप पर पढ़ाई करने के लिए यहां आए थे। इसलिए मुझे लगता है कि थोड़ा बहुत माता-पिता का भी प्रभाव रहा। जयशंकर ने कहा कि, उन्होंने जो पहला संगीत एल्बम सुना था, वह 1959 में प्रदर्शित ‘द हिटमेकर्स’ नाम का अमेरिकी एल्बम था। विदेश मंत्री ने कहा, मुझे लगता है कि जिस तरीके से मैं 1960 और 1970 के दशक की बात कर रहा हूं, यह आपको बीता हुआ इतिहास लग सकता है, लेकिन असल में यह वह दौर था, जब दुनिया का अधिक वैश्वीकरण होना शुरू हो रहा था। मेरा मतलब है कि, अधिक पर्यटकों और लोगों के मन में विदेश यात्रा का विचार आ रहा था।