BREAKING NEWS

शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾आज भारत पहुंचेंगे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, पीएम मोदी के साथ होगी शिखर वार्ता, ये होंगे मुद्दे ◾मथुरा में पुलिस का चप्पे-चप्पे पर पहरा, ड्रोन और सीसीटीवी से रखी जा रही नजर, अयोध्या में भी हाई अलर्ट ◾पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आप नेता के अवैध खनन के आरोप को किया खारिज◾UP: बुलंदशहर में RLD नेता काफिले पर अंधाधुंध फायरिंग हुई, चार घायल समेत एक की मौत◾

भारत व नेपाल ने रेलवे सेवा समझौते में संशोधन किया, दोनों देशों को व्यापारिक दृष्टि से होगा फायदा

भारत और नेपाल एक दूसरे के काफी अच्छे पड़ोसी देश और नेपाल सबसे पुराना मित्र देश भी है, दोनों देशों के मध्य बहुत अच्छे व्यापारिक संबंध है। नेपाल-भारत द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने के लिए दोनों पड़ोसी देशों ने 30 जून को रेलवे सेवा समझौते में संशोधन किया है। 

लेटर ऑफ एक्सचेंज के संशोधित भाग के अनुसार, सभी अधिकृत निजी कंटेनर ट्रेन ऑपरेटर (भारतीय और साथ ही नेपाली) नेपाल के आयात या निर्यात के लिए माल ढुलाई के लिए भारतीय रेलवे नेटवर्क का उपयोग करने में सक्षम होंगे, जिससे भारत सरकार के स्वामित्व वाले कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (कॉनकार) का स्वामित्व समाप्त हो जाएगा। ये समझौता 2004 में हुआ था और दोनों पक्षों ने अतीत में कई बार इसमें संशोधन करने की कोशिश की है।

एक नेपाली अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, '' चूंकि देश यात्रियों और कार्गो सुविधाओं दोनों में सीमा पार से अधिक रेलवे सेवा का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं, समझौते को बिना किसी देरी के संशोधित करने की आवश्यकता थी।'' रिपोर्ट में कहा गया है कि यह उदारीकरण हिमालयी राष्ट्र में रेल-कंटेनर-फ्रेट सेगमेंट में बाजार की ताकतों को आने की अनुमति देगा, और मध्यम अवधि में परिवहन लागत को कम करने की संभावना है, जिससे नेपाली उपभोक्ता को लाभ होगा।

नया समझौता दोनों देशों के मंत्रिमंडलों के समर्थन के बाद लागू होगा। यह समझौता भारतीय रेलवे की माल सेवाओं को रक्सौल / बीरगंज के अलावा अन्य सीमा बिंदुओं से माल लाने और माल ले जाने की भी अनुमति देता है। नेपाली अधिकारियों के हवाले से कहा गया है, इस समझौते से विभिन्न भारतीय पोर्ट्स से सीमावर्ती नेपाली औद्योगिक क्षेत्रों तक सीमित कार्गो आवाजाही और सुविधाओं का दायरा बढ़ाया गया है।

जैसा कि नेपाल और भारत अधिक सीमा पार रेलवे नेटवर्क का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं, विशेषज्ञों और अधिकारियों ने कहा कि इस समझौते ने द्विपक्षीय व्यापार और पारगमन क्षेत्रों में सहयोग के नए रास्ते खोले हैं। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि नेपाली अधिकारियों, विशेषज्ञों और व्यापारिक समुदाय ने संशोधित समझौते का स्वागत किया है।

इसी तरह, संशोधित समझौता लागू होने के बाद, सभी प्रकार के वैगन जो भारत के भीतर भारतीय रेलवे नेटवर्क पर माल ढुलाई कर सकते हैं, वे भी नेपाल से माल ले जा सकते हैं। पहले यह सुविधा केवल कुछ प्रकार के वैगनों तक ही सीमित थी।

उदारीकरण विशेष रूप से ऑटोमोबाइल के लिए परिवहन लागत को कम करेगा जो विशेष वैगनों पर ले जाया जाता है। ये 2004 के रेलवे सेवा समझौते में सूचीबद्ध नहीं थे, क्योंकि वे तब मौजूद नहीं थे।

इस नई उदार नीति ने नेपाल रेलवे कंपनी के स्वामित्व वाली रेल/वैगनों को भारतीय रेलवे मानकों और प्रक्रियाओं के अनुसार भारतीय रेलवे नेटवर्क पर नेपाल-बाउंड फ्रेट (इनबाउंड और आउटबाउंड) संचालित करने के लिए अधिकृत किया। पहले इसकी अनुमति केवल भारतीय रेलवे/कॉनकॉर के स्वामित्व वाले वैगनों के लिए थी।

नेपाल के पूर्व वाणिज्य सचिव चंद्र घिमिरे ने अखबार को बताया कि नए समझौते पर हस्ताक्षर के साथ, 2014 से कॉनकॉर का एकाधिकार इस संशोधित समझौते के साथ समाप्त हो गया है। घिमिरे ने कहा कि चूंकि कॉनकॉर भी भारतीय कंपनियों के लिए काम कर रहा था, इसलिए उसने हमारे पक्ष पर कम ध्यान दिया।

भारत के साथ रेल सेवा समझौते के समय पर मूल्यांकन और संशोधन के अभाव में नेपाली व्यापारी लंबे समय से तीसरे देशों के साथ व्यापार करने में कठिनाइयों की शिकायत करते रहे हैं। अन्य देशों के साथ व्यापार में वृद्धि के साथ, नेपाल देश भर में सभी व्यापारिक बिंदुओं के लिए रेलवे सेवाओं के विस्तार की मांग कर रहा था।

समझौते के लागू होने के बाद, भारतीय निजी ऑपरेटर विशाखापत्तनम और कोलकाता बंदरगाहों से नेपाल जाने वाले माल का परिवहन कर सकते हैं, साथ ही अधिक बंदरगाहों से नेपाल को पश्चिमी और दूर-पश्चिमी नेपाल के प्रमुख सीमा शुल्क बिंदुओं के करीब भारतीय समुद्री बंदरगाहों का उपयोग करने की अनुमति मिलती है। वर्तमान में रेल माल का परिवहन केवल कोलकाता-रक्सौल/बीरगंज मार्ग पर ही किया जा सकता है।

दोनों देशों के बीच नियोजित चार और रेलवे लिंक के संचालन में आने के बाद नया समझौता अधिक महत्वपूर्ण होगा। इन चार क्रॉस लिंक में जोगबनी-विराटनगर, रूपैदिया-कोहलपुर, न्यू जलपाईगुड़ी-ककरभिट्टा और नौतनवा-भैरवाहा शामिल हैं। भारत के रक्सौल से काठमांडू तक रेल लाने के लिए एक व्यवहार्यता अध्ययन भी विचाराधीन है।