BREAKING NEWS

अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री से मुलाकात की ◾ओवैसी बोले- डराइए मत, शाह बोले- अगर डर जेहन में है तो क्या करें ◾मोदी ने असम के मुख्यमंत्री से फोन पर बात की, बाढ़ का हाल पूछा ◾Top 20 News -15 July : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾विश्वास मत के दौरान अनुपस्थित रह सकते है कर्नाटक के बागी विधायक ◾ बिहार में बाढ़ का कहर जारी, 55 प्रखंड के 18 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित ◾उदयपुर में बढ़ा तनाव : उग्र भीड़ ने दो रोडवेज बसें फूंकी, पुलिसकर्मियों पर किया पथराव◾लोकसभा में NIA संशोधन विधेयक 2019 को मिली मंजूरी◾सिद्धू के इस्तीफे पर बोले कैप्टन - यदि वह अपना काम नहीं करना चाहते, तो मैं कुछ नहीं कर सकता◾NIA कानून का इस्तेमाल शुद्ध रूप से आतंकवाद को खत्म करने के लिए ही करेंगे : अमित शाह ◾हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल नियुक्त हुए कलराज मिश्रा, आचार्य देवव्रत को भेजा गया गुजरात ◾ओवैसी को शाह की नसीहत, बोले - सुनने की भी आदत डालिए साहब, इस तरह से नहीं चलेगा◾बीजेपी ने CM कुमारस्वामी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की मांग की ◾सूरत रेप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की आसाराम की जमानत याचिका◾इलाहाबाद हाई कोर्ट से अगवा हुए युवक-युवती फतेहपुर से बरामद, अपहरणकर्ता गिरफ्तार ◾इलाहाबाद HC का आदेश, BJP विधायक की बेटी साक्षी और अजितेश को मिलेगी सुरक्षा◾बागी कर्नाटक विधायकों ने फिर लिखा पुलिस को पत्र, कहा- कांग्रेसी नेताओं से खतरा ◾हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत ढही , 6 जवान समेत सात लोगों की मौत◾चंद्रयान-2 का काउंटडाउन रोका गया , जल्द ही नई तारीख का होगा ऐलान !◾World Cup 2019 ENG vs NZ : स्टोक्स और ‘बाउंड्री’ के दम पर इंग्लैंड बना विश्व चैंपियन ◾

विदेश

अमेरिका सैनिकों की वापसी पर भी अफगानिस्तान को सहयोग देना जारी रख सकता है भारत: पेंटागन

वाशिंगटन :  अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर भी वहां तालिबान, पाकिस्तान और चीन का प्रभाव सीमित करने के लिए भारत द्वारा उसे (अफगानिस्तान को) वित्तीय और अन्य सहायता जारी रखने की संभावना है। 
शुक्रवार को अमेरिकी कांग्रेस को सौंपी गई अपनी ताजा रिपोर्ट में पेंटागन ने कहा कि अफगानिस्तान में सुरक्षा स्थिति काफी बिगड़ जाने के कारण उसे सहायता पहुंचाने की भारत की क्षमता पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है। 

गौरतलब है कि पिछले साल दिसंबर में ट्रंप ने घोषणा की थी कि अमेरिका अफगानिस्तान से अपने सैनिकों को वापस बुलाएगा। तालिबान को सत्ता से बेदखल करने के लिए अफगानिस्तान में किए अमेरिका नीत हमले के करीब 18 साल बाद भी अमेरिका के अब भी 14,000 सैनिक अफगानिस्तान में हैं। 

पेंटागन ने कहा है, ‘‘ अफगानिस्तान से अमेरिका के हटने की स्थिति में ऐसी संभावना है कि भारत अफगानिस्तान को अपना सहयेाग जारी रखने का प्रयास करेगा तथा तालिबान, पाकिस्तान और चीन का प्रभाव सीमित करने की कोशिश करेगा।’’ उसके अनुसार भारत अफगानिस्तान में एक ऐसी स्थिर सरकार चाहता है जो आतंकवादियों को पनाह नहीं दे क्योंकि वे भारत के हितों को निशाना बना सकते हैं। वह (भारत) अफगानिस्तान का पाकिस्तान से करीबी रिश्ता भी नहीं चाहेगा। 

पेंटागन ने कहा है कि 1990 के दशक में भारत ने पूर्व ‘‘नॉदर्न एलायंस’’ का समर्थन किया और वह अफगान की सत्ता में पैठ रखने वालों के संपर्क में रहा। उसने अफगान वायुसेना को 2015-16 में चार एम 35 और 2018 में चार एमआई 35 हेलीकॉप्टर दिए। उसने कहा, ‘‘ यह सहायता (अफगानिस्तान को) सिर्फ गैर घातक सैन्य सहायता पहुंचाने की भारत की पिछली नीति से अलग है।’’ 

हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अफगानिस्तान को भारतीय सहायता मुख्य तौर पर चार श्रेणियों पर केंद्रित है -- मानवीय सहायता, बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजनाएं, छोटे और समुदाय आधारित परियोजनाएं, शिक्षा एवं क्षमता निर्माण। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी नयी दक्षिण एशियाण रणनीति अगस्त 2017 में पेश की थी और अफगानिस्तान में शांति बहाल करने के लिए भारत से एक बड़ी भूमिका निभाने की अपील की थी।