BREAKING NEWS

कोविड अनुकंपा राशि के कम दावों पर SC ने जताई चिंता, कहा- मुआवजे के लिए प्रक्रिया को सरल बनाया जाए◾जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾कृषि कानूनों की वापसी का बिल लोकसभा में हुआ पारित, टिकैत बोले- यह तो होना ही था... आंदोलन रहेगा जारी ◾बिना चर्चा कृषि कानून बिल वापसी को विपक्ष ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन, मिला ये जवाब ◾प्रदूषण के मद्दे पर SC ने अपनाया सख्त रुख, कहा- राज्य दिशानिर्देश नहीं मानेंगे, तो हम करेंगे टास्क फोर्स का गठन ◾कांग्रेस का केंद्र पर निशाना -बिल वापसी नहीं हुई चर्चा क्योंकि सरकार को हिसाब और जवाब देना पड़ता◾पीएम मोदी ने निभाया किसानों को दिया वादा, लोकसभा में हंगामे के बीच पास हुआ कृषि कानून वापसी बिल ◾

भारत निभा रहा अपना पड़ोसी धर्म, श्रीलंका में कोरोना खतरे के बीच भेजी 150 टन ऑक्सीजन

दुनियाभर में कोरोना वायरस महामारी के कहर के बीच भारत ने अपने पड़ोसी देश श्रीलंका को लगातार मदद भेज रहा है। कोरोना काल के भयानक दौर में जब श्रीलंका को सहायता की जरूरत पड़ी, तो भारत आगे बढ़कर मदद करने को आया और कई आवश्यक उपकरण समेत कई दवाओं को मदद के तौर पर भैजा। इसी कड़ी में अब भारत ने कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर से निपटने में श्रीलंका की मदद के लिए करीब 150 टन और ऑक्सीजन भेजी है।

श्रीलंका ने कोविड-19 से होने वाली मौतों में वृद्धि और स्वास्थ्य देखभाल व्यवस्था पर बढ़ते दबाव के बीच शुक्रवार को अपना राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन 13 सितंबर तक बढ़ा दिया। कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने शनिवार को ट्वीट किया, ‘‘विशाखापत्तनम तथा चेन्नई से करीब 150 टन ऑक्सीजन लेकर आ रहा जहाज कोलंबो तट पर पहुंचा।’’
उसने कहा कि श्रीलंकाई राष्ट्रपति राजपक्षे से मदद के निजी अनुरोध के बाद भारत पिछले महीने के मध्य से श्रीलंका को ऑक्सीजन की तत्काल आपूर्ति कर रहा है। भारतीय नौसेना के जहाज शक्ति ने श्रीलंका की मदद के लिए उसे अगस्त में 100 टन तरलीकृत मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की थी। अप्रैल-मई 2020 में करीब 26 टन आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति भेंट स्वरूप दी गयी।
भारतीय उच्चायोग ने बताया कि भारत द्वारा जनवरी 2021 में दान दिए गए टीकों की पहली खेप के कारण श्रीलंका अपना टीकाकरण अभियान शुरू कर पाया। श्रीलंका में अभी संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। बृहस्पतिवार तक कोरोना वायरस के कारण 9,600 से अधिक लोगों की मौत हो गयी और संक्रमण के मामले बढ़कर 4,47,757 हो गए।