BREAKING NEWS

देश के शीर्ष पुलिस अधिकारियों का वार्षिक सम्मेलन आरंभ : महत्वपूर्ण मुद्दों पर होगी चर्चा ◾PM मोदी और शाह ने आंतरिक स्थिति की समीक्षा की◾Cyclone Burevi : 'निवार' के हफ्तेभर के अंदर चक्रवात बुरेवी मचाने आ रहा तबाही, PM मोदी ने पूरी मदद का दिलाया भरोसा दिलाया◾उप्र : बरेली में लव जिहाद के आरोप में पहली गिरफ्तारी, चार दिन पहले दर्ज हुआ था केस ◾केजरीवाल का खुलासा - स्टेडियमों को जेल बनाने के लिए डाला गया दबाव पर मैंने अपने जमीर की सुनी◾प्रदर्शनकारी किसानों ने केंद्र सरकार से कहा: कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाएं ◾ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिये मस्जिदों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर रोक लगाए केन्द्र : शिवसेना◾किसान आंदोलन को लेकर केजरीवाल का निशाना - क्या ईडी के दबाव में हैं पंजाब के CM 'कैप्टन अमरिंदर' ◾कैनबरा वनडे : आखिरी मैच जीत भारत ने बचाई लाज, आस्ट्रेलिया को 13 रनों से दी शिकस्त◾एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक को मिली जमानत, सुशांत केस में ड्रग्स लेन-देन का आरोप◾फिल्म उद्योग को मुंबई से बाहर ले जाने का कोई इरादा नहीं, ये खुली प्रतिस्पर्धा है : योगी आदित्यनाथ ◾राहुल ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- सरकार ‘बातचीत का ढकोसला’ बंद करे ◾किसान आंदोलन : राजस्थान में कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध की सुदबुदाहट, सीमा पर जुटने लगे किसान◾ सब्जियों के दामों पर दिखा किसान आंदोलन का असर, बाजारों में रेट बढ़ने के आसार ◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾योगी के मुंबई दौरे पर घमासान, मोहसिन रजा बोले - अंडरवर्ल्ड के जरिए बॉलीवुड को धमकाया जा रहा है ◾टकराव के बीच भी इंसानियत की मिसाल, प्रदर्शनकारियों के साथ - साथ पुलिसकर्मियों के लिए भी लंगर सेवा ◾ब्रिटेन ने फाइजर-बायोएनटेक की कोविड वैक्सीन को दी मंजूरी, अगले हफ्ते से शुरू होगा टीकाकरण◾किसान आंदोलन : आगे की रणनीति पर चल रही संगठनों की बैठक, गृह मंत्री के घर पर हाई लेवल मीटिंग ◾किसान आंदोलन को लेकर राहुल का केंद्र पर वार- यह ‘झूठ और सूट-बूट की सरकार’ है◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पाक के दावे झूठे, अफगानिस्तान में अशांति के लिए ‘डूरंड रेखा’ के पार से आतंकी गतिविधियां जिम्मेदार : भारत

भारत ने परोक्ष रूप से पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए संयुक्त राष्ट्र से कहा है कि अफगानिस्तान तभी सफल हो सकता है जब ‘डूरंड रेखा’ के पार से अब और आतंकवादी गतिविधियों का संचालन नहीं हो। भारत ने कहा कि आतंकवादियों को पनाह देने वालों की जवाबदेही तय होनी चाहिए और सुरक्षा परिषद को ऐसी ताकतों के खिलाफ स्पष्ट रूप से बोलना चाहिए।

डूरंड रेखा अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच 2,640 किलोमीटर लंबी सीमा है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि राजदूत टी एस तिरुमूर्ति ने शुक्रवार को कहा, ‘‘हमारा विचार है कि शांति प्रक्रिया और हिंसा साथ में नहीं चल सकते और हम तत्काल समग्र संघर्ष विराम का आह्वान करते हैं। अफगानिस्तान में दीर्घकालिक शांति के लिए हमें डूरंड रेखा के पार से संचालित आतंकवादियों की सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करना होगा।’’

‘अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया को समर्थन देने में सुरक्षा परिषद की भूमिका’ विषय पर आयोजित एरिया फॉर्मूला बैठक में उन्होंने कहा कि अलकायदा/दाएश प्रतिबंध समिति के तहत ‘एनालिटिकल सपोर्ट ऐंड सैंक्शन्स मॉनिटरिंग टीम’ की रिपोर्ट में यह रेखांकित किया गया है कि अफगानिस्तान में विदेश लड़ाके मौजूद हैं।

उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में हिंसा को खत्म करने के लिए आतंकवादियों की आपूर्ति श्रृंखला को तोड़ना होगा। तिरुमूर्ति ने कहा, ‘‘समय आ गया है कि सुरक्षा परिषद हिंसा और आतंकवादी ताकतों तथा कृत्यों के खिलाफ स्पष्ट रूप से बोले तथा आतंकवादी ठिकानों और उनकी सुरक्षित पनाहों के खिलाफ कार्रवाई करे।’’

उन्होंने किसी देश का नाम लिए बगैर कहा, ‘‘अफगानिस्तान तभी सफल हो सकता है जब डूरंड रेखा के पार से आतंकवादी गतिविधियों का संचालन नहीं हो। अफगानिस्तान के भविष्य को आकार देने में आतंकवाद और हिंसा की कोई भूमिका नहीं हो सकती। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि अफगानिस्तान या क्षेत्र के किसी अन्य देश को खतरा पहुंचाने वाले आतंकवादियों को कोई पनाह नहीं दे।’’

तिरुमूर्ति ने कहा कि आज अफगानिस्तान गंभीर स्थिति में है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय, खासतौर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के लिए सभी संबंधित पक्षों को सही संदेश भेजना महत्वपूर्ण है। भारतीय राजदूत ने इस बात पर भी जोर दिया कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय पिछले दो दशकों में मिले लाभों को गंवा नहीं सकता क्योंकि अब तक हुई प्रगति बहुत ही मेहनत से अर्जित की गयी है। उन्होंने कहा कि भारत 2001 से अफगानिस्तान में विकास, पुनर्निर्माण तथा क्षमता निर्माण के लिए तीन अरब डॉलर की सहायता के लिए प्रतिबद्ध है।

नगरोटा घटना पर भारत सख्त, विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान उच्चायोग को किया तलब