BREAKING NEWS

डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ की जाएगी सख्त कार्रवाई : CM केजरीवाल◾शिया वक्फ बोर्ड ने तबलीगी जमात पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- 1 लाख से ज्यादा लोग मारने की बनाई थी योजना◾कोरोना वायरस : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में आवश्यक उपकरणों का स्टॉक मौजूद, PPE और वेंटिलेटर की खरीद शुरु◾देश में कोरोना फैलने के लिए अनिल देशमुख ने दिल्ली पुलिस को ठहराया जिम्मेदार◾कोरोना संकट से जारी जंग में मदद के तौर पर केंद्र सरकार ने राज्यों के लिए आपात पैकेज की दी मंजूरी◾महाराष्ट्र कैबिनेट ने उद्धव ठाकरे को MLC बनाने का लिया निर्णय, राज्यपाल को भेजेंगे प्रस्ताव ◾कोरोना संकट : ओडिशा सरकार ने 30 अप्रैल तक बढ़ाई लॉकडाउन की अवधि, केंद्र से किया ये अनुरोध◾गुजरात में कोरोना के 55 नए मरीज, अकेले अहमदाबाद के 50 लोग हुए संक्रमित◾PM मोदी ने किया ट्रम्प का समर्थन, कहा- मुश्किल वक्त ही दोस्तों को लाती है करीब◾जमात प्रमुख मौलाना साद के ठिकाने का हुआ खुलासा, पुलिस फिलहाल नहीं करेगी पूछताछ ◾झारखंड में कोरोना वायरस से 1 की मौत, मरीजों की संख्या एक दिन में तिगुनी हुई ◾Coronavirus : अमेरिका में मरने वालों की संख्या 14000 के पार, 11 भारतीयों के मौत की पुष्टि◾चीन में कोविड-19 के 63 नए मामलें सामने आए, अबतक करीब 3,335 लोगों की हुई मौत ◾पूरे विश्व कोरोना वायरस का कहर जारी, अब तक वायरस से संक्रमितों की संख्या 15 लाख से अधिक हुई ◾कोविड-19 : देश में 5,734 संक्रमित मामलों की पुष्टि वहीं 166 लोगों की अब तक मौत◾Covid-19 : दवा मिलने पर भारत के फैसले से डोनाल्ड ट्रम्प के सुर बदले नजर आए, कहा- थैंक्यू PM मोदी ◾कोरोना संकट : सरकार ने 20 करोड़ महिलाओं के जनधन खातों में पांच-पांच सौ रूपये की सहायता राशि डाली ◾देश में कोरोना का कहर जारी, वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या पांच हजार के पार,140 से ज्यादा लोगों की मौत◾जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों के खिलाफ होगा मामला दर्ज, दिया हुआ समय-सीमा समाप्त : अनिल विज ◾Covid 19 : लखनऊ समेत 15 जिलों में चुनिंदा इलाकों को किया जायेगा सील◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत ने कहा सुरक्षा परिषद सुधार प्रारूप में सार्वभौमिक विचारों को जगह मिले

भारत ने कहा है कि सुरक्षा परिषद सुधारों से संबंधित मसौदे में देशों के विभिन्न भिन्न विचारों और अलग-अलग विकल्पों को शामिल किया जाना चाहिए और किसी को भी यह जिद नहीं करनी चाहिए कि उसके विचारों और विकल्पों को दूसरे पर तरजीह दी जाए। परिषद सुधारों पर अंतर सरकारी वार्ता (आईजीएन) में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, 'बहुपक्षवाद का पहला सिद्धांत समानता है।' आईजीएन का दो दिवसीय सत्र गुरुवार से शुरू हुआ।

अकबरुद्दीन ने कहा, 'हम केवल यह सुझाव दे रहे हैं कि हर किसी को अपने विकल्प एक दस्तावेज में पेश करने के लिए समान अवसर दिए जाने चाहिए।' उन्होंने कहा, 'कोई यह नहीं कह सकता कि उसके द्वारा जमा कराए गए सिद्धांतों पर पहले चर्चा की जानी चाहिए और बाकी पर उसके बाद में।' अकबरुद्दीन ने कहा, 'किसी निश्चित रुख का विरोध स्वभाविक है, लोकतांत्रिक है लेकिन प्रकिया को सामान्य बनाने का विरोध करना गलत है।' उन्होंने कहा, 'इस प्रक्रिया को सामान्य करने के मामले पर रोक लगाने की अनुमति से इस तंत्र की वैधता और विश्वसनीयता व संयुक्त राष्ट्र आम सभा को ही खतरा हो सकता है।' आईजीएन प्रक्रिया कम से कम पिछले एक दशक से पहली ही सीढ़ी पर इस कारण रुकी हुई है कि चर्चा के लिए आधार मुहैया करने वाले मसौदे में क्या होना चाहिए।

अकबरुद्दीन ने कहा, 'बातचीत का मसौदा इसकी स्पष्टता प्रदान करेगा कि हम कहां खड़े हैं, क्या विकल्प हैं, कौन क्या मांग रहा है और अंतर संबंध क्या हैं।'  उन्होंने कहा, 'दस्तावेज स्थिति एक सम्पूर्ण रूप से और पारदर्शी तरीका है कि हम आगे बढ़ने के लिए लिए आपसे क्या मांग रहे हैं।' उन्होंने कहा, 'यह हमारा मामला नहीं है कि जो दस्तावेज आपने बनाया है उसमें केवल एक विकल्प की जरूरत है। इसमें कई समूह, कई विकल्प को शामिल किया जा सकता है।'

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।