BREAKING NEWS

न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव◾शपथ लेते ही BJP पर बरसे नीतीश, कहा-2014 में जीतने वालों को 2024 की करनी चाहिए चिंता ◾60 वर्ष से अधिक उम्र की बहनों और माताओं के लिए बसों में निःशुल्क यात्रा योजना जल्द आएगी : CM योगी ◾ गुजरात भाजपा में फूट के संकेत ! मतभेद की खबर पकड़ रही हैं जोर◾निर्माणाधीन टंकी का लेंटर गिरने से 19 मजदूर मलबे में दबे◾राकांपा प्रमुख शरद पवार ने बीजेपी पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- सहयोगियों को धीरे-धीरे खत्म कर रही है भाजपा ◾सुशील मोदी ने राजद को चेताया, कहा - नीतीश कुमार पार्टी तोड़ने की करेंगे कोशिश ◾बिहार में फिर से लौटा तेजस्वी- नीतीश युग, राजभवन में दोनों नेताओं ने ली गोपनीयता की शपथ ◾भारत व चीन की सीमा पर पकड़ा गया मानसिक रूप से अस्वस्थ्य व्यक्ति, सीमा सुरक्षा पर खड़ा होता है सवाल ◾बिहार की सियासी बयार पर प्रशांत किशोर का तंज, कहा-आशा है अब राज्य में राजनीतिक स्थिरता लौटे◾स्वतंत्र देव सिंह के इस्तीफे के बाद केशव प्रसाद मौर्य बन सकते है विधान परिषद के नेता◾बिहार में फिर से लौटा तेजस्वी- नीतीश युग, राजभवन में दोनों नेताओं ने ली गोपनीयता की शपथ ◾नीतीश को लालू की शुभकामनांए , शपथ से पहले दोनों नेताओं ने फोन पर की बातचीत◾

भारत समुद्री क्षेत्र से लेकर अंतिरक्ष तक फ्रांस को विश्वस्त भागीदार के तौर पर देखता है : जयशंकर

फ्रांस की यात्रा पर गए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि फ्रांस के साथ भारत के संबंध विश्वास पर आधारित हैं और यह ऐसा रिश्ता है जो अन्य मामलों में देखे गए अचानक बदलावों से मुक्त रहा है। पेरिस में एक थिंक टैंक में दिए संबोधन में जयंशकर ने कहा कि भारत और फ्रांस हिंद-प्रशांत क्षेत्र में देशों के लिए बेहतर विकल्प पैदा करने और उन्हें संप्रभु बनाने का इरादा रखते हैं और उन्हें न तो कभी किसी वर्चस्व के अधीन रखना चाहिए और न ही इस बनाम उस की शक्ति प्रतिस्पर्धा में फंसाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत रक्षा और उद्योग के क्षेत्रों में फ्रांस को एक अहम साझेदार के तौर पर देखता है तथा भारत में सहयोगात्मक रक्षा उद्यमों के लिए महत्वाकांक्षी विचारों को तलाशा जा रहा है जो हिंद-प्रशांत में भी साझा हितों का समर्थन करेंगे। विदेश मंत्री ने कहा कि भारत समुद्री क्षेत्र से लेकर अंतिरक्ष और साइबर से लेकर महासागरों तक में सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए फ्रांस को विश्वस्त भागीदार के तौर पर देखता है।

भारत के फ्रांस के साथ संबंध स्थिरता के साथ बढ़ रहे है : एस जयशंकर 

विदेश मंत्री ने मंगलवार को ‘फ्रेंच इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल रिलेशंस’ में कहा, हमारे दौर के उथल पुथल से गुजरते हुए भारत के फ्रांस के साथ संबंध स्थिरता के साथ बढ़ रहे है। यह ऐसा रिश्ता है जो अचानक आए बदलावों से मुक्त है जो कई बार हमने दूसरे मामलों में देखा है। जयशंकर ने कहा, भारत में रिश्तों में विश्वास और आत्म विश्वास की बड़ी भावना है। यह इसकी महत्ता पर दृढ़ राजनीतिक सहमति से लाभान्वित है। मुझे लगता है कि हमने फ्रांस में भी यही देखा है। उन्होंने कहा कि फ्रांस अहम मुद्दों पर अपना रुख रखने से कभी नहीं हिचकिचाता और हठधर्मिता न होने से भारत जैसे उभरती शक्ति के साथ मजबूत भागीदारी बनाने में मदद मिली है। उन्होंने कहा, हमने यह देखा, उदाहरण के लिए जब भी वैश्विक परमाणु व्यवस्था में भारत को स्थान देने जैसे जटिल मुद्दो की बात आती है।

फ्रांस का भारत की सामरिक सोच के विकास में महत्वपूर्ण प्रभाव रहा है : विदेश मंत्री 

जयशंकर ने कहा कि फ्रांस का भारत की सामरिक सोच के विकास में महत्वपूर्ण प्रभाव रहा है खासतौर से उसकी परमाणु शक्ति के व्यवहार में। उन्होंने कहा कि भारत को असैन्य परमाणु ऊर्जा में अंतरराष्ट्रीय सहयोग बहाल करने के लिए 2008 में परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह से छूट दिलाने में फ्रांस की अहम भूमिका रही। हिंद-प्रशांत क्षेत्र का जिक्र करते हुए जयशंकर ने कहा कि वहां घटनाक्रम का यूरोप समेत दुनियाभर में सीधा असर पड़ेगा। उन्होंने कहा, नियम आधारित व्यवस्था की विश्वसनीयता और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था की प्रभाविता दांव पर लगी है। भारत इस क्षेत्र के सामरिक केंद्र में है। फ्रांस व्यापक ईईजेड (विशेष आर्थिक क्षेत्र) के साथ इसके दो छोरों का प्रतिनिधित्व करता है।

दोनों देश मुक्त, खुले और समावेशी क्षेत्र का आह्वान करते हैं : जयशंकर 

विदेश मंत्री ने कहा कि भारत, फ्रांस को हिंद-प्रशांत क्षेत्र में रहने वाली शक्ति के तौर पर देखता है उन्होंने कहा, ‘‘हम दोनों मुक्त, खुले और समावेशी क्षेत्र का आह्वान करते हैं। हमारी क्षेत्र में स्थिरता और सुरक्षा के लिए तथा चुनौतियों से निपटने के लिए सकारात्मक एजेंडे के साथ कई, आपस में जुड़ी साझेदारियां हैं। यूरोपीय संघ से भारत को जोड़ने के लिए फ्रांस को एक 'महत्वपूर्ण सेतु' बताते हुए जयशंकर ने कहा कि व्यापार और निवेश पर भारत तथा यूरोपीय संघ के बीच बातचीत शुरू करने के लिए आज फ्रांस से सहयोग की उम्मीद की जाती है। उन्होंने कहा कि फ्रांस उन देशों में से एक है जिनके साथ भारत प्राथमिकता के आधार पर रक्षा क्षेत्र में औद्योगिक आत्म निर्भरता बनाना चाहता है।