BREAKING NEWS

कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾बेघर लोगों के लिए रैन बसेरों और स्कूलों में ठहरने का किया गया इंतजाम : मनीष सिसोदिया◾कोविड-19 : केरल में कोरोना वायरस से पहली मौत, देश में अबतक 20 लोगों की गई जान ◾

हथियारों तथा रक्षा उपकरण प्रौद्योगिकी में सहयोग करेंगे भारत-अमेरिका

नई दिल्ली : भारत और अमेरिका ने अत्याधुनिक हथियारों तथा रक्षा उपकरणों की प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग बढाने के लिए आज यहां विचार- विमर्श किया। भारत-अमेरिका रक्षा प्रौद्योगिकी और व्यापार उपक्रम (डीटीटीआई) के अंतर एजेन्सी कार्यबल की यहां आठवीं बैठक हुई जिसकी अध्यक्षता एकीकृत रक्षा स्टाफ के उप प्रमुख वाइस एडमिरल ए के जैन और अमेरिकी प्रतिनिधि मैथ्यू वारेन ने की। डीटीटीआई की अवधारणा का विचार सबसे पहले अमेरिका के पूर्व रक्षा मंत्री डा एश्टन कार्टर ने 2012 में रखा था।

डीटीटीआई का उद्देश्य दोनों देशों के नेतृत्व का ध्यान रक्षा क्षेत्र में द्विपक्षीय व्यापार पर केन्द्रित रखना है जिससे कि रक्षा उपकरणों के सह उत्पादन और संयुक्त विकास की संभावनाओं का पता लगाकर उन पर काम किया जा सके। इसे देखते हुए दोनों देशों ने सशस्त्र सेनाओं की विभिन्न रियोजनाओं के लिए कई संयुक्त कार्य दलों का गठन किया। इन दलों की परियोजनाओं पर चर्चा के लिए नियमित बैठकें होती हैं। अमेरिका ने पिछले वर्ष राष्ट्रीय रक्षा अधिकार अधिनियम के तहत भारत को प्रमुख रक्षा साझीदार घोषित किया था जिससे डीटीटीआई की व्यवस्था को बल मिला है।

वाइस एडमिरल जैन ने इस मौके पर कहा कि भारत का रक्षा उद्योग निरंतर बढ रहा है और वह हथियारों तथा रक्षा उपकरणों की प्रौद्योगिकी हासिल करने की दिशा में काम कर रहा है। इससे सरकार की मेक इन इंडिया योजना को भी बढावा मिलेगा। श्री वारेन ने कहा कि दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग निरंतर बढ रहा है और दोनों इस मामले में डीटीटीआई के महत्व को समझते हैं। उन्होंने कहा कि यह परस्पर सहयोग बढाने के लिए अच्छा मंच है।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ।