BREAKING NEWS

नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली फिर हो जाएगी लॉकडाउन की शिकार? जानें क्या है सरकार की तैयारी ◾यूपी : सपा और रालोद प्रमुख की आज मेरठ में संयुक्त रैली, सीट बटवारें को लेकर कर सकते है घोषणा ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज, प्रदूषण को कम करने के लिए किया जा रहा है पानी का छिड़काव ◾विश्व में वैक्सीनेशन के बावजूद बढ़ रहे है कोरोना के आंकड़े, मरीजों की संख्या हुई इतनी ◾सदस्यीय समिति को अभी तक सरकार से नहीं हुई कोई सूचना प्राप्त,आगे की रणनीति के लिए आज किसान करेंगे बैठक ◾ पीएम मोदी आज गोरखपुर को 9600 करोड़ रूपये की देंगे सौगात, खाद कारखाना और AIIMS का करेंगे लोकार्पण◾रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने भारत को एक बहुत बड़ी शक्ति, वक्त की कसौटी पर खरा उतरा मित्र बताया◾पंजाब के मुख्यमंत्री ने पाकिस्तान के साथ सीमा व्यापार खोलने की वकालत की◾महाराष्ट्र में आए ओमिक्रॉन के 2 और नए केस, जानिए अब कितनी हैं देश में नए वैरिएंट की कुल संख्या◾

भारत-US ने हिंद-प्रशांत और क्षेत्रीय मुद्दों पर की चर्चा, दोनों देश ने प्रमुख रक्षा भागीदारी में नया अध्याय शुरू किया

 भारत और अमेरिका ने ‘टू प्लस टू’ वार्ता से पहले सुरक्षा संबंधों के विस्तार के रूप में 'समान विचारधारा वाले भागीदारों' के साथ भारत-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की है। अमेरिका रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय पेंटागन ने बताया कि दोनों देशों के अधिकारियों ने इस साल के अंत में होने वाली ‘टू-प्लस-टू’ मंत्रिस्तरीय वार्ता का आधार तैयार करने के लिए एक बैठक की।

US और भारत ने प्रमुख रक्षा भागीदारी में एक नया अध्याय शुरू किया

शुक्रवार को हुई बैठक की सह-अध्यक्षता रक्षा सचिव अजय कुमार और नीति के लिए अवर रक्षा मंत्री कॉलिन कहल ने की। पेंटागन ने कहा कि अमेरिका-भारत रक्षा नीति समूह की 16वीं बैठक ने इस साल के अंत में होने वाली महत्वपू्र्ण ‘टू-प्लस-टू’ मंत्रिस्तरीय वार्ता का आधार तैयार किया। इसके साथ ही अमेरिका और भारत ने प्रमुख रक्षा भागीदारी में एक नया अध्याय शुरू किया।

अमेरिका और भारत के बीच फलते-फूलते रक्षा संबंधों को दर्शाता है

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल एंटन टी सेमलरॉथ ने कहा, “वार्ता ने द्विपक्षीय प्राथमिकताओं की एक महत्वाकांक्षी व्यवस्था को आगे बढ़ाया जिसमें सूचना-साझेदारी, उच्च गुणवत्ता का समुद्री सहयोग, साजो-सामान और रक्षा व्यापार शामिल है, जो अमेरिका और भारत के बीच फलते-फूलते रक्षा संबंधों को दर्शाता है।” उन्होंने बताया कि अमेरिकी और भारतीय अधिकारियों ने दक्षिण एशिया और हिंद महासागर क्षेत्र सहित साझा हित के क्षेत्रीय मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया। 

सहयोग और साथ मिलकर काम करने की क्षमता को गहरा करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को मजबूत किया

उन्होंने स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत को बनाए रखने के लिए समान विचारधारा वाले भागीदारों के साथ सहयोग बढ़ाने के अवसरों पर भी चर्चा की।सेमलरॉथ ने कहा, “नेताओं ने अंतरिक्ष और साइबर जैसे नए रक्षा क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत करने सहित एक साथ निर्बाध रूप से अधिक काम करने के लिए अमेरिका और भारतीय सेनाओं के बीच संयुक्त सहयोग और साथ मिलकर काम करने की क्षमता को गहरा करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को मजबूत किया।”

भारत और अमेरिका के बीच ‘टू-प्लस-टू’ वार्ता इस साल नवंबर में होगी

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने पिछले महीने कहा था कि भारत और अमेरिका के बीच ‘टू-प्लस-टू’ वार्ता इस साल नवंबर में होगी । इसकी पिछली बैठक नयी दिल्ली में हुई थी और अगली बैठक अमेरिका द्वारा आयोजित की जानी है। बातचीत दोनों पक्षों के विदेश और रक्षा मंत्रियों के बीच होती है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने पिछले महीने क्वाड नेताओं के पहले-प्रत्यक्ष मौजूदगी वाले शिखर सम्मेलन की मेजबानी की, जिसने स्वतंत्र, खुले, समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए प्रयास करने की प्रतिबद्धता जताई। इससे चीन को स्पष्ट तौर पर एक संदेश दिया गया। चीन पूरे दक्षिण चीन सागर पर अपनी संप्रभुता का दावा करता है। वियतनाम, मलेशिया, फिलीपीन, ब्रुनेई और ताइवान भी इसपर अपना-अपना दावा करते हैं।

मोदी ने डेनमार्क की PM का राष्ट्रपति भवन में किया वेलकम, मेटे फ्रेडरिकसन बोली- यह बातचीत मील का पत्थर होगी साबित